NDTV Khabar

Ravish kumar


'Ravish kumar' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • एग्जिट पोल पर बना प्राइम टाइम क्यों ट्रेंड कर रहा है?

    एग्जिट पोल पर बना प्राइम टाइम क्यों ट्रेंड कर रहा है?

    मेरा शुरू से मानना रहा है कि संडे से बड़ी ख़बर कुछ नहीं होती. संडे घर पर रहने के लिए होता है. संडे को कुछ भी हो एंकरिंग करने नहीं जाना चाहिए. मैं ख़ुद को इतना महत्वपूर्ण नहीं समझना चाहता कि बिग ब्रेकिंग न्यूज़ में कुर्सी छेंक कर बैठ जाएं. दस साल की एंकरिंग में मैंने ख़ुद से किया यह वादा निभा दिया.

  • एग्ज़िट पोल्स को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं...

    एग्ज़िट पोल्स को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं...

    एग्ज़िट पोल पर अब ऐसी कोई बात नहीं है जो कही जा सकती है. टीवी में मुश्किल यही है कि जब सारी बात कह जा चुकी हो तो फिर से उसे कैसे कहें. दरअसल यही टीवी है. एग्जिट पोल के बाद सारे चैनलों को 22 तारीख की आधी रात तक वैसे ही ग़ायब हो जाना चाहिए जैसे एग्ज़िट पोल शुरू होते ही नमो टीवी अपने आप ग़ायब हो गया है.

  • एग्जिट पोल के आंकड़ों पर रवीश कुमार का विश्‍लेषण

    एग्जिट पोल के आंकड़ों पर रवीश कुमार का विश्‍लेषण

    शुक्रिया एग्ज़िट पोल का. एग्ज़िट पोल के नतीजे बता रहे हैं कि मोदी लहर धुंआधार है. हर सर्वे में बीजेपी प्लस की सरकार आराम से बन रही है. यह पूरी तरह आप पर है कि आप एग्ज़िट पोल पर भरोसा करते हैं या नहीं करते हैं. दोनों ही स्थितियों में एग्ज़िट पोल वालों पर कोई फर्क नहीं पड़ता है. यह ज़रूर है कि 23 तारीख तक आप टीवी पर कुछ नहीं देख पाएंगे

  • शिव का अनादर है प्रधानमंत्री का लाल कालीन पर चलकर उन तक जाना...

    शिव का अनादर है प्रधानमंत्री का लाल कालीन पर चलकर उन तक जाना...

    सब कुछ ड्रामा जैसा लगता है. सारा ड्रामा इस यक़ीन पर आधारित है कि जनता मूर्ख है. उसे किसी बादशाह पर बनी फिल्म दिखाओ या ऐसा कुछ करो कि जनता को लगे कि वह किसी बादशाह को देख रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ गए हैं. पूरी यात्रा को एक सेट में बदल दिया गया है ताकि न्यूज़ चैनलों पर लगातार कवरेज़ हो सके.

  • रवीश कुमार का ब्लॉग: चुनाव आयोग में बगावत, आयोग की बैठकों में शामिल होने से आयुक्त अशोक लवासा का इनकार

    रवीश कुमार का ब्लॉग: चुनाव आयोग में बगावत, आयोग की बैठकों में शामिल होने से आयुक्त अशोक लवासा का इनकार

    उनकी असहमतियों को दर्ज नहीं किया जा रहा है. संपूर्ण बैठक में तीनों आयुक्त शामिल होते हैं. हर बात दर्ज की जाती है. मगर यह ख़बर हर भारतीय को परेशान करनी चाहिए कि आयोग के भीतर कहीं कोई खेल तो नहीं चल रहा है.

  • इस चुनाव में फ़ेक न्यूज़ का कितना असर रहा...

    इस चुनाव में फ़ेक न्यूज़ का कितना असर रहा...

    वैसे व्हाट्सएप ग्रुप में एग्ज़िट पोल तो कब से चल रहा है. खासकर पत्रकारों के, जो अपने हिसाब से किसी राज्य में चार सीट कम कर देते हैं तो चालीस सीट बढ़ा देते हैं. कई लोग किनारे ले जाकर पूछते हैं कि अकेले में बता दो किसकी सरकार बनेगी, सही बात है कि हमें नहीं मालूम है. इस चुनाव की एक ख़ास बात यह रही कि इंटरव्यू की ख़ासियत समाप्त हो गई. जो नेता अपने इंटरव्यू में जवाब नहीं दे रहे थे, वो दूसरे नेता के इंटरव्यू का मज़ाक उड़ा रहे थे

  • गोडसे को हीरो बताने के पीछे राजनीति क्या है?

