NDTV Khabar

Rbi monetary policy


'Rbi monetary policy' - 52 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Wipro के चेयरमैन अजीम प्रेमजी 30 जुलाई को होंगे रिटायर, 53 साल तक संभाली कंपनी की जिम्मेदारी

    Wipro के चेयरमैन अजीम प्रेमजी 30 जुलाई को होंगे रिटायर, 53 साल तक संभाली कंपनी की जिम्मेदारी

    विप्रो (wipro) के चेयरमैन अजीम प्रेमजी (Azim Premji) ने गुरुवार को रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया. 73 साल के अजीम प्रेमजी (Azim Premji) 30 जुलाई को रिटायर हो जाएंगे. विप्रो (wipro) ने गुरुवार को बयान जारी कर कहा कि अजीम प्रेमजी गैर-कार्यकारी निदेशक और संस्थापक चेयरमैन के रूप में निदेशक मंडल में बने रहेंगे.

  • रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती की, होम लोन हो सकता है सस्ता

    रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती की, होम लोन हो सकता है सस्ता

    रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति की बैठक में रेपो रेट को में कटौती का फैसला लिया गया है. रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती की है, जिससे अब रेपो रेट 6.5 फीसदी से घटकर 6.25 फीसदी हो गया है.

  • मौद्रिक नीति समीक्षा में RBI ने नहीं किया रेपो रेट में कोई बदलाव

    मौद्रिक नीति समीक्षा में RBI ने नहीं किया रेपो रेट में कोई बदलाव

    रेपो रेट 6.5 फीसदी पर बरकरार रहा है और रिवर्स रेपो रेट भी 6.25 फीसदी पर ही बरकरार रहेगा. जून से केंद्रीय बैंक ने नीतिगत दरों में लगातार दो बार इजाफा किया है. उसके बाद अक्टूबर में केंद्रीय बैंक ने बाजार को हैरान करते हुए ब्याज दरों को यथावत रखा था. हालांकि रुपए में गिरावट तथा कच्चे तेल की ऊंची कीमतों की वजह से मुद्रास्फीतिक दबाव के चलते उम्मीद की जा रही थी कि ब्याज दरों में इजाफा होगी. उस समय रेपो दर को 6.50 प्रतिशत पर कायम रखा गया था.

  • आरबीआई ने जारी की मौद्रिक समीक्षा : प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं, रेपो दर 6.5 फीसदी पर बरकरार

    आरबीआई ने जारी की मौद्रिक समीक्षा : प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं, रेपो दर 6.5 फीसदी पर बरकरार

    भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने शुक्रवार को वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी मौद्रिक समीक्षा में प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया. रेपो दर 6.5 फीसदी पर बरकरार है.

  • RBI Monetary Policy: रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं, 6.5 फीसदी पर बरकरार

    RBI Monetary Policy: रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं, 6.5 फीसदी पर बरकरार

    लिक्विडिटी एडजस्टमेंट फैसिलिटी के तहत रिजर्व बैंक ने पॉलिसी रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया है और यह 6.5 फीसदी पर बरकरार है. 

  • RBI की क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान आज, कर्ज लेना सस्‍ता होगा या महंगा? 10 बातें

    RBI की क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान आज, कर्ज लेना सस्‍ता होगा या महंगा? 10 बातें

    मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिवसीय बैठक सोमवार से शुरू हुई थी. भारत में खुदरा महंगाई दर दोबारा पांच फीसदी के स्तर को पार कर गई है इसलिए उम्मीद की जा रही है कि इस बैठक में मौद्रिक नीति को लेकर सख्त रवैया अपनाया जा सकता है.

