NDTV Khabar

Rss chief mohan bhagwat


'Rss chief mohan bhagwat' - 62 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • RSS प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- भारत न कभी हिन्दू राष्ट्र था, न है और न बनेगा' 

    RSS प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- भारत न कभी हिन्दू राष्ट्र था, न है और न बनेगा' 

    RSS सरसंघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwa) के हिन्दू राष्ट्र वाले बयान पर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने जमकर हमला बोला. ओवैसी ने कहा, 'भागवत भारत को हिंदू राष्ट्र बताकर यहां मेरा इतिहास मिटा नहीं सकते.

  • RSS प्रमुख मोहन भागवत बोले- सबसे ज्यादा सुखी मुसलमान भारत में मिलेगा, क्योंकि हम हिंदू हैं

    RSS प्रमुख मोहन भागवत बोले- सबसे ज्यादा सुखी मुसलमान भारत में मिलेगा, क्योंकि हम हिंदू हैं

    भारत की विविधता की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि पूरा देश एक सूत्र से बंधा है. उन्होंने कहा, ‘भारत के लोग विविध संस्कृति, भाषाओं, भौगोलिक स्थानों के बावजूद खुद को एक मानते हैं.’ भागवत ने कहा कि एकता के इस अनूठे अहसास के कारण मुस्लिम, पारसी और अन्य जैसे धर्मों से संबंधित लोग देश में सुरक्षित महसूस करते हैं. उन्होंने कहा, ‘पारसी भारत में काफी सुरक्षित हैं और मुस्लिम भी खुश हैं.’

  • TOP 5 NEWS: तीन वैज्ञानिकों को मिला भौतिकी का नोबेल, लिंचिंग को लेकर संघ प्रमुख ने दिया बड़ा बयान

    TOP 5 NEWS: तीन वैज्ञानिकों को मिला भौतिकी का नोबेल, लिंचिंग को लेकर संघ प्रमुख ने दिया बड़ा बयान

    स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में मंगलवार को भौतिकी का नोबेल प्राइज 2019 तीन वैज्ञानिकों जेम्स पीबल्स, मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को प्रदान किया गया.

  • RSS के स्थापना दिवस पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने 'हिन्दू राष्ट्र' को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा- हम सब तो...

    RSS के स्थापना दिवस पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने 'हिन्दू राष्ट्र' को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा- हम सब तो...

    उन्होंने कहा कि हमारी स्थल सीमा व जल सीमाओं पर सुरक्षा सतर्कता पहले से अच्छी है. केवल स्थल सीमापर रक्षक व चौकियों की संख्या व जल सीमापर (द्वीपों वाले टापुओं की) निगरानी अधिक बढ़ानी पड़ेगी. देश के अन्दर भी उग्रवादी हिंसा में कमी आयी है. उग्रवादियों के आत्मसमर्पण की संख्या भी बढ़ी है.

  • मॉब लिंचिंग को लेकर संघ प्रमुख मोहन भागवत का बड़ा बयान, कहा- देश को बदनाम करने के लिए...

    मॉब लिंचिंग को लेकर संघ प्रमुख मोहन भागवत का बड़ा बयान, कहा- देश को बदनाम करने के लिए...

    उन्होंने कहा कि बीते कुछ वर्षों में भारत की सोच की दिशा में एक परिवर्तन आया है, जिसे न चाहने वाले व्यक्ति दुनिया में भी है और भारत में भी, और  निहित स्वार्थों के लिये ये शक्तियां भारत को दृढ़ और शक्ति संपन्न नहीं होने देना चाहतीं. देश की सुरक्षा पर संघ प्रमुख ने कहा कि सौभाग्य से हमारे देश के सुरक्षा सामर्थ्य की स्थिति, हमारे सेना की तैयारी, हमारे शासन की सुरक्षा नीति व हमारे अंतरराष्ट्रीय राजनीति में कुशलता की स्थिति इस प्रकार की बनी है कि इस मामले में हम लोग सजग और आश्वस्त हैं.