    गोडसे को हीरो बताने के पीछे राजनीति क्या है?

    इस बात को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए. सोचा जाना चाहिए और पूछा जाना चाहिए कि वो कौन सी शक्तियां हैं, वो कौन से लोग हैं और वो लोग किस राजनीतिक खेमे के साथ नज़र आते हैं जो बार-बार गांधी के हत्यारे को अवतार बताने चले आते हैं. पहली बार नहीं हुआ है जब गोडसे को देशभक्त बताया गया है. भोपाल से बीजेपी की उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर ने कहा है कि नाथूराम गोडसे देशभक्त है. आतंकवादी नहीं है.

  • बिहार के नियोजित शिक्षकों के नाम रवीश कुमार का पत्र

    बिहार के नियोजित शिक्षकों के नाम रवीश कुमार का पत्र

    अब मैं जो उन्हें कहना चाहता हूं, उन्हें ध्यान से सुनना चाहिए. उन्हें देखना चाहिए कि इस मुद्दे को लेकर नैतिक बल और आत्म बल है या नहीं. गांधी को पढ़ना चाहिए. अगर उन्हें लगता है कि उनका मुद्दा सही है. नैतिकता के पैमाने पर सही है तो उन्हें सत्याग्रह का रास्ता चुनना चाहिए. बार-बार बताने की ज़रूरत नहीं है कि वे साढ़े तीन लाख से अधिक हैं. अगर हैं तो इनमें से एक-एक को गांधी मैदान में जमा हो जाना चाहिए और सत्याग्रह करना चाहिए. सत्याग्रह क्या है, इसके बारे में अध्ययन करना चाहिए. पांच हज़ार की रैली को नेता दिन भर ट्विट करते रहते हैं कि जन-सैलाब उमड़ गया है. सोचिए, अगर आपने लाखों की संख्या में जमा होकर सत्याग्रह कर दिया तो क्या होगा. यह फ़ैसला तभी करें जब सभी साढ़े तीन लाख शिक्षक सत्याग्रह के लिए तैयार हों. सत्याग्रह के लिए तभी तैयार हों जब उन्हें लगे कि उनके साथ अन्याय हुआ है. यह ध्यान में रखें कि उनकी बात को सुप्रीम कोर्ट ने सुना है. कमेटी बनवाई है. राज्य सरकार की कमेटी को भी शिक्षकों के साथ बात करनी पड़ी है. तो उनके पक्ष के बारे में भी सोचें और फिर भी लगता है कि यह ग़लत हुआ है तो मुझे मेसेज न करें. किसी मीडिया को मेसेज न करें. बल्कि मैंने तो कहा है कि आप टीवी देखना बंद कीजिए. अख़बार पढ़ना बंद कीजिए. आपने अपने केस में देख लिया कि जब आप परेशान हुए तो इनके छापने और नहीं छापने से आपकी समस्या पर कोई फर्क नहीं पड़ा. इसलिए फर्क नहीं पड़ता है कि क्योंकि आपमें नैतिक बल और आत्मबल नहीं है.

  • बंगाल पर चुनाव आयोग का ऐतिहासिक फैसला

    बंगाल पर चुनाव आयोग का ऐतिहासिक फैसला

    भारत के चुनावी इतिहास में पहली बार चुनाव आयोग ने आर्टिकल 324 के तहत मिले अधिकार का इस्तेमाल करते हुए पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार 20 घंटे पहले ही ख़त्म करने का फ़ैसला किया है... यानी गुरुवार रात दस बजे के बाद पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार नहीं होगा जबकि इसे शुक्रवार शाम पांच बजे बंद होना था. ये ध्यान दिया जाना ज़रूरी है कि कल बंगाल में प्रधानमंत्री मोदी की दो रैलियां हैं. माथुरपुर लोकसभा क्षेत्र में शाम पौने पांच बजे और दमदम में शाम साढ़े छह बजे प्रधानमंत्री रैली करेंगे.

  • ऐसे हास्यास्पद दावे क्यों करते हैं मोदी?

    ऐसे हास्यास्पद दावे क्यों करते हैं मोदी?

