NDTV Khabar

Survey


'Survey' - 325 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • महाभारत काल्पनिक नहीं! सनौली में मिले रथ और कंकाल के अध्ययन के बाद ASI का दावा

    महाभारत काल्पनिक नहीं! सनौली में मिले रथ और कंकाल के अध्ययन के बाद ASI का दावा

    2018 में बागपत के सनौली गांव में पहली बार घोड़े से चलने वाला रथ, नौ कंकाल और युद्ध के तलवार मिले थे, जिसे हड़प्पाकालीन सभ्यता से जोड़ा गया था, लेकिन अब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग ने दावा किया है कि खुदाई में मिले ये कंकाल और सामान चार हजार साल पुराने हैं. 

  • दूध सेहत बनाने के लिए या बीमारी बुलाने के लिए? देश भर में किए गए सर्वे के नतीजे होश उड़ाने वाले

    दूध सेहत बनाने के लिए या बीमारी बुलाने के लिए? देश भर में किए गए सर्वे के नतीजे होश उड़ाने वाले

    फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्डस् अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) का एक ताजा सर्वेक्षण होश उड़ाने वाला है. एफएसएसएआई ने दूध का अब तक का सबसे बड़ा सैंपल सर्वे किया है जिसके नतीजे दूध के सेवन पर सवाल खड़े कर रहे हैं. दूध के सैंपल देश भर में एकत्रित किए गए और उनका परीक्षण किया गया. आश्चर्यजनक रूप से देशभर में दूध के 41 प्रतिशत नमूने गुणवत्ता के मानक पर खरे नहीं उतरे. इतना ही नहीं सात फीसदी सैंपलों में तो ऐसे तत्व मिले जो सेहत के लिए काफी घातक हैं.

  • कमलनाथ सरकार के कामों को लेकर बोले ज्योतिरादित्य सिंधिया- मैं सर्वे से संतुष्ट नहीं, मैंने राज्य सरकार को 3 सुझाव दिए है

    कमलनाथ सरकार के कामों को लेकर बोले ज्योतिरादित्य सिंधिया- मैं सर्वे से संतुष्ट नहीं, मैंने राज्य सरकार को 3 सुझाव दिए है

    सिंधिया पूरे तेवर के साथ बाढ़ पीड़ितों के पक्ष में बात करते हुए नजर आए. उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में चाहे कांग्रेस की सरकार हो चाहे बीजेपी की इससे मुझे कोई लेना देना नहीं मेरी जनता का कल्याण हो. प्रदेश सरकार को और केंद्र सरकार को इस मुसीबत की घड़ी में आपके साथ खड़ा रहना पड़ेगा.

  • देश में सिर्फ 2.5 प्रतिशत कॉलेज कराते हैं PhD, विज्ञान वर्ग के छात्र हैं सबसे आगे

    देश में सिर्फ 2.5 प्रतिशत कॉलेज कराते हैं PhD, विज्ञान वर्ग के छात्र हैं सबसे आगे

    मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा कराए गए ‘अखिल भारतीय उच्च शिक्षा सर्वेक्षण’ के मुताबिक देश में केवल 2.5 प्रतिशत कॉलेज पीएचडी कार्यक्रम संचालित करते हैं और सबसे ज्यादा विज्ञान वर्ग के छात्र पीएचडी के लिए नामांकन कराते हैं. देश में पीएचडी करने वाले छात्रों की संख्या 1,69,170 है, जो कुल पंजीकृत छात्रों का 0.5 प्रतिशत से भी कम है.

  • भारत में सेना सर्वाधिक भरोसेमंद, राजनेताओं पर सबसे कम भरोसा, सर्वेक्षण में सामने आई बात

    भारत में सेना सर्वाधिक भरोसेमंद, राजनेताओं पर सबसे कम भरोसा, सर्वेक्षण में सामने आई बात

    शहरी क्षेत्रों में 70 प्रतिशत से ज्यादा भारतीय सशस्त्र सेना को सबसे ज्यादा भरोसेमंद पेशा मानते हैं, जबकि इनमें से अधिकांश लोग राजनेताओं को संशय की दृष्टि से देखते हैं. यह जानकारी एक नए सर्वेक्षण में सामने आई है. 

  • विश्व धरोहर कुतुबमीनार को बरबाद करने पर तुला नगर निगम का नाला

    विश्व धरोहर कुतुबमीनार को बरबाद करने पर तुला नगर निगम का नाला

    दिल्ली में पत्थर से बनी सबसे ऊंची ऐतिहासिक इमारत कुतुबमीनार को यूनेस्को ने भले ही विश्व धरोहर घोषित किया हो लेकिन 13वीं शताब्‍दी में बने प्राचीन भारत की वास्‍तुकला के एक नायाब नगीने को नगर निगम का नाला बरबाद करने पर तुला है. गुलाम राजवंश के कुतुबुद्दीन ऐबक ने ईस्वी सन 1199 में कुतुब मीनार की नींव रखी थी, लेकिन अब इसकी बुनियाद नगर निगम का नाला कमजोर कर रहा है.

