NDTV Khabar

Repo Rate News in Hindi


'Repo rate' - 65 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • RBI ने नहीं किया प्रमुख दरों में बदलाव, चौथी तिमाही तक GDP दर पॉज़िटिव होने का जताया अनुमान

    RBI ने नहीं किया प्रमुख दरों में बदलाव, चौथी तिमाही तक GDP दर पॉज़िटिव होने का जताया अनुमान

    महामारी के बाद पहली बार GDP अनुमान देते हुए रिजर्व बैंक ने GDP के वित्तवर्ष 2020-21 में 9.5 फीसदी सिकुड़ने की आशंका जताई.

  • RBI Monetary Policy : क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान आज, क्या स्थिर रहेंगी दरें?

    RBI Monetary Policy : क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान आज, क्या स्थिर रहेंगी दरें?

    इस बार माना जा रहा है कि आरबीआई रेट में कटौती की घोषणा शायद ही करे क्योंकि उसका जोर बढ़ी हुई महंगाई को कम करने पर रह सकता है. कोविड-19 के चलते लगे प्रतिबंध हटने के बावजूद फूड सेक्टर में महंगाई लेवल से ऊपर चल रही है. 

  • RBI Monetary Policy: रेपो रेट और अन्य अहम दरों में कोई बदलाव नहीं

    RBI Monetary Policy: रेपो रेट और अन्य अहम दरों में कोई बदलाव नहीं

    भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने छह-सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति (MPC) की तीन-दिवसीय बैठक के बाद गुरुवार को मुख्य दर, यानी रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किए जाने की घोषणा की. रेपो रेट को चार फीसदी पर बरकरार रखा गया है.

  • बैंकरों ने कहा, रिजर्व बैंक के रेपो दर घटाने से अर्थव्यवस्था को मिलेगी मदद

    बैंकरों ने कहा, रिजर्व बैंक के रेपो दर घटाने से अर्थव्यवस्था को मिलेगी मदद

    रिजर्व बैंक ने अप्रत्याशित कदम उठाते हुये शुक्रवार को रेपो दर में 0.40 प्रतिशत की कटौती की. केंद्रीय बैंक ने कर्ज की किस्तें चुकाने में तीन महीने की और राहत दे दी. इसे अब बढ़ाकर 31 अगस्त 2020 तक कर दिया. इसके साथ ही आरबीआई ने बैंकों के लिये कॉरपोरेट को कर्ज देने की सीमा उनकी नेटवर्थ के मौजूदा 25 प्रतिशत के स्तर से बढ़ाकर 30 प्रतिशत कर दी है. रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि रेपो दर में 0.40 प्रतिशत की कटौती की गयी है और यह दर अब चार प्रतिशत पर आ गयी है, जो कि 2000 के बाद का इसका निचला स्तर है.

  • कोरोना संकट के बीच बोले RBI गवर्नर शक्तिकांत दास, '2020-21 में नेगेटिव में जा सकती है GDP'

    कोरोना संकट के बीच बोले RBI गवर्नर शक्तिकांत दास, '2020-21 में नेगेटिव में जा सकती है GDP'

    कोरोनावायरस (Coronavirus) से जंग के बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने एक बार फिर रेपो रेट, रिवर्स रेपो रेट व ब्याज दर में कटौती की है. इतना ही नहीं, RBI गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने आज (शुक्रवार) मीडिया ब्रीफिंग के दौरान अनुमान जताते हुए कहा कि 2020-21 में ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट (GDP) नेगेटिव में जा सकती है. उन्होंने कहा, '2020-21 में GDP ग्रोथ नेगेटिव रहने का अनुमान है. मानसून के सामान्य रहने का अनुमान है. दालों की कीमत में उछाल चिंता का विषय है. कृषि उत्पादन से सबको लाभ मिलेगा. WTO के मुताबिक, वैश्विक व्यापार 13 से 32 फीसदी तक घट सकता है.'

  • कोरोना से जंग के बीच RBI ने फिर घटाया रेपो रेट, सस्ते हो सकते हैं लोन

    कोरोना से जंग के बीच RBI ने फिर घटाया रेपो रेट, सस्ते हो सकते हैं लोन

    रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने मीडिया ब्रीफिंग के दौरान कहा, 'रेपो रेट को कम किया जा रहा है. RBI ने 40 आधार अंक की कटौती की है. अब रेपो रेट चार फीसदी हुआ. मुद्रास्फीति का दृष्टिकोण अत्यधिक अनिश्चित है. आरबीआई ने रिवर्स रेपो दर को घटाकर 3.35 प्रतिशत कर दिया है. यह उम्मीद की जाती है कि राजकोषीय और प्रशासनिक उपायों से 2020-21 की दूसरी छमाही में गति मिलेगी.'