  • रिजर्व बैंक ने मुद्रास्फीति अनुमान में मामूली वृद्धि की

    रिजर्व बैंक ने मुद्रास्फीति अनुमान में मामूली वृद्धि की

    रिजर्व बैंक ने वैश्विक बाजार में कच्चे तेल के दाम बढ़ने पर चालू वित्त वर्ष में मुद्रास्फीति के बारे में अपने पहले के अनुमान को आज मामूली रूप से बढ़ा दिया. मौद्रिक नीति समिति की तीन दिन चली बैठक के बाद जारी वक्तव्य में रिजर्व बैंक ने कहा है कि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा मुद्रास्फीति अप्रैल में तेजी से बढ़कर 4.6 प्रतिशत पर पहुंच गई. इस दौरान खाद्य , ईंधन को छोड़कर अन्य समूहों में तीव्र वृद्धि का इसमें अधिक योगदान रहा. 

  • लोन हो जाएंगे महंगे, आरबीआई ने रेपो रेट 0.25 प्रतिशत बढ़ाया

    लोन हो जाएंगे महंगे, आरबीआई ने रेपो रेट 0.25 प्रतिशत बढ़ाया

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिन से जारी बैठक आज खत्म हुई. इस बैठक के बाद आरबीआई ने रेपो रेट 0.25 बेसिस प्वाइंट से बढ़ा दिया है. अब यह 6.25 प्रतिशत हो गया है. अब यह तय है कि इससे सभी लोन महंगे हो जाएंगे.

  • आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक आज होगी खत्म, नई दरें हो सकती हैं जारी

    आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक आज होगी खत्म, नई दरें हो सकती हैं जारी

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिन से जारी बैठक के निष्कर्षों पर पेट्रोलियम उत्पादों में तेजी का असर पड़ सकता है. एमपीसी की बैठक चार जून से जारी है और आज इस चर्चा का समापन होगा. रिजर्व बैंक ने एक बयान में कहा था, ‘‘एमपीसी की 2018-19 की दूसरी द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा के लिये 4-6 जून को बैठक होगी. एमपीसी के निर्णय को छह जून 2018 को दोपहर 2.30 मिनट पर वेबसाइट पर डाला जाएगा.’’

  • रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति के निर्णयों पर ईंधन के दाम का असर झलक सकता है

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति के निर्णयों पर ईंधन के दाम का असर झलक सकता है

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की अगली बैठक के निष्कषों पर पेट्रोलियम उत्पादों में तेजी का असर पड़ सकता है. एमपीसी की बैठक चार से शुरू होगी और तीन दिन चलेगी.  यह पहला मौका है जब प्रशासनिक जरूरतों के कारण मौद्रिक नीति समिति की बैठक तीन दिन चलेगी. सामान्य स्थिति में समिति मौद्रिक नीति की घोषणा से पहले दो महीने में दो दिन के लिये बैठक करती है. 

  • आरबीआई ने मौद्रिक समीक्षा बैठक की अवधि बढ़ाई, 4 जून से शुरू

    आरबीआई ने मौद्रिक समीक्षा बैठक की अवधि बढ़ाई, 4 जून से शुरू

    भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की दो दिवसीय बैठक एक दिन पहले 4 जून से शुरू होगी और " कुछ प्रशासनिक जरुरतों " की वजह से इसकी अवधि को दो से बढ़ाकर तीन दिन किया गया है. पहली बार एमपीसी की बैठक, दो दिन के बजाए तीन दिन होगी.

  • रिजर्व बैंक अगली नीतिगत बैठक में बदल सकता है मौद्रिक नीति का रुख

    रिजर्व बैंक अगली नीतिगत बैठक में बदल सकता है मौद्रिक नीति का रुख

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की पिछली बैठक के ब्यौरे से इस बात के संकेत मिलते हैं कि जून में होने वाली बैठक में मौद्रिक नीति के रुख में बदलाव आ सकता है. अप्रैल में हुई अंतिम बैठक के ब्यौरे के अनुसार, रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने 4-5 जून को होने वाली अगली नीतिगत बैठक में मौद्रिक रुख में बदलाव का पक्ष लिया.

  • अगली नीतिगत बैठक में बदल सकता है मौद्रिक नीति का रुख रिजर्ब बैंक

    अगली नीतिगत बैठक में बदल सकता है मौद्रिक नीति का रुख रिजर्ब बैंक

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की पिछली बैठक के ब्यौरे से इस बात के संकेत मिलते हैं कि जून में होने वाली बैठक में मौद्रिक नीति के रुख में बदलाव आ सकता है. अप्रैल में हुई अंतिम बैठक के ब्यौरे के अनुसार, रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने 4-5 जून को होने वाली अगली नीतिगत बैठक में मौद्रिक रुख में बदलाव का पक्ष लिया.