  • समस्तीपुर : इंजीनियर पहुंचे रेलवे लाइन का सर्वे करने, ग्रामीणों ने बच्चा चोर बताकर धुन दिया

    समस्तीपुर : इंजीनियर पहुंचे रेलवे लाइन का सर्वे करने, ग्रामीणों ने बच्चा चोर बताकर धुन दिया

    मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) की घटनाएं इस कदर बेकाबू होती जा रही हैं कि कहीं भी कोई इसका शिकार बन रहा है. समस्तीपुर में बच्चा चोर समझकर रेलवे के दो इंजीनियरों की लोगों ने जमकर धुनाई कर दी. वे रेलवे लाइन के लिए सर्वे करने आए थे. बदमाशों ने अफवाह फैला दी कि वे दोनों बच्चा चोर हैं. इसके बाद ग्रामीणों ने बिना कोई पूछताछ किए उन दोनों को जमकर पीटा. उन्हें जब पुलिस को सौंपा गया तब जाकर असलियत सामने आई. फिलहाल पुलिस उन दोनों से लिखित शिकायत मांग रही है ताकि मामला दर्ज किया जा सके.

  • बिहार में चमकी बुखार से प्रभावित परिवारों को तीन माह में सारी सुविधाएं मिलेंगी

    बिहार में चमकी बुखार से प्रभावित परिवारों को तीन माह में सारी सुविधाएं मिलेंगी

    बिहार सरकार ने चमकी बुखार से प्रभावित 538 परिवारों का सर्वेक्षण करवाने के बाद अब संकल्प लिया है कि सभी प्रभावित परिवारों के छूटे हुए सभी बच्चों का अगले तीन महीने में आंगनबाड़ी केंद्र से पंजीकरण करा लिया जाएगा. इस सर्वेक्षण की विस्तृत रिपोर्ट बुधवार शाम को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने पेश की गई. सर्वे के दौरान यह पाया गया कि 49 प्रतिशत से अधिक बच्चों का आंगनबाड़ी केंद्रों में पंजीकरण नहीं हुआ था.

  • आम बजट से कहां गायब हो गए 1.7 लाख करोड़ रुपये...?

    आम बजट से कहां गायब हो गए 1.7 लाख करोड़ रुपये...?

    बजट में इस्तेमाल किया गया रिवाइज़्ड एस्टिमेट बताता है कि 2018-19 के दौरान 17.3 लाख करोड़ रुपये का राजस्व आया, जबकि आर्थिक सर्वेक्षण में अपडेट किए जा चुके प्रोविज़नल आंकड़े बताते हैं कि सरकार की आय कहीं कम रही, 15.6 लाख करोड़ रुपये, यानी 1.7 लाख करोड़ रुपये कम. प्रतिशत के लिहाज़ से (GDP के प्रतिशत के रूप में कुल राजस्व) बजट में रिवाइज़्ड एस्टिमेट 9.2 फीसदी बताया गया, जबकि आर्थिक सर्वेक्षण में दिया गया अपडेटेड आंकड़ा इसे एक फीसदी कम, यानी 8.2 प्रतिशत बताता है.

  • आर्थिक सर्वे और बजट के आंकड़ों में अंतर कैसे?

    आर्थिक सर्वे और बजट के आंकड़ों में अंतर कैसे?

    श्रीनिवासन जैन ने एक रिपोर्ट की है. बजट से 1 लाख 70 हज़ार करोड़ का हिसाब ग़ायब है. प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार परिषद के सदस्य रथिन रॉय ने आर्थिक सर्वे और बजट का अध्ययन किया. उन्होंने देखा कि आर्थिक सर्वे में सरकार की कमाई कुछ है और बजट में सरकार की कमाई कुछ है. दोनों में अंतर है. बजट में राजस्व वसूली सर्वे से एक प्रतिशत ज्यादा है. यह राशि 1 लाख 70 हज़ार करोड़ की है, क्या इतनी बड़ी राशि की बजट में चूक हो सकती है.

  • सीतारमण का नया भजन, ट्रिलियन ट्रिलियन ठन ठन

    सीतारमण का नया भजन, ट्रिलियन ट्रिलियन ठन ठन

    5 से तुकंबदी बिठानी थी. इसलिए वाक्य से 70 हटा दिया गया. 2014-19 के बीच चला कि 70 साल में कुछ नहीं हुआ. 2019 में बजट में कहा गया कि 55 साल में जो नहीं हुआ वो 5 साल में हो गया. 2 साल बाद जब मोदी सरकार के सात साल हो जाएंगे तो 70 साल बनाम 7 साल का जुमला फिट बैठेगा.