    दुनिया में डिजिटल कैमरा कब आया, दुनिया में आने के बाद भारत कब आया, दुनिया में ईमेल कब लॉन्‍च हुआ और भारत में ईमेल कब लॉन्‍च हुआ. प्रधानमंत्री ने जब से एक इंटरव्यू में जवाब दिया है 2019 के चुनाव का आखिरी चरण क्विज़ शो में बदल गया है. जितने भी लोग इस सवाल को लेकर टेंशन में थे कि कौन जीतेगा, बीजेपी को कितनी सीटें आएंगी, यूपी में महागठबंधन का क्या होगा, वे सारे लोग डिजिटल कैमरा कब आया, यह पता लगाने में व्यस्त हैं.

  • 'न्यूज़ छपती है कि नहीं लोकतंत्र में सिर्फ यही एक चीज़ नहीं है' - मोदी

    'न्यूज़ छपती है कि नहीं लोकतंत्र में सिर्फ यही एक चीज़ नहीं है' - मोदी

    प्रधानमंत्री ने यह बात इंडियन एक्सप्रेस के रवीश तिवारी और राजमकल झा से कही है. यह इंटरव्यू 12 मई को छपा है. इस इंटरव्यू में प्रधानमंत्री इंडियन एक्सप्रेस को कई बार पत्रकारिता को लेकर लेक्चर देते हैं. एक्सप्रेस के पत्रकार काउंटर सवाल नहीं करते हैं. ऐसा लगता है कि उन्होंने सुनाने के लिए एक्सप्रेस को बुलाया है. वे यह नहीं बताते हैं कि एक्सप्रेस की कौन सी ख़बर ग़लत थी मगर यह बताना नहीं भूलते हैं कि कौन सी ख़बर उसने नहीं की. किसी प्रधानमंत्री का यह कहना है कि न्यूज़ का छपना ही लोकतंत्र में एक मात्र काम नहीं है, डरावना है. आपको डरना चाहिए कि फिर जनता कितने अंधेरे में होगी.

  • समय के साथ-साथ कितने बदले हैं राहुल गांधी?

    समय के साथ-साथ कितने बदले हैं राहुल गांधी?

    2014 से लेकर 2019 के बीच राहुल गांधी के अंदर बहुत बदलाव आया है. इस चुनाव के दौरान राहुल गांधी ने कई इंटरव्यू दिए है. शुक्रवार को राहुल गांधी ने एनडीटीवी के रवीश कुमार को इंटरव्यू दिया. मध्य प्रदेश के सुजालपुर में यह इंटरव्यू हुआ. इंटरव्यू के लिए मैं भी रवीश कुमार के साथ ट्रेवल कर रहा था. हम सबके मन में एक सवाल यह भी था क्या राहुल गांधी लाइव इंटरव्यू देंगे? समय के मुताबिक राहुल गांधी सुजालपुर पहुंचते है फिर कार्यक्रम शुरू होता है. स्टेज पर कमल नाथ समेत कई बड़े नेता मौजूद थे. मेरी नजर राहुल गांधी पर थी, यह पहला मौका था जब मैं राहुल गांधी को करीब से देख रहा था. राहुल के हावभाव पर मेरी नजर थी. मैं राहुल गांधी का आत्मविश्वास को मापने में लगा हुआ था.

  • राहुल गांधी ने रवीश कुमार को दिया इंटरव्यू, तो इस बॉलीवुड एक्टर ने दिए इतने स्टार

    राहुल गांधी ने रवीश कुमार को दिया इंटरव्यू, तो इस बॉलीवुड एक्टर ने दिए इतने स्टार

    कमाल आर खान (Kamaal R Khan) ने अपने ट्विटर अकाउंट में इस इंटरव्यू का जिक्र करते हुए लिखा कि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) अपने हर इंटरव्यू में शानदार तरीके से सवालों का जवाब दे रहे हैं. निकट भविष्य में वह देश के अच्छे राजनेताओं में गिने जाएंगे. जोकि इस देश को और बेहतर तरीके से चलाने के काबिल होगा.

  • Exclusive: राहुल गांधी ने रवीश कुमार से कहा, नरेंद्र मोदी का समय बीत गया, इस बार वो नहीं आ रहे - पूरा इंटरव्‍यू

    Exclusive: राहुल गांधी ने रवीश कुमार से कहा, नरेंद्र मोदी का समय बीत गया, इस बार वो नहीं आ रहे - पूरा इंटरव्‍यू

    Lok Sabha Polls 2019: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एनडीटीवी के मैनेजिंग एडिटर रवीश कुमार को इंटरव्यू दिया. इस दौरान उन्होंने कई मुद्दों से जुड़े सवालों पर बेबाक जवाब दिया. यहां पढ़िए पूरा इंटरव्यू.

