NDTV Khabar

Tax slab


'Tax slab' - 28 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • अरुण जेटली को कैसे समझ आ गया एक GST रेट, क्या आप समझ पाए...?

    अरुण जेटली को कैसे समझ आ गया एक GST रेट, क्या आप समझ पाए...?

    4 अगस्त, 2016 को हमने एक लेख लिखा था. उस हफ्ते राज्यसभा में GST को लेकर बहस हुई थी. कांग्रेस और BJP के नेताओं की बहस को सुनते हुए मैंने लिखा था, "राज्यसभा में वित्तमंत्री अरुण जेटली और पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम की भाषा और देहभाषा ऐसी थी, जैसे दोनों एक चैप्टर पढ़कर आए हों और उसे अपना पर्चा बताने का प्रयास कर रहे हों...

  • अब सबसे ऊंचे जीएसटी स्लैब में सिर्फ 35 उत्पाद

    अब सबसे ऊंचे जीएसटी स्लैब में सिर्फ 35 उत्पाद

    माल एवं सेवा कर (जीएसटीGST) परिषद ने सबसे ऊंचे 28 प्रतिशत के कर स्लैब में उत्पादों की सूची को घटाकर 35 कर दिया है. अब इस सूची में एसी, डिजिटल कैमरा, वीडियो रिकॉर्डर, डिशवॉशिंग मशीन और वाहन जैसे 35 उत्पाद रह गए हैं. पिछले एक साल के दौरान जीएसटी परिषद ने सबसे ऊंचे कर स्लैब वाले 191 उत्पादों पर कर घटाया है. 

  • ITR 2018-19 या कहें वित्त वर्ष 2017-18 के लिए इनकम टैक्स स्लैब

    ITR 2018-19 या कहें वित्त वर्ष 2017-18 के लिए इनकम टैक्स स्लैब

    आयकर रिटर्न भरने का समय चल रहा है. सभी करदाताओं को को 31 जुलाई तक अपने अपने रिटर्न फाइल करने हैं. वित्त वर्ष 2017-18 या कहें आकलन वर्ष 2018-19 (एसेसमेंट ईयर Assesment Year 2018-19) के लिए आयकर (इनकम टैक्स) रिटर्न भरने में कई लोग लग गए हैं. अकसर देखा गया है कि लोगों को ऐसे समय लोगों को इनकम टैक्स स्लैब की जानकारी की जरूरत पड़ती है. उस यह देखना होता है कि वह किस स्लैब या कहें कि आयकर के दायरे में आता है जिसके हिसाब से उसे सरकार को कर देना होगा. 

  • राहुल गांधी का जीएसटी की एक दर रखने का विचार त्रुटिपूर्ण : अरुण जेटली

    राहुल गांधी का जीएसटी की एक दर रखने का विचार त्रुटिपूर्ण : अरुण जेटली

    माल एवं सेवाकर (जीएसटी) की एक दर की पैरवी करने के कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के विचार को दरकिनार करते हुए केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने रविवार को कहा कि यह व्यवस्था उन देशों में लागू हो सकती है जहां पूरी आबादी की व्यय क्षमता एक जैसी और बेहतर हो.

  • आयकर नियमों में 1 अप्रैल से लागू हो गए हैं बदलाव, अब कहां करें निवेश

    आयकर नियमों में 1 अप्रैल से लागू हो गए हैं बदलाव, अब कहां करें निवेश

    नया वित्त वर्ष 1 अप्रैल से शुरू हो चुका है और इस साल से सरकार ने इसमें कुछ बदलाव किए हैं. हालांकि इनकम टैक्स के स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है, लेकिन कुछ कटौतियां किसी व्यक्ति की टैक्स लगने योग्य कमाई पर प्रभाव डालेगी. इसलिए, नए वित्त वर्ष में निवेश की सही योजना अभी से ही बना लेनी चाहिए, क्योंकि अगर सही तरीके से निवेश किया जाएगा तो कम इनकम टैक्स चुकाना पड़ेगा. एस्सेल वेल्थ सर्विसेज के कार्यकारी निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी बृजेश परनामी से जानते हैं कि क्या हुआ है बदलाव और कहां करनी चाहिए निवेश. 

  • आयकर नियमों में 1 अप्रैल से लागू हो गए हैं बदलाव, अब कहां करें निवेश

    आयकर नियमों में 1 अप्रैल से लागू हो गए हैं बदलाव, अब कहां करें निवेश

    नया वित्त वर्ष 1 अप्रैल से शुरू हो चुका है और इस साल से सरकार ने इसमें कुछ बदलाव किए हैं. हालांकि इनकम टैक्स के स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है, लेकिन कुछ कटौतियां किसी व्यक्ति की टैक्स लगने योग्य कमाई पर प्रभाव डालेगी. इसलिए, नए वित्त वर्ष में निवेश की सही योजना अभी से ही बना लेनी चाहिए, क्योंकि अगर सही तरीके से निवेश किया जाएगा तो कम इनकम टैक्स चुकाना पड़ेगा. एस्सेल वेल्थ सर्विसेज के कार्यकारी निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी बृजेश परनामी से जानते हैं कि क्या हुआ है बदलाव और कहां करनी चाहिए निवेश. 