  • मोदी सरकार 2.0 के बजट को ममता बनर्जी ने बताया दृष्टिविहिन, कहा- ये है चुनाव का इनाम

    मोदी सरकार 2.0 के बजट को ममता बनर्जी ने बताया दृष्टिविहिन, कहा- ये है चुनाव का इनाम

    ममता ने अपने ट्विटर हैंडल पर कई पोस्ट कर बजट पर अपनी प्रतिक्रया दी. उन्होंने लिखा कि बजट 2019 'पूरी तरह दृष्टिविहीन' समूचा दृष्टिकोण पटरी से उतरा हुआ. उन्होंने कहा कि इस पर, न केवल उनका लगाया हुआ उपकर है, बल्कि खासतौर से बढ़ाया गया उत्पाद शुल्क है, जिस कारण पेट्रोल और डीजल के दाम लगभग 2.50 रुपये प्रति लीटर तक बढ़ जाएंगे.

  • Budget 2019: गृह मंत्रालय को मिले 1.19 लाख करोड़ रुपये, पिछले साल के मुकाबले इतनी हुई बढ़ोतरी

    Budget 2019: गृह मंत्रालय को मिले 1.19 लाख करोड़ रुपये, पिछले साल के मुकाबले इतनी हुई बढ़ोतरी

    केंद्र शासित प्रदेशों और राष्ट्रीय चक्रवात जोखिम पर विशेष जोर देने के साथ शमन परियोजना के लिए यह वृद्धि की गई है. केंद्रीय वित्त और कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शुक्रवार को संसद में पेश किए गए बजट में केंद्र शासित प्रदेशों के लिए 15,098 करोड़ रुपये का आवंटन शामिल है. हालांकि, बजट में राष्ट्रीय चक्रवात जोखिम शमन परियोजना के लिए 296 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं, जिसके लिए पिछले बजट में केवल 3 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे. 

  • Budget 2019: मिडिल क्लास ने सोशल मीडिया पर जताई नाराजगी, लिखा- 'अच्छा सिला दिया मेरे प्यार का'

    Budget 2019: मिडिल क्लास ने सोशल मीडिया पर जताई नाराजगी, लिखा- 'अच्छा सिला दिया मेरे प्यार का'

    एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने ट्वीट किया कि अमेरिकी डॉलर को मुद्रा का बेंचमॉर्क बनाने के बजाए भारतीय रुपये को मजबूत बनाने पर काम क्यों नहीं किया गया. बजट के संबंध में पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली के ट्वीट के बाद एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने लिखा कि यह आम ईमानदार करदाता और मध्य वर्ग के लिए सबसे खराब बजट में से एक है.

  • 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के लिए ये बजट कितना प्रभावी?

    5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के लिए ये बजट कितना प्रभावी?

    मोदी सरकार पार्ट- 2 का पहला बजट आ गया. चुनाव ख़त्म हो चुका है इसलिए बजट में हल्ला हंगामा कम है. इसका संदेश यह भी है कि अगर सरकार के आर्थिक क्रिया कलापों को देखना समझना है तो बजट के बाहर भी देखना होगा. जिन्हें सिर्फ बजट में देखने की आदत है उनके लिए बजट में भाषण भी है. सवाल है बजट जैसे विस्तृत दस्तावेज़ को साबुन तेल के दामों में उतार-चढ़ाव से देखा जाए या उन नीतियों को लागू करने के लिए पैसे के इंतज़ाम और पैसे के ख़र्च के हिसाब से देखा जाए.

  • बजट में 'स्टडी इन इंडिया का' ज़िक्र, लेकिन 2018 में ही लॉन्च हो चुकी है ये योजना!

    बजट में 'स्टडी इन इंडिया का' ज़िक्र, लेकिन 2018 में ही लॉन्च हो चुकी है ये योजना!

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को आम बजट पेश किया. उन्होंने भारत में विदेशी छात्रों को पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करने को लेकर 'स्टडी इन इंडिया' कार्यक्रम की शुरुआत की बात कही है. हालांकि 18 अप्रैल 2018 को सुषमा स्वराज ने एक वेबसाइट लॉन्च की थी. इस वेबसाइट का नाम है Study in India Portal.

  • Budget 2019: मोदी सरकार के पहले बजट में किसको क्या मिला, यहां पढ़ें डिटेल में

    Budget 2019: मोदी सरकार के पहले बजट में किसको क्या मिला, यहां पढ़ें डिटेल में

    नरेन्द्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले आम बजट (Budget 2019) में मध्यम वर्ग, युवाओं, महिलाओं समेत सभी वर्गों के लिये विभिन्न योजनाओं का प्रस्ताव किया है.

  • Budget 2019 Highlights: स्वास्थ्य क्षेत्र को मिले 62,398 करोड़ रूपये, बीते दो वित्तीय वर्षों के मुकाबले सर्वाधिक

    Budget 2019 Highlights: स्वास्थ्य क्षेत्र को मिले 62,398 करोड़ रूपये, बीते दो वित्तीय वर्षों के मुकाबले सर्वाधिक

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को आगामी वित्त वर्ष 2019-2020 के लिए स्वास्थ्य क्षेत्र को 62,659.12 करोड़ रूपये देने की घोषणा की है. यह धनराशि बीते दो वित्तीय वर्षों में दी गई धनराशि से कहीं अधिक है. साल 2018-2019 के लिए पेश बजट में इस क्षेत्र को 52,800 करोड़ रूपये दिये गए थे.