NDTV Khabar

Sardar ballabhbhai patel News in Hindi


'Sardar ballabhbhai patel' - 3 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • 80 फुट के पैर, 70 फुट के हाथ, ऊंचाई 600 फुट - सरदार पटेल की दुनिया में सबसे ऊंची प्रतिमा - जानें 10 खास बातें

    80 फुट के पैर, 70 फुट के हाथ, ऊंचाई 600 फुट - सरदार पटेल की दुनिया में सबसे ऊंची प्रतिमा - जानें 10 खास बातें

    सरदार वल्लभ भाई पटेल( Vallabhbhai Patel) की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' (Statue of Unity) का 31 अक्टूबर को उनकी जयंती पर उद्घाटन होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में भव्य तरीके से आयोजित समारोह में इस मूर्ति के उद्घाटन की तैयारी है. अपनी ऊंचाई के कारण यह प्रतिमा अब  दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बन गई है. दुनिया में अब दूसरे स्थान पर चीन में स्प्रिंग टेंपल में बुद्ध की मूर्ति है, जिसकी ऊंचाई 153 मीटर है. गुजरात सरकार को उम्मीद है कि इस विशालकाय मूर्ति को देखने के लिए देश ही नहीं विदेशों के पर्यटक भी आएंगे. इस नाते सरकार की ओर से पर्यटकों के ठहने के लिए भी विशेष व्यवस्था की गई है. सरकार आमदनी के लिए टिकट भी लगाएगी. यह प्रतिमा नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. मूर्ति बनाने वाली कंपनी एलएंडटी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक एस एन सुब्रमण्यन ने कहा, "स्टैच्यू आफ यूनिटी जहां राष्ट्रीय गौरव और एकता की प्रतीक है वहीं यह भारत के इंजीनियरिंग कौशल तथा परियोजना प्रबंधन क्षमताओं का सम्मान भी है." 

  • राहुल गांधी और पीएम नरेंद्र मोदी ने एक-दूसरे को 'घूरा', फोटो वायरल

    राहुल गांधी और पीएम नरेंद्र मोदी ने एक-दूसरे को 'घूरा', फोटो वायरल

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी के बीच की तकरार काफी पुरानी है. दोनों एक-दूसरे पर शब्‍दों के बाण चलाने का कोई मौका नहीं छोड़ते. वार-पलटवार का यह सिलसिला चुनावी रैलियों, भाषणों, प्रेस कॉन्‍फ्रेंस, इंटरव्‍यू और समारोह में जारी रहता है. लेकिन अब दोनों की एक तस्‍वीर सामने आई है जो काफी कुछ कहती है.

  • डीजी वंजारा ने पैदा किया नया विवाद : सरदार पटेल को पहनाई कलम, खिलौना बंदूक की माला

    डीजी वंजारा ने पैदा किया नया विवाद : सरदार पटेल को पहनाई कलम, खिलौना बंदूक की माला

    डीजी वंजारा ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि वह दूसरी माला प्रतीकात्मक थी। उन्होंने कहा कि सच्चे राष्ट्रवादी सरदार वल्लभभाई ने अस्त्र और कलम का प्रयोग सकारात्मक रूप से राष्ट्रनिर्माण के लिए किया था।