  • RSS प्रमुख भागवत ने घोषणा की, 'भारत हिंदू राष्ट्र है', कहा- जो भारत भूमि की भक्ति करता है, वह हिन्दू

    RSS प्रमुख भागवत ने घोषणा की, 'भारत हिंदू राष्ट्र है', कहा- जो भारत भूमि की भक्ति करता है, वह हिन्दू

    हिंदू राष्ट्र के दावे के बावजूद जब संस्था के प्रमुख समलैगिकता पर बात करते हैं तो लगता है कि आरएसएस अपनी गंभीर छवि बदलने में लगा हुआ है. भागवत ने कहा कि इस मुद्दे को चर्चा के जरिए सुलझाया जा सकता है. उन्होंने कहा, "महाभारत, प्राचीन सेनाओं में उदाहरण रहे हैं, वेदों में नहीं.' यह पहला मौका नहीं है, जब भागवत ने समलैंगिता पर संघ के रुख में बदलाव के संकेत दिए हैं. उन्होंने 2018 में तीन दिवसीय महा आयोजन 'भारत का भविष्य -आरएसएस का दृष्टिकोण' के दौरान कहा था कि समलैंगिक हैं और समाज को समय के साथ बदलने की जरूरत है. भागवत का अधिकांश भाषण आरएसएस के एक उदार चेहरे को पेश करने पर था, लेकिन उन्होंने असहमति के महत्व पर जोर दिया. उन्होंने कहा, 'हमारे यहां मतभेद हो सकता है, मनभेद नहीं.'

  • संघ प्रमुख मोहन भागवत ने दिया बड़ा बयान, कहा- एक भी हिन्दू को...

    संघ प्रमुख मोहन भागवत ने दिया बड़ा बयान, कहा- एक भी हिन्दू को...

    समन्वय बैठक के बाद संघ के एक पदाधिकारी ने कहा कि मोहन भागवतजी ने स्पष्ट कहा कि एक भी हिंदू को देश नहीं छोड़ना होगा.

  • RSS प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर शुरू हुआ सियासी संग्राम, कांग्रेस और मायावती ने साधा हमला

    RSS प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर शुरू हुआ सियासी संग्राम, कांग्रेस और मायावती ने साधा हमला

    आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरूण कुमार ने एक ट्वीट में कहा, 'जहां तक संघ का आरक्षण के विषय पर मत है, वह कई बार स्पष्ट किया जा चुका है कि अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी), अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और आर्थिक आधार पर पिछड़ों के आरक्षण का (आरएसएस) पूर्ण समर्थन करता है.'

  • धर्म संसद: RSS प्रमुख मोहन भागवत के भाषण के बाद संतों ने किया हंगामा, लगाए 'मंदिर की तारीख बताओ' के नारे

    धर्म संसद: RSS प्रमुख मोहन भागवत के भाषण के बाद संतों ने किया हंगामा, लगाए 'मंदिर की तारीख बताओ' के नारे

    भागवत ने कहा, 'इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी माना है कि नीचे मंदिर है. अब वहां जो भी बनेगा राम मंदिर ही बनेगा. हमने मोदी सरकार से कहा था कि हम आपको तीन साल नहीं छेड़ेंगे. हमने उग्र भाषा में सरकार से कहा कि राम मंदिर बनना चाहिए. वहीं सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि राम मंदिर हमारी प्राथमिकता नहीं है.' साथ ही भागवत ने कहा कि सरकार अगर मंदिर के लिए काम करेगी तो राम का आशीर्वाद मिलेगा. हालांकि, सरकार ने यह जरूर किया है कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में जाकर कहा कि वहां जिसकी जमीन है, उसे वह वापस की जाए.

  • अहमदाबाद से 210 किमी दूर हुई अमित शाह, मोहन भागवत और संतों के बीच बैठक, BJP अध्यक्ष बोले- मंदिर वहीं बनाएंगे

    अहमदाबाद से 210 किमी दूर हुई अमित शाह, मोहन भागवत और संतों के बीच बैठक, BJP अध्यक्ष बोले- मंदिर वहीं बनाएंगे

    लोकसभा चुनाव से पहले अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर कवायद तेज हो गई हैं. अयोध्या में राम मंदिर का निर्णाण कार्य जल्द से जल्द कैसे प्रारंभ हो इसके रास्ते तलाशने के लिए चर्चाओं का दौर जारी है. आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और हिंदू संतों ने शुक्रवार को अयोध्या में विवादित राम जन्मभूमि- बाबरी मस्जिद स्थल पर मंदिर निर्माण को लेकर आगे के रास्तों पर चर्चा की. यह जानकारी बैठक में हिस्सा लेने वाले धार्मिक नेताओं ने दी. उन्होंने बताया कि अहमदाबाद से 210 किलोमीटर दूर राजकोट में दो दिवसीय हिंदू आचार्य सभा बैठक में मौजूद भागवत और संतों ने स्पष्ट रूप से विचार व्यक्त किया कि मंदिर का निर्माण मई 2019 से पहले शुरू हो जाना चाहिए जब नरेंद्र मोदी सरकार का कार्यकाल समाप्त होगा. 

