NDTV Khabar

Raag desh


'Raag desh' - 4 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Movie Review: इतिहास और देशभक्ति की कहानी कहती 'राग देश'

    Movie Review: इतिहास और देशभक्ति की कहानी कहती 'राग देश'

    इस शुक्रवार रिलीज हुई फिल्म 'राग देश' की कहानी इर्द गिर्द घूमती है साल 1945 में आजाद हिन्द फौज के तीन जवान और ब्रिटिश शासन के. फिल्म में ब्रिटिश इंडियन आर्मी के तीन जवानों, शहनवाज खान, गुरबक्श सिंह ढिल्लन और कर्नल प्रेम सहगल के ऊपर देशद्रोह और हत्या का आरोप लगाकर मुकदमा चलाया जाता है, क्योंकि इन तीन जवानों ने दूसरे विश्‍वयुद्ध के दौरान ब्रिटिश इंडियन आर्मी छोड़कर आई एन ए यानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की इंडियन नेशनल आर्मी को जॉइन कर लिया था.

  • सेंसर बोर्ड के पक्षपातपूर्ण रवैये पर आपत्ति है मुझे : तिग्मांशु धूलिया

    सेंसर बोर्ड के पक्षपातपूर्ण रवैये पर आपत्ति है मुझे : तिग्मांशु धूलिया

    फिल्म निर्देशक तिग्मांशु धूलिया का कहना है कि उन्हें केंद्रीय फिल्म प्रमाणन समिति (सीबीएफसी) के दिशा-निर्देशों से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन उन्हें सीबीएफसी के पक्षपातपूर्व रवैये से परेशानी है. धूलिया ने आईएएनएस को बताया, 'सीबीएफसी के दिशा-निर्देशों से मुझे कोई शिकायत नहीं है.

  • संसद में रिलीज हुआ तिग्‍मांशु धूलिया की फिल्‍म 'राग देश' का ट्रेलर

    संसद में रिलीज हुआ तिग्‍मांशु धूलिया की फिल्‍म 'राग देश' का ट्रेलर

    निर्देशक तिग्मांशु धूलिया की फिल्म 'राग देश' का ट्रेलर आज देश की संसद में रिलीज किया गया है. ऐसा पहली बार है जब किसी फिल्म का ट्रेलर संसद में रिलीज हुआ है. कुणाल कपूर, अमित साथ और मोहित मारवाह की फिल्म 'राग देश' 1945 में हुए मशहूर रेड फोर्ट ट्रायल्स पर आधारित है.

  • बॉक्‍स ऑफिस पर टकरा रही हैं दो भाइयों की फिल्‍म, लेकिन इन्‍हें कोई टेंशन ही नहीं...

    बॉक्‍स ऑफिस पर टकरा रही हैं दो भाइयों की फिल्‍म, लेकिन इन्‍हें कोई टेंशन ही नहीं...

    अभिनेता मोहित मारवाह की फिल्म 'राग देश' और उनके चचेरे भाई अर्जुन कपूर की 'मुबारंका' एक साथ 28 जुलाई को रिलीज हो रही है. वैसे तो अक्‍सर बॉलीवुड सितारे बॉक्‍स ऑफिस पर होने वाली इन टक्‍करों को लेकर काफी परेशान रहते हैं, लेकिन मोहित ऐसा महसूस नहीं करते. अनिल कपूर के भतीजे मोहित मारवाह अपने चाचा और भाई की फिल्‍म से अपनी फिल्‍म के टकराने से बिलकुल टेंशन में नहीं हैं क्‍योंकि उनका कहना है कि जब परिवार की बात आती है तो प्रतिस्पर्धा नहीं होती

Advertisement