NDTV Khabar

Satyapal malik


'Satyapal malik' - 12 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले, वोट के लिए नेता किसी भी हद तक जा सकते हैं

    जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले, वोट के लिए नेता किसी भी हद तक जा सकते हैं

    जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने नेताओं पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि आतंकवादियों के खिलाफ सुरक्षाबलों द्वारा चलाए जा रहे अभियान के खिलाफ बोलना नेताओं की राजनैतिक मजबूरी है. जम्मू में आतंकवादियों की हत्या की जांच की मांग से जुड़े एक सवाल के जवाब में सत्यपाल मलिक ने कहा कि, 'जब एक आतंकवादी गोलीबारी शुरू करता है या कोई विस्फोट फेंकता है तो हम उसे फूल या गुलदस्ता नहीं देंगे.

  • पूर्व क्रिकेटर और योगी सरकार के मंत्री चेतन चौहान का बड़ा बयान, कहा- खिलाड़ी थे हनुमान जी, कारण भी बताया...

    पूर्व क्रिकेटर और योगी सरकार के मंत्री चेतन चौहान का बड़ा बयान, कहा- खिलाड़ी थे हनुमान जी, कारण भी बताया...

    हनुमान जी की जाति (Lord Hanuman) को लेकर मचे सियासी घमासान के बीच पूर्व भारतीय क्रिकेटर और यूपी के कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान (Chetan Chauhan) ने बड़ा बयान दिया है. हालांकि चेतन चौहान ने उनकी जाति नहीं बताई है लेकिन उन्होंने उनसे जुड़े कई राज खोले हैं. बीते शनिवार को यूपी के अमरोहा में चेतन चौहान ने कहा, 'हनुमान जी कुश्ती लड़ते थे, खिलाड़ी भी थे, जितने भी पहलवान लोग हैं, उनकी पूजा करते हैं, मैं उनको वही मानता हूं, हमारे ईष्ट हैं, भगवान की कोई जाति नहीं होती.

  • मीडिया ने कश्मीर को ‘खलनायक’ बना दिया : राज्यपाल सत्यपाल मलिक

    मीडिया ने कश्मीर को ‘खलनायक’ बना दिया : राज्यपाल सत्यपाल मलिक

    जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शुक्रवार को राष्ट्रीय मीडिया द्वारा कश्मीर की ‘‘नकारात्मक छवि’’ बनाए जाने पर नाखुशी जाहिर करते हुए कहा कि चौथे स्तंभ द्वारा घाटी में हासिल की गई उपलब्धियों को रेखांकित नहीं किया जाता.

  • रवीश कुमार ने फैक्स मशीन को लेकर कसा तंज, तो राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दिया यह जवाब

    रवीश कुमार ने फैक्स मशीन को लेकर कसा तंज, तो राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दिया यह जवाब

    जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक पर विधानसभा भंग करने को कई लेकर सवाल उठे. उनके फ़ैसले से सियासी सरगर्मियों ने ज़ोर पकड़ लिया. अब ग्वालियर की ITM यूनिवर्सिटी में सत्यपाल मलिक ने खुद तफ़सील से बताया कि आखिर उन्होंने विधानसभा भंग करने का फ़ैसला क्यों लिया. सत्यपाल मलिक ने कहा कि ईद के दिन जब रसोईयां भी छुट्टी पर हो तब 7-8 बजे के बीच फैक्स मशीन खोलकर महबूबा मुफ्ती की चिट्ठी का इंतजार करता रहे. 

  • जम्मू-कश्मीर: राज्यपाल बोले- सरकार बनने का मौका देता तो पहले जैसे हो जाते हालात

    जम्मू-कश्मीर: राज्यपाल बोले- सरकार बनने का मौका देता तो पहले जैसे हो जाते हालात

    राज्यपाल ने कहा, 'मैंने यह फैसला राज्य के हित में लिया है. मेरे पास कोई आया नहीं, किसी ने विधायकों की परेड भी नहीं किया. मैंने किसी से बातचीत नहीं की. मैंने यह काम जम्मू-कश्मीर के संविधान के तहत किया है. जम्मू-कश्मीर के संविधान में प्रावधान है कि मुझे इस काम के लिए राष्ट्रपति या देश के संसद तक नहीं जाना है. ये मेरा अधिकार था तो मैंने ऐसा किया. महबूबा मुफ्ती बहाने बाजी कर रही हैं. अगर उन्हें कुछ गलत लगता है तो वो कोर्ट जाएं. सोशल मीडिया से सरकार नहीं बनती. पार्टियां एक दिन पहले भी आ सकती थीं. किसी ने अपना आदमी तक नहीं भेजा.'