  • लोक संगठनों को सत्ता में बैठे लोगों का ‘सेवक’ नहीं होना चाहिए : संघ प्रमुख

    लोक संगठनों को सत्ता में बैठे लोगों का ‘सेवक’ नहीं होना चाहिए : संघ प्रमुख

    RSS प्रमुख ने कहा कि सत्ता में कई लोग हैं जो बदलाव लाना चाहते हैं लेकिन मौजूदा व्यवस्था के कारण उनके हाथ बंधे हैं. भागवत ने कहा कि लोक संगठनों को सत्ता की राजनीति से दूर रहना चाहिए..सत्ता एक व्यवस्था है. व्यवस्था का हिस्सा बनकर सत्ता कभी बदलाव लाने में मदद नहीं करती. सत्ता में कई लोग हैं जो बदलाव लाना चाहते हैं लेकिन सत्ता की व्यवस्था के कारण उनके हाथ बंधे हैं.

  • राम मंदिर को जल्द बनाने के लिए RSS प्रमुख मोहन भागवत ने उठाया यह कदम

    राम मंदिर को जल्द बनाने के लिए RSS प्रमुख मोहन भागवत ने उठाया यह कदम

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने अयोध्या में राम मंदिर के शीघ्र निर्माण के लिए मंगलवार को यहां प्रसिद्ध गणेश मंदिर में विशेष प्रार्थना की. गणेश मंदिर के पुरोहित ने यह दावा किया है.

  • 'फिर राम याद आए, क्या चुनाव नजदीक आए'?

    'फिर राम याद आए, क्या चुनाव नजदीक आए'?

    इन्हें फिर राम याद आए हैं. पूछो क्या चुनाव नजदीक आए हैं. यह वो आरोप है जो विपक्ष आरएसएस और बीजेपी पर हमेशा लगाता रहा है. लेकिन पिछले एक महीने में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने चार बार राम मंदिर का नाम लेकर एक तरह से विपक्ष के आरोप की पुष्टि ही की है.

  • 'राम मंदिर पर कानून लाए मोदी सरकार': पढ़ें सबरीमाला और अर्बन नक्सल पर मोहन भागवत की 7 बातें

    'राम मंदिर पर कानून लाए मोदी सरकार': पढ़ें सबरीमाला और अर्बन नक्सल पर मोहन भागवत की 7 बातें

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के विजयादशमी कार्यक्रम के मौके पर प्रमुख मोहन भागवत ने गुरूवार को सबरीमाला, एससी-एसटी समुदाय, शहरी माओवाद, पाकिस्तान और रक्षा मुद्दे से लेकर राम मंदिर पर अपनी बेबाक राय रखी. संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि देश के रक्षा बलों को सशक्त बनाने और पड़ोसियों के साथ शांति स्थापित करने के बीच संतुलन बनाए रखने की आवश्यकता है. उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर यह भी कहा कि वहां नई सरकार आ जाने के बावजूद सीमा पर हमले बंद नहीं हुए हैं. वहीं संघ प्रमुख मोहन भागवत ने राम मंदिर को लेकर कहा कि राम मंदिर का बनना गौरव की दृष्टि से आवश्यक है, मंदिर बनने से देश में सद्भावना व एकात्मता का वातावरण बनेगा. गौरतलब है कि आज आरएसएस का स्थापना दिवस कार्यक्रम है, जिसमें नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी भी शामिल हुए. तो चलिए पढ़ते हैं कि किन-किन बड़े मुद्दों पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने अपनी बेबाक राय रखी है.

  • महिलाओं की सुरक्षा को लेकर क्या है संघ का दृष्टिकोण, मोहन भागवत ने दिया यह जवाब

    महिलाओं की सुरक्षा को लेकर क्या है संघ का दृष्टिकोण, मोहन भागवत ने दिया यह जवाब

    राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ अथवा आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने बुधवार को देश के तमाम मुद्दों पर अपनी राय रखी. आरक्षण से लेकर, गोरक्षा और महिला सुरक्षा से लेकर अयोध्या में राम मंदिर जैसे विषयों पर विभिन्न सवालों के जवाब में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने अपने विचार व्यक्त किये. महिलाओं की सुरक्षा से संबंधित प्रश्न के जवाब में मोहन भागवत ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध तभी रुकेंगे, जब हम महिलाओं को सुरक्षा के लिए सजग और सक्षम बनाएंगे. साथ ही पुरुषों को भी महिलाओं को देखने की अपनी दृष्टि बदलनी होगी. 