  • अगर आपने भी अप्रैल 2016 से पहले होम लोन लिया है तो ये पढ़ लें...

    अगर आपने भी अप्रैल 2016 से पहले होम लोन लिया है तो ये पढ़ लें...

    भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों को एक अप्रैल से आधार दर को कोष की सीमान्त लागत आधारित (एमसीएलआर) ऋण दर से जोड़ने को कहा है. माना जा रहा है कि इस कदम से पुराने होम लोन कुछ सस्ते हो सकते हैं.

  • RBI ने रेपो रेट को 6 फीसदी पर कायम रखा, वृद्धि दर का अनुमान घटाया, मुद्रास्फीति का बढ़ाया

    RBI ने रेपो रेट को 6 फीसदी पर कायम रखा, वृद्धि दर का अनुमान घटाया, मुद्रास्फीति का बढ़ाया

    भारतीय रिजर्व बैंक ने बुधवार को लगातार तीसरी बार द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा में मुख्य नीतिगत दर (रेपो रेट) को छह प्रतिशत पर कायम रखा है. केंद्रीय बैंक का मानना है कि सरकार के ऊंचे खर्च से मुद्रास्फीति बढ़ेगी. इसके साथ ही उसने राजकोषीय घाटे के जोखिमों को लेकर भी चिंता जताई है. चालू वित्त वर्ष की छठी और आखिरी द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा में रिजर्व बैंक ने अपने रुख को तटस्थ रखा है.

  • सस्ते नहीं होंगे कर्ज, RBI ने नहीं घटाई प्रमुख ब्याज दरें

    सस्ते नहीं होंगे कर्ज, RBI ने नहीं घटाई प्रमुख ब्याज दरें

    भारतीय रिज़र्व बैंक, यानी RBI या रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया की मौद्रिक नीति समिति (MPC या मॉनीटरी पॉलिसी कमेटी) ने प्रमुख ब्याज दरों में इस बार भी कोई बदलाव नहीं किया है, जिससे रेपो रेट छह फीसदी पर, रिवर्स रेपो रेट 5.75 फीसदी पर और सीआरआर चार फीसदी पर बरकरार रहे. वैसे, विशेषज्ञों ने पहले ही अनुमान लगा लिया था कि ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा, और अब बदलाव नहीं होने से सभी तरह के कर्ज़ों की ब्याज दरें घटने की उम्मीदें अगली समीक्षा तक टल गई हैं.

  • 10 प्वॉइंट में समझें रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा की खास बातें

    10 प्वॉइंट में समझें रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा की खास बातें

    रिजर्व बैंक ने बुधवार को मौद्रिक नीति की समीक्षा में की. ब्याज दरों में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर दी है, जिससे रेपो रेट घटकर 6 प्रतिशत रह गया है. आरबीआई ने रेपो रेट को 0.25 प्रतिशत घटाकर सात साल के सबसे निचले स्तर 6.0 फीसदी पर ला दिया है. रिवर्स रेपो रेट में भी 0.25 प्रतिशत की कटौती किए जाने से यह 5.75 फीसदी रह गया है. अब होम लोन तथा अन्य प्रकार के कर्ज लेने वाले लोगों को राहत मिलेगी. अब बारी बैंक की होगी और उम्मीद है कि वे ब्याज दरों में कमी करेंगे.

  • RBI की मौद्रिक समीक्षा : सस्ते हो सकते हैं होम लोन, रेपो रेट में .25% की कटौती

    RBI की मौद्रिक समीक्षा : सस्ते हो सकते हैं होम लोन,  रेपो रेट में .25% की कटौती

    रिजर्व बैंक ने अपनी मौद्रिक नीति की समीक्षा में ब्याज दरों में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर दी है, जिससे रेपो रेट घटकर 6 प्रतिशत रह गया है.