  • Reverse Repo Rate में कटौती, कोरोनावायरस से जूझ रही अर्थव्यवस्था के लिए आरबीआई के 5 बड़े ऐलान

    Reverse Repo Rate में कटौती,  कोरोनावायरस से जूझ रही अर्थव्यवस्था के लिए आरबीआई के 5 बड़े ऐलान

    भारतीय रिजर्व बैंक (RB) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के चलते रिजर्व बैंक आर्थिक हालात पर लगातार नजर रखे हुये है और वह आर्थिक तंत्र में पर्याप्त नकदी बनाये रखने के लिये हर संभव कदम उठायेगा. इसके साथ ही रिवर्स रेपो रेट में कटौती का ऐलान किया. रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार सुबह कई घोषणायें करते हुये कहा कि कोरोना वायरस के कारण अर्थव्यवस्था पर बढ़े वित्तीय दबाव को कम करने के लिए केन्द्रीय बैंक पर्याप्त नकदी सुनिश्चित करेगा. गवर्नर ने कहा कि आरबीआई कोविड-19 के प्रकोप से पैदा होने वाले हालात पर नजर बनाए रखे हुए है. उन्होंने बताया कि मार्च में निर्यात 34.6 प्रतिशत घट गया, जो 2008-09 के वैश्विक वित्तीय संकट की तुलना में कहीं बड़ी गिरावट को दर्शाता है. आरबीआई की घोषणाओं के बाद भारतीय रुपया शुक्रवार को दिन के कारोबार के दौरान अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 45 पैसे की जोरदार बढ़त के साथ 76.42 रुपये प्रति डालर पर पहुंच गया. अर्थव्यवस्था में नगदी की उपलब्धता बढ़ाने के लिये शुक्रवार को रिजर्व बैंक की घोषणाओं के बाद रुपये में यह मजबूती दिखी है.

  • RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा- भारतीय अर्थव्यवस्था के 2021-22 में वापसी करने के आसार

    RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा- भारतीय अर्थव्यवस्था के 2021-22 में वापसी करने के आसार

    RBI Governor शक्तिकांत दास ने कहा कि कोविड-19 महामारी के चलते पैदा हुई परिस्थितियों पर आरबीआई नजर रखे हुए है. आरबीआई ने वित्तीय संस्थानों के लिए 50,000 करोड़ रुपये का पैकेज दिया. साथ ही रिवर्स रेपो रेट को 25 आधार अंक घटाया, ताकि बैंक निवेश बढ़ाएं.

  • PM मोदी ने कोरोना के मद्देनजर उठाए गए RBI के बड़े कदमों का किया स्वागत, बोले- मिडिल क्लास, कारोबार को मिलेगी मदद

    PM मोदी ने कोरोना के मद्देनजर उठाए गए RBI के बड़े कदमों का किया स्वागत, बोले- मिडिल क्लास, कारोबार को मिलेगी मदद

    RBI ने लॉकडाउन के बीच हुई मौद्रिक नीति समिति की बैठक में रेपो दर को 5.15 प्रतिशत से घटाकर 4.4 प्रतिशत करने की घोषणा की है. आरबीआई गवर्नर ने कहा कि रेपो दर में कमी से कोरोना वायरस महामारी के आर्थिक प्रभाव से निपटने में मदद मिलेगी.

  • कोरोनावायरस लॉकडाउन के बीच RBI से राहत, बैंक तीन महीने तक EMI में दे सकते हैं छूट

    कोरोनावायरस लॉकडाउन के बीच RBI से राहत, बैंक तीन महीने तक EMI में दे सकते हैं छूट

    कोरोनावायरस और उसके आर्थिक प्रभावों से निपटने के लिए सरकार के बाद अब भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बड़ा कदम उठाया है. आरबीआई ने नीतिगत ब्याज दर यानी रेपो रेट में 0.75 प्रतिशत की कटौती की है. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को कहा कि रेपो दर को मौजूदा समय में 5.15 प्रतिशत से घटाकर 4.4 प्रतिशत किया गया है. मौद्रिक नीति समिति (MPC) के 6 सदस्यों में से चार ने इस कदम के पक्ष में वोट किया है. इससे होम लोन समेत अन्य कर्जों की ईएमआई में कमी आने की उम्मीद है. आर्थिक नरमी को दूर करने के लिए आरबीआई इससे पहले भी कई बार नीतिगत ब्याज दर में कटौती कर चुका है. साथ ही बैंकों को दरों में पर्याप्त कटौती करने का भी निर्देश दिया था.  

  • कोरोनावायरस लॉकडाउन के बीच RBI ने घटाया रेपो रेट, सस्ता हो सकता है होम लोन

    कोरोनावायरस लॉकडाउन के बीच RBI ने घटाया रेपो रेट, सस्ता हो सकता है होम लोन

    माना जा रहा है कि अगर बैंक भी इसका लाभ ग्राहकों तक पहुंचाते हैं, तो होम लोन तथा अन्य ऋणों पर ब्याज दरें कम हो सकती हैं, जिससे आम आदमी को राहत मिलेगी.