  • मोदी सरकार के बजट को लेकर बीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा ने कही यह बड़ी बात

    मोदी सरकार के बजट को लेकर बीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा ने कही यह बड़ी बात

    भाजपा के बागी नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने गुरुवार को पेश किये गये केन्द्र सरकार के बजट को निराशाजनक बताया है. यशवंत सिन्हा ने कहा कि ‘उम्मीद थी कि यह बजट कृषि और ग्रामीण क्षेत्र के लिये महत्वपूर्ण और शुभ समाचार लेकर आयेगा. लेकिन कृषि क्षेत्र के साथ-साथ यह बजट शिक्षा, स्वास्थ और रोजगार की दृष्टि से निराशाजनक रहा.’

  • बजट पर राहुल गांधी का तंज, 'शुक्र है' सरकार का केवल एक साल बचा है

    बजट पर राहुल गांधी का तंज, 'शुक्र है' सरकार का केवल एक साल बचा है

    कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बजट को लेकर केंद्र सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि पिछले चार वर्षों में केवल वादे किए गए हैं और 'शुक्र है कि' मोदी सरकार का केवल एक साल बचा हुआ है. राहुल ने ट्विटर पर लिखा कि राजग सरकार के चार साल बीत गए, लेकिन यह किसानों से उनके उत्पादों के बारे में उचित मूल्य के केवल वादे कर रही है.

  • बजट में 10 करोड़ परिवारों को मेडिकल बीमा का लाभ और किसानों को बड़ी राहत, 10 बड़े ऐलान

    बजट में 10 करोड़ परिवारों को मेडिकल बीमा का लाभ और किसानों को बड़ी राहत, 10 बड़े ऐलान

    वित्तमंत्री अरुण जेटली ने मोदी सरकार का अंतिम पूर्णकालिक बजट पेश किया. इस बजट में पीएम मोदी के 'न्‍यू इंडिया' की झलक देखने को मिली. वित्तमंत्री अरुण जेटली ने अपने बजट भाषण में कई योजनाओं का ऐलान किया. वो अपने बजट भाषण में वे किसान, गरीब, युवा, गृहणी, उद्यमी सबों को खुश करते नजर आए. वित्तमंत्री जेटली ने किसानों को लागत मूल्‍य से 50 फीसदी ज्‍यादा देने की घोषणा की है. तो चलिए जानते हैं बजट भाषण की 10 खास बातें.

  • बजट पर बोले सीएम केजरीवाल, मोदी सरकार ने सौतेला व्यवहार किया, उम्मीद के बदले निराशा हाथ लगी

    बजट पर बोले सीएम केजरीवाल, मोदी सरकार ने सौतेला व्यवहार किया, उम्मीद के बदले निराशा हाथ लगी

    मोदी सरकार के आखिरी पूर्णकालिक आम बजट को लेकर निराशा जताते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाए कि केंद्र दिल्ली के साथ ‘सौतेला व्यवहार जारी रखे हुए है.’ केजरीवाल ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में महत्वपूर्ण ढांचागत विकास के लिए कुछ वित्तीय सहायता की उन्हें उम्मीद थी. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्रीय करों और शुल्कों में दिल्ली की हिस्सेदारी नहीं बढ़ाने पर नाखुशी जताई और कहा कि भाजपा नीत केंद्र सरकार दिल्ली के लोगों को ‘दोयम दर्जे का नागरिक’ समझती है.

  • 'विकास वाला बजट' के लिए अमित शाह ने सरकार को दी बधाई, कहा- किसानों, गरीबों और दलितों के लिए कई योजनाएं

    'विकास वाला बजट' के लिए अमित शाह ने सरकार को दी बधाई, कहा- किसानों, गरीबों और दलितों के लिए कई योजनाएं

    भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने मोदी सरकार की आखिरी पूर्णकालिक बजट के लिए सरकार को धन्यवाद दिया है. साथ ही सरकार के इस बजट को विकास वाला बजट करार दिया है. अमित शाह ने कहा कि यह विकास की कल्पना और विकास वाला बजट है. विकास की कल्पना को किसान और दलितों तक पहुंचाने के लिए इस बजट में ढेर सारी चीजों को समावेश किया गया है. उन्होंने कहा कि किसानों, गरीबों, दलितों और जनजातियों के लिए इस बजट में कई योजनाएं हैं. 