  • जब उमर अब्दुल्ला ने 15 मिनट के भीतर महबूबा मुफ्ती के ट्वीट चार बार किए रीट्वीट

    जब उमर अब्दुल्ला ने 15 मिनट के भीतर महबूबा मुफ्ती के ट्वीट चार बार किए रीट्वीट

    उमर अब्दुल्ला ने मुफ्ती के एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए अपनी प्रतिक्रियाएं भी दी हैं. मुफ्ती ने ट्वीट किया था, 'एक नेता के तौर पर मेरे 26 साल के करियर में मैं सोचती थी कि मैंने सब कुछ देख लिया है. लेकिन ऐसा कभी नहीं कहना चाहिए. असंभव को संभव बनाने के लिए मैं उमर अब्दुल्ला और अंबिका सोनी जी का तह दिल से शुक्र अदा करना चाहूंगी.' इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए अब्दुल्ला ने लिखा है, 'और मैंने कभी नहीं सोचा था कि किसी बात पर आपसे सहमत होते हुए आपके ट्वीट को रीट्वीट करूंगा. राजनीति सच में अनोखी है. आगे की जंग के लिए शुभकामनाएं. एक बार फिर लोगों की समझ की जीत होगी.'

  • NC, PDP को जम्मू-कश्मीर निकाय चुनाव का बहिष्कार नहीं करना चाहिए था : सत्यपाल मलिक

    NC, PDP को जम्मू-कश्मीर निकाय चुनाव का बहिष्कार नहीं करना चाहिए था : सत्यपाल मलिक

    जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने मंगलवार को कहा कि नेशनल कान्फ्रेंस और पीडीपी को निकाय चुनाव का बहिष्कार नहीं करना चाहिए था. उन्होंने साथ ही कहा कि संविधान के अनुच्छेद 35ए और 370 इस चुनाव में गैर..मुद्दे थे. नेशनल कान्फ्रेंस और पीडीपी ने इन दोनों अनुच्छेदों को विधिक चुनौती को लेकर चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की थी. मलिक ने चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न होने पर संतोष व्यक्त किया. उन्होंने शहरी निकाय चुनाव का अंतिम चरण सम्पन्न होने के तत्काल बाद कहा कि , ‘यह (प्रतिक्रिया) काफी अच्छी रही.’ उन्होंने कहा, ‘‘आज (मंगलवार को) श्रीनगर में 9578 वोट पड़े. गंदेरबाल में 1000 वोट पड़े. मतदान प्रतिशत हाल के कुछ चुनावों से बेहतर है.’    

  • सतपाल मलिक को जम्मू-कश्मीर की कमान सौंपने के क्या हैं मायने...

    सतपाल मलिक को जम्मू-कश्मीर की कमान सौंपने के क्या हैं मायने...

    जम्मू-कश्मीर में पहली बार किसी राजनीतिक व्यक्ति को राज्यपाल बनाकर केंद्र सरकार ने राज्य की जनता से सीधा रिश्ता बनाने का ठोस और महत्वपूर्ण संकेत दिया है. सतपाल मलिक को जम्मू-कश्मीर का राज्यपाल ऐसे वक्त बनाया गया है जब राज्य में राज्यपाल शासन लगा है.

  • बिहार के राज्यपाल मलिक और सीएम नीतीश कुमार ने वाजपेयी के निधन पर जताया शोक

    बिहार के राज्यपाल मलिक और सीएम नीतीश कुमार ने वाजपेयी के निधन पर जताया शोक

    बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है.

  • मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड: क्या राज्यपाल की चिट्ठी BJP को भारी पड़ रही है?

    मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड: क्या राज्यपाल की चिट्ठी BJP को भारी पड़ रही है?

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को साफ कर दिया की राज्यपाल ने जो चिट्ठी लिखी थी उस पर उनको कोई आपत्ति नहीं. हालांकि उन्होंने केंद्रीय विधि मंत्री और पटना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को मुजफ्फरपुर के मुद्दे पर पत्र क्यों लिखा था उसका जवाब राज्यपाल ही दे सकते हैं. नीतीश कुमार के जवाब से साफ़ झलक रहा था की वो राज्यपाल द्वारा लिखे गए खतों के सिलसिले से न केवल नाखुश हैं बल्कि वह चाहते हैं कि राजपाल अब इस मुद्दे पर कुछ सफाई दें.

  • मुजफ्फरपुर कांड पर राज्यपाल की चिट्ठी को जेडीयू मान रही दिल्ली के बीजेपी मुख्यालय का 'खेल'

    मुजफ्फरपुर कांड पर राज्यपाल की चिट्ठी को जेडीयू मान रही दिल्ली के बीजेपी मुख्यालय का 'खेल'

    पिछले साल सत्यपाल मलिक ने बतौर बिहार गवर्नर नीतीश कुमार को गले लगाकर अपनी पारी की शुरुआत की तो किसी को आश्चर्य नहीं हुआ. हालांकि अब जब राज्यपाल ने पत्र लिखा तो यह चौंकाने वाला कदम जरूर था. एक अन्य जदयू नेता कहते हैं कि, 'राजभवन को कलम उठाने पर मजबूर करने की पटकथा कहीं और लिखी गई है. इसके पीछे बिहार बीजेपी नहीं है.

  • नीतीश कुमार ने सत्यपाल मलिक को राज्यपाल नियुक्त होने पर दी बधाई 

    नीतीश कुमार ने सत्यपाल मलिक को राज्यपाल नियुक्त होने पर दी बधाई 

    मुख्यमंत्री कार्यालय से जारी बयान के अनुसार नीतीश ने सत्यपाल मलिक के बिहार का राज्यपाल नियुक्त करने के केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत किया एवं मलिक को बिहार का राज्यपाल नियुक्त होने पर बधाई दी है.

Advertisement