  • SBI ने MCLR दर घटाया, 0.05 प्रतिशत की हुई कटौती

    SBI ने MCLR दर घटाया, 0.05 प्रतिशत की हुई कटौती

    बैंक ने एक बयान में कहा कि इस कटौती के बाद एक साल की परिपक्वता अवधि वाले ऋण का एमसीएलआर कम होकर 7.85 प्रतिशत पर आ गया है. बैंक ने MCLR में यह कटौती रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के नतीजों की घोषणा के एक दिन बाद की है.

  • RBI ने कहा- अर्थव्यवस्था में नरमी बरकरार, रेपो रेट में अभी कोई बदलाव नहीं

    RBI ने कहा- अर्थव्यवस्था में नरमी बरकरार, रेपो रेट में अभी कोई बदलाव नहीं

    रिजर्व बैंक ने आर्थिक वृद्धि दर 2019-20 में पांच प्रतिशत रहने के अनुमान को बनाये रखा है. उसने कहा है कि आर्थिक वृद्धि 2020-21 में सुधरकर छह प्रतिशत हो सकती है साथ ही RBI का कहना है कि आर्थिक वृद्धि दर अभी भी अपनी संभावित क्षमता से कम है.

  • RBI ने 2019-20 के लिए घटाया GDP का अनुमान, रेपो रेट में नहीं किया कोई बदलाव

    RBI ने 2019-20 के लिए घटाया GDP का अनुमान, रेपो रेट में नहीं किया कोई बदलाव

    गौरतलब है कि यह माना जा रहा था कि अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक गुरुवार को लगातार छठी बार रेपो दर में कटौती कर सकता है. एक ब्रोकरेज कंपनी ने यह अनुमान  भी व्यक्त किया था. देश की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में घटकर 4.5 प्रतिशत रह गई थी. यह दर पिछली 26 तिमाहियों में सबसे कम रही है.

  • RBI लगातार छठी बार कर सकता है रेपो दर में कटौती

    RBI लगातार छठी बार कर सकता है रेपो दर में कटौती

    अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक गुरुवार को लगातार छठी बार रेपो दर में कटौती कर सकता है. एक ब्रोकरेज कंपनी ने यह अनुमान व्यक्त किया है.

  • FPI ने 3 दिनों में शेयर बाजार से करीब 3 हजार करोड़ रुपये निकाले

    FPI ने 3 दिनों में शेयर बाजार से करीब 3 हजार करोड़ रुपये निकाले

    वैश्विक नरमी और व्यापार युद्ध की आशंकाओं के बीच विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने अक्टूबर में शुरूआती तीन कारोबारी दिवसों में शेयर बाजार से करीब 3,000 करोड़ रुपये की निकासी की है. विदेशी निवेशकों ने इससे पहले सितंबर में शेयरों में शुद्ध रूप से करीब 7,850 करोड़ रुपये का निवेश किया था. हालांकि, बाजार विशेषज्ञों का मानना है कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के रेपो दर में कटौती और बाजार नियामक सेबी के कुछ फैसलों से एफपीआई निवेश में तेजी आने की उम्मीद है.

  • RBI ने Repo Rate में की कटौती, लोन पर ब्याज दर में हो सकती है कमी

    RBI ने Repo Rate में की कटौती, लोन पर ब्याज दर में हो सकती है कमी

    भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता वाली मौद्रिक नीति समिति ने Repo Rate को 25 आधार अंक घटा दिया है, और अब यह 5.40 फीसदी से 5.15 फीसदी हो गया है. रेपो रेट वह दर होती है, जिस पर RBI अन्य बैंकों को कम अवधि पर ऋण दिया करता है. इस वर्ष के दौरान लगातार पांचवीं बार रेपो रेट में कटौती की गई है, और इस कैलेंडर वर्ष में अब तक 135 आधार अंक, यानी 1.35 प्रतिशत की कमी की जा चुकी है.

  • SBI की ऋण ब्याज दरें एक अक्टूबर से रेपो दर पर होंगी आधारित

    SBI की ऋण ब्याज दरें एक अक्टूबर से रेपो दर पर होंगी आधारित

    भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने चार सितंबर को सभी बैंकों से कहा था कि वे अपने परिवर्तनीय ब्याज दरों वाले ऋणों की ब्याज दर किसी बाहरी मानक से संबद्ध करें. एसबीआई ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, ‘‘सभी परिवर्तनीय ब्याज दर वाले ऋणों के लिए हमने ब्याज दर का बाहरी मानक रेपो दर को अपनाने का निर्णय किया है. लघु एवं उद्योग ऋण, आवास ऋण और अन्य खुदरा ऋणों पर यह ब्याज दरें एक अक्टूबर 2019 से प्रभावी होंगी.’

1234»

Advertisement

Repo rate वीडियो

Repo rate से जुड़े अन्य वीडियो »

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com