  • बजट में बिहार के लिए कुछ नहीं, मोदी सरकार सिर्फ़ कागज़ों पर बातों के पकौड़े उतार रही है : तेजस्‍वी यादव

    बजट में बिहार के लिए कुछ नहीं, मोदी सरकार सिर्फ़ कागज़ों पर बातों के पकौड़े उतार रही है : तेजस्‍वी यादव

    बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी ने इस बजट को निराशाजनक करार दिया. उन्होंने ट्वीट कर नीतीश कुमार से सवाल करते हुए लिखा, "बजट में बिहार के लिए कुछ भी नहीं है. बिहार को विशेष पैकेज और विशेष राज्य के दर्जे पर कुछ भी नहीं मिला. नीतीश कुमार बताएं क्या यही उनके लिए डबल इंजन है? नीतीश जी की वजह से भाजपा की केंद्र सरकार बिहार के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है."

  • Budget 2018: इनकम टैक्स दरों में कोई बदलाव नहीं, लेकिन ये 15 बदलाव जो आपकी ज़िन्दगी पर डालेंगे असर

    Budget 2018: इनकम टैक्स दरों में कोई बदलाव नहीं, लेकिन ये 15 बदलाव जो आपकी ज़िन्दगी पर डालेंगे असर

    अरुण जेटली ने बजट 2018 में टैक्स को लेकर कुछ ऐसे बदलाव किए हैं जोकि आपके रोजमर्रा लाइफस्टाइल में असर डाल सकता है.

  • एक बार फिर से जीएसटी के शीर्ष स्लैब्स की समीक्षा कर सकती है सरकार

    एक बार फिर से जीएसटी के शीर्ष स्लैब्स की समीक्षा कर सकती है सरकार

    जीएसटी को लेकर सरकार एक बार फिर से उसकी समीक्षा करने का विचार कर रही है. करीब 200 वस्तुओं पर पिछले महीने माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की दर घटाने के बाद सरकार ने शनिवार को संकेत दिया कि वह 28 प्रतिशत के शीर्ष स्लैब में शामिल वस्तुओं की समीक्षा कर सकती है.

  • GST दरों में फिर बदलाव, अब सिर्फ 50 वस्तुओं पर ही 28 फीसदी टैक्स : 10 खास बातें

    GST दरों में फिर बदलाव, अब सिर्फ 50 वस्तुओं पर ही 28 फीसदी टैक्स : 10 खास बातें

    गुड्स एंड सर्विसेज़ टैक्स, यानी GST की सर्वाधिक दर 28 फीसदी के तहत अब तक आने वाली लगभग 220 वस्तुओं में से अब सिर्फ 50 वस्तुओं पर ही यह दर लागू होगी, और शेष वस्तुओं को कम टैक्स वाली स्लैबों में डाल दिया गया है. दरअसल, व्यापारियों तथा छोटे व्यवसायियों की शिकायत थी कि इसी साल 1 जुलाई से लागू किए गए नए राष्ट्रव्यापी टैक्स की वजह से उनकी टैक्स देनदारी और प्रशासनिक खर्च बढ़ गया है, और इसी वजह से यह फैसला किया गया है.

  • जीएसटी : आम जरूरत की 200 चीजें हो सकती हैं सस्ती, आज ऐलान संभव

    जीएसटी : आम जरूरत की 200 चीजें हो सकती हैं सस्ती, आज ऐलान संभव

    गुवाहाटी में चल रही जीएसटी काउंसिल की बैठक का आज दूसरा दिन है. बैठक के बाद आम लोगों को कुछ राहत मिलने की उम्मीद है. माना जा रहा है कि शैंपू से लेकर फर्नीचर तक 200 चीजों के दाम सस्ते हो सकते हैं.

  • दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की मांग - 'जीएसटी में अधिकतम 12 फीसदी हो टैक्स स्लैब'

    दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की मांग - 'जीएसटी में अधिकतम 12 फीसदी हो टैक्स स्लैब'

    दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने जीएसटी में अधिकतम टैक्स स्लैब 12% रखने की मांग की है और 28% तथा 18 % के टैक्स स्लैब को हटाने को कहा है. ये बातें सीएम अरविंद केजरीवाल ने अशोका होटल में दिल्ली सरकार द्वारा आयोजित जीएसटी के एक कार्यक्रम में कही.

  • जीएसटी (GST) : 66 चीजों की दरों को कम किया; इंसुलिन-सीसीटीवी का स्लैब घटाया; यह है कारण

    जीएसटी (GST) : 66 चीजों की दरों को कम किया; इंसुलिन-सीसीटीवी का स्लैब घटाया; यह है कारण

    हीरा, चमड़ा, वस्त्र, आभूषण और छपाई जैसे सेक्टर में आउटसोर्सिग के रोजगार को प्रोत्साहित करने के लिए जीसटी दर घटा कर पांच फीसदी किया गया है. 75 लाख रुपये तक के कारोबार वाले व्यापारी, विनिर्माता और रेस्तरॉ कंपोजीशन योजना का लाभ उठा सकते हैं, जबकि पहले यह योजना 50 लाख रुपये तक के कारोबार के लिए थी.  

Advertisement