NDTV Khabar

Rakesh asthana fir


'Rakesh asthana fir' - 5 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • दिल्ली हाई कोर्ट से CBI के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को झटका : FIR रद्द करने की मांग खारिज, गिरफ्तारी पर लगी अंतरिम रोक भी हटाई

    दिल्ली हाई कोर्ट से CBI के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को झटका : FIR रद्द करने की मांग खारिज, गिरफ्तारी पर लगी अंतरिम रोक भी हटाई

    दिल्ली हाई कोर्ट से सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को बड़ा झटका मिला है. दिल्ली हाई कोर्ट ने राकेश अस्थाना की याचिका रद्द कर दी है.

  • अब CBI के एडिशनल एसपी पहुंचे कोर्ट, कहा- राकेश अस्थाना पर FIR बिलकुल सही, घूसखोरी के पुख़्ता सबूत

    अब CBI के एडिशनल एसपी पहुंचे कोर्ट, कहा- राकेश अस्थाना पर FIR बिलकुल सही, घूसखोरी के पुख़्ता सबूत

    सीबीआई विवाद (CBI Row) थमता नहीं दिख रहा है. अब स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana) के खिलाफ सीबीआई के एडिशनल SP एसएस गुरम ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है. एसएस गुरम ने अपनी याचिका में दावा किया है कि स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं. रॉ के सामंत गोयल भी इसकी कड़ी हैंं. राकेश अस्थाना को दिसबंर 2017 में 2.95 करोड़ रुपये दिए गए. फिर घूस के तौर पर 36 लाख रुपये और दिया गया. 

  • कांग्रेस का पीएम मोदी पर हमला, कहा- CBI की प्रतिष्ठा गिराने के लिए जिम्मेदार, संस्था के कामकाज में जबरन हस्तक्षेप कर रहे हैं

    कांग्रेस का पीएम मोदी पर हमला, कहा- CBI की प्रतिष्ठा गिराने के लिए जिम्मेदार, संस्था के कामकाज में जबरन हस्तक्षेप कर रहे हैं

    दिल्ली उच्च न्यायालय ने सीबीआई को निर्देश दिया कि वह एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ शुरू की गई आपराधिक कार्यवाही में यथास्थिति बरकरार रखे जबकि एक निचली अदालत ने घूस लेने के आरोप में गिरफ्तार किये गए एजेंसी के डीएसपी देवेंद्र सिंह को सात दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया.

  • CBI में घूसखोरी कांडः सीबीआई चीफ आलोक वर्मा ने लिखा सरकार को पत्र, सस्पेंड हो सकते हैं राकेश अस्थाना

    CBI में घूसखोरी कांडः सीबीआई चीफ आलोक वर्मा ने लिखा सरकार को पत्र, सस्पेंड हो सकते हैं राकेश अस्थाना

     सीबीआई(CBI) चीफ आलोक वर्मा (Alok Verma) अपने नंबर दो यानी स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana) के निलंबन की दिशा में आगे बढ़े हैं. इसकी तैयारी उन्होंने एक पत्र के जरिए की है. एनडीटीवी को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हाल में आलोक वर्मा की ओर से सरकार को एक पत्र भेजा गया है , जिसमें राकेश अस्थाना के सस्पेंशन की बात कहते हुए उन्हें 'नैतिक पतन का एक स्रोत' बताया गया था. देश की शीर्ष जांच एजेंसी में दो आला अफसरों के बीच जारी कलह की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दखल देना पड़ा है. घटना पर पीएमओ के चिंतित होने के बाद दोनों अफसरों को समन भी जारी हुआ.जिसके बाद सीबीआई चीफ आलोक वर्मा सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिले.हालांकि पीएमओ की मीटिंग में भी सीबीआई में जारी विवाद खत्म करने को लेकर बात नहीं बन सकी. बता दें कि सीबीआई ने अपने स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ दो करोड़ रुपये के कथित घूस के मामले में केस दर्ज किया है, जिन्होंने कुछ दिन पहले सीबीआई चीफ के खिलाफ दर्जनों आरोप लगाते हुए सरकार को पत्र लिखा था. जानिए केस से जुड़ीं 10 अहम बातें

  • CBI के 'टॉप' बॉस क्यों हैं आमने-सामने, राकेश अस्थाना पर क्यों दर्ज हुआ मामला, जानें पूरा घटनाक्रम 

    CBI के 'टॉप' बॉस क्यों हैं आमने-सामने, राकेश अस्थाना पर क्यों दर्ज हुआ मामला, जानें पूरा घटनाक्रम 

    CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा और CBI के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के बीच चल रही 'नूराकुश्ती' अब खुलकर सामने आ गई है. खुद CBI ने ही राकेश अस्थाना के ख़िलाफ़ एक FIR दायर कर दी है. इस FIR में अस्थाना पर मीट कारोबारी मोइन क़ुरैशी के मामले में जांच के घेरे में चल रहे एक कारोबारी सतीश सना से दो करोड़ रुपए की रिश्वत लेने का आरोप है. दूसरी तरफ, अस्थाना ने पलटवार करते हुए सीबीआई चीफ आलोक वर्मा पर ही रिश्वखोरी का आरोपी लगाया है. इस पूरे मामले में सीबीआई ने अपने चीफ का पक्ष लिया है और अस्थाना के आरोपों को झूठा करार दिया है. 

Advertisement