NDTV Khabar

Rafale Fighter Plane


'Rafale fighter plane' - 14 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • राफेल से पाकिस्तान परेशान, भारत को याद दिलाया वादा

    राफेल से पाकिस्तान परेशान, भारत को याद दिलाया वादा

    भारत के पास राफेल फाइटर प्लेन आ जाने के बाद से पड़ोसी मुल्कों खासकर पाकिस्तान काफी परेशान है. वहीं लद्दाख में तरह-तरह की चालबाजियां कर रहे चीन ने अभी तक इस मामले में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. लेकिन पाकिस्तान इससे खासाा परेशान दिख रहा है और वह भारत को अंतरराष्ट्रीय मंचों में किए गए वादों को याद दिला रहा है. इसमें कोई दो राय नहीं है कि राफेल के पास जो तकनीकी ताकत है उसका मुकाबला करने के लिए न तो चीन और न ही पाकिस्तान के पास ऐसा कोई विमान है. राफेल विमान अपनी ही सीमा पर रहकर कई सैकड़ो किलोमीटर दूर तक निशाना साध सकता है. उसमें लगने वाली हमर मिसाइल पहाड़ों में बंकर बनाकर छिपे दुश्मन को तबाह कर सकती हैं. लद्दाख, सियाचीन जहां चीन और पाकिस्तान की हमेशा नजरें रहती हैं, इन इलाकों के लिए राफेल विमान एक अचूक हथियार साबित होता दिख रहा है. काफी कम समय और भारत की जरूरतों के देखते हुए फ्रांस ने इन विमानों को भारत के लिए मुहैया करा दिया है. ये पूरा सौदा 36 विमानों के लिए हुआ जिसकी कुल कीमत 60 हजार करोड़ के आसपास है. हालांकि यह रक्षा सौदा भी विवादों से अछूता नहीं रह पाया है. 

  • NEWS FLASH: सरकार के अगले एजेंडे में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण और समान नागरिक संहिता को लाना होना चाहिए: उद्धव

    NEWS FLASH: सरकार के अगले एजेंडे में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण और समान नागरिक संहिता को लाना होना चाहिए: उद्धव

    देश-दुनिया की राजनीति, खेल एवं मनोरंजन जगत से जुड़े समाचार इसी एक पेज पर जानें...

  • राफेल मिलने के बाद पेरिस में ही रक्षा मंत्री करेंगे 'शस्त्र पूजन', भरेंगे लड़ाकू विमान में उड़ान

    राफेल मिलने के बाद पेरिस में ही रक्षा मंत्री करेंगे 'शस्त्र पूजन', भरेंगे लड़ाकू विमान में उड़ान

    भारत को मंगलवार को पेरिस में अपना पहला लड़ाकू विमान मिलने जा रहा है. इसी दिन दशहरा है और इस खास मौके पर राफेल मिलने के बाद रक्षामंत्री राजनाथ सिंह शस्त्र पूजन करेंगे.

  • 'ऑपरेशन बालाकोट' में अगर भारतीय वायुसेना के पास होता राफेल, पढ़ें इस खतरनाक विमान की 10 खासियतें

    'ऑपरेशन बालाकोट' में अगर भारतीय वायुसेना के पास होता राफेल, पढ़ें इस खतरनाक विमान की 10 खासियतें

    पाकिस्तान से संचालित हो रहे आतंकी शिविरों पर 'ऑपरेशन बालाकोट' के तहत कार्रवाई और बाद की घटनाओं के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि देश राफेल की कमी महसूस कर रहा है और अगर भारत के पास ये लड़ाकू विमान होते तो कुछ और ही बात होती. उन्होंने एक मीडिया हाउस के कार्यक्रम में कहा 'राफेल पर स्वार्थनीति और अब राजनीति के कारण देश का बहुत नुकसान हुआ. राफेल की कमी आज देश ने महसूस की है.

  • विवादों के बीच 3 राफेल लड़ाकू विमान भारत में हुए लैंड, बेंगलुरु में एयरो शो में लेंगे हिस्सा, देखें VIDEO

    विवादों के बीच 3 राफेल लड़ाकू विमान भारत में हुए लैंड, बेंगलुरु में एयरो शो में लेंगे हिस्सा, देखें VIDEO

    मोदी सरकार और विपक्ष में राफेल विमान सौदों के लेकर तमाम आरोप-प्रत्यारोप के बीच फ्रांस के वायुसेना के तीन राफेल फाइटर प्लेन भारत पहुंच चुका है.

  • झूठ के आसमान में रफाल की कीमतों का उड़ता सच- हिन्दू की रिपोर्ट

    झूठ के आसमान में रफाल की कीमतों का उड़ता सच- हिन्दू की रिपोर्ट

    मोदी सरकार का तर्क रहता है कि भारत और फ्रांस के बीच जो करार हुआ है उसकी गोपनीयता की शर्तों के कारण कीमत नहीं बता सकते. मगर उस करार में कहा गया है कि गोपनीयता की शर्तें रक्षा से संबंधित बातों तक ही सीमित हैं. यानी कीमत बताई जा सकती है. कीमत क्लासिफाइड सूचना नहीं है. विवाद से पहले जब डील हुई थी तब सेना और सिविल अधिकारियों ने मीडिया को ब्रीफ किया था और बकायदा कीमत बताई थी.