  • कभी समीक्षा की बात कहने वाले मोहन भागवत अब बोले- आरक्षण समस्या नहीं, आरक्षण की राजनीति समस्या

    कभी समीक्षा की बात कहने वाले मोहन भागवत अब बोले- आरक्षण समस्या नहीं, आरक्षण की राजनीति समस्या

    आरक्षण को लेकर देश में काफी समय से बहस जारी है. ऐसे आरोप लगते रहते हैं कि संघ यानी आरएसएस आरक्षण विरोधी संगठन है, मगर इस पर खुद राष्ट्रीय स्वंयसेवक सघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने स्पष्ट कर दिया है कि आरएसएस आरक्षण आरक्षण के समर्थन में है. उन्होंने कहा कि आरक्षण जारी रहना चाहिए और उनका संगठन आरक्षण व्यवस्था का समर्थन करता है. बुधवार को संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि आरएसएस ने हमेशा आरक्षण व्यवस्था का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि आरक्षण कोई समस्या नहीं है, लेकिन आरक्षण की राजनीति समस्या है. 

  • मोहन भागवत बोले- राम मंदिर जल्द बनाने से हिंदू-मुस्लिम के बीच तनाव होगा खत्म, मॉब लिंचिंग समेत इन 10 मुद्दों पर रखी RSS की राय

    मोहन भागवत बोले- राम मंदिर जल्द बनाने से हिंदू-मुस्लिम के बीच तनाव होगा खत्म, मॉब लिंचिंग समेत इन 10 मुद्दों पर रखी RSS की राय

    आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि अयोध्या में राम मन्दिर का शीघ्र निर्माण होना चाहिए और विश्वास व्यक्त किया कि इससे हिंदुओं एवं मुस्लिमों के बीच तनाव खत्म हो जाएगा. भगवान राम को “इमाम-ए-हिंद” बताते हुए भागवत ने कहा कि वह देश के कुछ लोगों के लिए भगवान नहीं हो सकते लेकिन वह समाज के सभी वर्ग के लोगों के लिए भारतीय मूल्यों के एक आदर्श हैं. उन्होंने कहा, 'एक संघ कार्यकर्ता, संघ प्रमुख और राम जन्मभूमि आंदोलन के एक हिस्से के तौर पर मैं चाहता हूं कि भगवान राम की जन्मभूमि (अयोध्या) में जल्द से जल्द भव्य राम मंदिर बनाया जाए.' संघ के तीन दिवसीय कार्यक्रम के अंतिम दिन उन्होंने कहा, ‘अब तक यह हो जाना चाहिए था. भव्य राम मंदिर का निर्माण हिंदू-मुस्लिम के बीच तनाव की एक बड़ी वजह को खत्म करने में मदद करेगा और अगर मंदिर शांतिपूर्ण तरीके से बनता है तो मुस्लिमों की तरफ अंगुलियां उठनी बंद हो जाएंगी.' उन्होंने कहा कि यह देश की संस्कृति और 'एकजुटता को मजबूत' करने का मामला है, यह देश के करोड़ों लोगों के विश्वास का मुद्दा है. उन्होंने इस मुद्दे पर बातचीत का भी समर्थन किया लेकिन कहा कि अंतिम फैसला राम मंदिर समिति के पास होगा जो मंदिर के निर्माण के लिए आंदोलन चला रही है.

  • संघ प्रमुख मोहन भागवत ने की कांग्रेस की तारीफ, बोले-आजादी में रहा बड़ा योगदान

    संघ प्रमुख मोहन भागवत ने की कांग्रेस की तारीफ, बोले-आजादी में रहा बड़ा योगदान

    आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कांग्रेस को लेकर बड़ा बयान दिया है. आजादी की लड़ाई में कांग्रेस की भूमिका की तारीफ की है.कहा है कि कांग्रेस की बदौलत देश की स्वतंत्रता के लिए सारे देश में में एक आंदोलन खड़ा हुआ.