  • रवीश कुमार से राहुल गांधी बोले-आरएसएस के लोगों के खिलाफ हिंसा होगी तो उनकी भी करूंगा मदद

    रवीश कुमार से राहुल गांधी बोले-आरएसएस के लोगों के खिलाफ हिंसा होगी तो उनकी भी करूंगा मदद

    कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि अगर आरएसएस के लोगों के खिलाफ भी हिंसा का प्रयोग होगा मैं उनकी मदद करूंगा.

  • जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से रवीश कुमार ने पूछ लिया उनकी डिग्री पर सवाल

    जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से रवीश कुमार ने पूछ लिया उनकी डिग्री पर सवाल

    कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की डिग्री को लेकर कई बार विवाद हो चुका है. हालांकि चुनाव आयोग की ओर से उनको क्लीन चिट मिल गई है. इसी मुद्दे पर रवीश कुमार ने जब राहुल गांधी से सवाल पूछा तो कहा कि मेरे पास एमफिल की डिग्री है. जब चाहें तब दिखा सकता हूं. आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के शाजापुर में राहुल गांधी ने एनडीटीवी के मैनेजिंग एडिटर रवीश कुमार से खास बातचीत की है और कई मुद्दों पर जवाब दिए हैं.  जम्मू-कश्मीर का उदाहरण देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि हमनें रणनीतिक तरीके से काम किया. हर बात जनता को नहीं बताई जा सकती है. हमने सोच-समझकर काम किया. मनमोहन सिंह जी ने जो काम 90 के दशक में किया और बाद में किया उसी से देश यहां तक पहुंचा. भाषण से काम नहीं चलता है. राहुल गांधी ने कहा कि जब हमारी सरकार थी तो मैंने डॉ. मनमोहन सिंह जी को वादा किया था कि मैं सरकार में दखल नहीं दूंगा. कांग्रेस अध्यक्ष को भी यही कहा था.  मैंने पहले ही आश्वस्त कर दिया था कि मैं कांग्रेस को मजबूत करूंगा, मगर सरकार में काम नहीं करूंगा. उन्होंने कहा कि अब 23 मई को जो जनता तय करेगी कि मेरी भूमिका क्या हो. वही करूंगा. अभी कोई फैसला नहीं लिया है. 

  • राहुल गांधी ने रवीश कुमार से कहा, मायावती देश में एक सिंबल, मैं उनका सम्मान करता हूं

    राहुल गांधी ने रवीश कुमार से कहा, मायावती देश में एक सिंबल, मैं उनका सम्मान करता हूं

    लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) की सरगर्मियों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एनडीटीवी के रवीश कुमार से खास बातचीत की. इस दौरान बीएसपी प्रमुख मायावती द्वारा कांग्रेस पर किये जा रहे हमलों पर राहुल गांधी (Rahul Gandhi)  ने कहा कि मायावती जी देश में एक सिंबल हैं. उन्होंने देश में एक संदेश दिया. मैं उनका आदर करता हूं, सम्मान करता हूं, उनसे प्यार करता हूं.

  • नरेंद्र मोदी 18 घंटे काम करते हैं, आप छुट्टी पर चले जाते हैं? रवीश कुमार के इस सवाल पर क्या बोले राहुल गांधी, इंटरव्यू की 6 बड़ी बातें

    नरेंद्र मोदी 18 घंटे काम करते हैं, आप छुट्टी पर चले जाते हैं? रवीश कुमार के इस सवाल पर क्या बोले राहुल गांधी, इंटरव्यू की 6 बड़ी बातें

    लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) की सरगर्मियों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एनडीटीवी को इंटरव्यू दिया. एनडीटीवी के रवीश कुमार से बातचीत के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि जो विचारधारा देश में नफरत फैला रही है और संविधान पर आक्रमण कर रही है उससे लड़ाई है. मेरी लड़ाई बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा से है. इनकी विचारधारा संविधान को खत्म करना चाहती है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी, पीएम पद की दावेदारी, राफेल से लेकर मायावती और किसानों के मुद्दे पर रवीश कुमार के हर सवाल का जवाब दिया.

Advertisement