  • राफेल डील पर घमासान, सरकार की चुनौती के बाद कांग्रेस 2 जनवरी को चर्चा के लिये तैयार

    राफेल डील पर घमासान, सरकार की चुनौती के बाद कांग्रेस 2 जनवरी को चर्चा के लिये तैयार

    राफेल डील पर मचा विवाद (Rafale Deal) थमने का नाम नहीं ले रहा है. कांग्रेस ने लोकसभा में सोमवार को एक बार फिर राफेल सौदे का मुद्दा उठाया और इसमें कथित तौर पर घोटाले का आरोप लगाते हुए कहा कि वह इस मुद्दे पर दो जनवरी को चर्चा करने के लिए तैयार है. सरकार की तरफ से कहा गया कि वह पहले से ही राफेल मुद्दे (Rafale Deal) पर चर्चा करने को कह रही है लेकिन कांग्रेस बार-बार ‘झूठ’ बोलकर चर्चा से भागती रही है.

  • फ्रांस्वा ओलांद अपने बयान पर कायम, कहा- मोदी सरकार में नए फॉर्मूले के तहत रिलायंस का नाम तय हुआ

    फ्रांस्वा ओलांद अपने बयान पर कायम, कहा- मोदी सरकार में नए फॉर्मूले के तहत रिलायंस का नाम तय हुआ

    Rafale Deal: फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद (François Hollande) ने एनडीटीवी से इस बात की पुष्टि की है कि अनिल अंबानी के रिलायंस समूह को भारत सरकार के कहने पर चुना गया .ओलांद के दफ्तर की तरफ से एनडीटीवी को फ्रांस में दी गई सूचना में साफ किया गया है कि ऑफसेट पार्टनर के तौर पर रिलायंस को लेकर हमारे पास कोई विकल्प नहीं था.

  • राफेल डील पर फ्रांस्वा ओलांद के खुलासे के बाद फ्रांस सरकार ने दिया बयान

    राफेल डील पर फ्रांस्वा ओलांद के खुलासे के बाद फ्रांस सरकार ने दिया बयान

    राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के ख़ुलासे के बाद इस मामले पर फ्रांस ने बयान दिया है. कहा कि फ्रांस की सरकार किसी भी तरह से फ्रेंच कंपनी की ओर से चुनी गई, चुनी जा रही या जाने वाले भारतीय पार्टनर के चयन में शामिल नहीं है.

  • अब राफेल का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, चीफ जस्टिस ने कहा- हम सुनवाई को तैयार, मगर अगले हफ्ते

    अब राफेल का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, चीफ जस्टिस ने कहा- हम सुनवाई को तैयार, मगर अगले हफ्ते

    मोदी सरकार और विपक्ष के बीच में तकरार की वजह बनी राफेल का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है.

  • क्या है राफेल डील और क्यों इसको लेकर भाजपा-कांग्रेस हैं आमने-सामने, 10 बड़ी बातें

    क्या है राफेल डील और क्यों इसको लेकर भाजपा-कांग्रेस हैं आमने-सामने, 10 बड़ी बातें

    लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारत - फ्रांस के बीच राफेल लड़ाकू विमान के सौदे का मुद्दा जोरशोर से उठाया और सरकार पर करारा हमला बोला. उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने इस बारे में देश से झूठ भी बोला है. हालांकि बाद में राहुल गांधी के इस बयान पर हंगामा हुआ. रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने तथ्य पेश किये और थोड़ी देर में ही फ्रांस सरकार ने भी बयान जारी कर अपना पक्ष रखा. फ्रांस ने कहा कि भारत के साथ 2008 में किया गया सुरक्षा समझौता गोपनीय है और दोनों देशों के बीच रक्षा उपकरणों की संचालन क्षमताओं के संबंध में इस गोपनीयता की रक्षा करना कानूनी रूप से बाध्यकारी है. आपको बता दें कि राफेल डील के मुद्दे पर पहले से ही कांग्रेस और भाजपा के बीच जुबानी जंग चलती रही है. कांग्रेस लगातार लड़ाकू विमानों की कीमत में बढ़ोतरी और अपारदर्शिता का आरोप लगाती रही है. जबकि भाजपा ने इससे इनकार किया है. आइये आपको बताते हैं कि आखिर क्या है 'राफेल डील'  और क्यों छिड़ा है इस पर विवाद. 

  • वायु सेना में लड़ाकू विमानों की कमी पर संसदीय समिति चिंतित

    वायु सेना में लड़ाकू विमानों की कमी पर संसदीय समिति चिंतित

    संसद की एक समिति ने कहा है कि वायु सेना में लड़ाकू विमानों की कमी को लेकर वह लम्बे समय से चिंतित रही है और उसे उम्मीद है कि इस स्थिति को दूर किया जायेगा अन्यथा विमानों की मौजूदा संख्या में और कमी आयेगी.

  • मेक इन इंडिया : मुमकिन है, बोईंग भारत में ही बनाए लड़ाकू विमान और चॉपर

    मेक इन इंडिया : मुमकिन है, बोईंग भारत में ही बनाए लड़ाकू विमान और चॉपर

    NDTV को दिए एक खास साक्षात्कार में बोईंग के चेयरमैन जेम्स मैकनर्नी (James McNerney) ने कहा है कि उनकी कंपनी भारत में लड़ाकू विमान का निर्माण करने के लिए तैयार है, और उससे "भारत को भी वह तकनीक मिल जाएगी, जिसका निर्माण के क्षेत्र में कहीं भी इस्तेमाल किया जा सकेगा..."

  • भविष्य में रफाल करारों पर दोनों सरकारों के बीच ही होगी सीधी बातचीत : रक्षामंत्री पर्रिकर

    भविष्य में रफाल करारों पर दोनों सरकारों के बीच ही होगी सीधी बातचीत : रक्षामंत्री पर्रिकर

    रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने सोमवार को कहा कि फ्रांसीसी रफाल लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए भविष्य में होने वाली सभी बातचीत सीधे तौर पर दोनों सरकारों के बीच ही होगी और विमान निर्माताओं से कोई सीधी बातचीत नहीं होगी।

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com