'Time higher education' - 10 न्यूज़ रिजल्ट्स
  • Career | गुरुवार जून 4, 2020 05:11 PM IST
    टाइम हायर एजुकेशन (Time Higher Education) ने इस साल की एशिया यूनिवर्सिटी रैकिंग (THE Asia University Rankings) की घोषणा कर दी है. भारत के 56 इंस्टीट्यूट्स या यूनिवर्सिटी इस प्रोग्राम में शामिल हुए थे, जिनमें से 8 टॉप 100 में जगह बना पाए हैं. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (IISc) ने सबसे बेहतर प्रदर्शन किया है और उसने 36वीं रैंक हासिल की है. 
  • Career | शुक्रवार अप्रैल 17, 2020 10:28 AM IST
    देश की कई लीडिंग इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) ने इस साल टाइम्स हायर एजुकेशन (THE) की किसी भी रैंकिंग में भाग ना लेने का फैसला किया है, क्योंकि वे इस प्रक्रिया की पारदर्शिता को लेकर संतुष्ट नहीं हैं. इन सात संस्थानों में आईआईटी बॉम्बे, आईआईटी दिल्ली, आईआईटी गुवाहाटी, आईआईटी कानपुर, आईआईटी खड़गपुर, आईआईटी मद्रास और आईआईटी रुड़की शामिल हैं. एक ऑफिशियल रिलीज में इस बात की जानकारी दी गई है. 
  • India | गुरुवार जनवरी 31, 2019 08:42 PM IST
    देश के दस करोड़ से भी अधिक पहली बार मतदान करने वाले युवाओं के साथ अन्य युवा मतदाताओं को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पाले में लाने के लिए कोशिशें शुरू हो गई हैं. देश भर के आईआईटी और अन्य उच्च शैक्षणिक संस्थानों में केंद्रीय मंत्री युवाओं के साथ टाउन हॉल कर मोदी सरकार की उपलब्धियों को साझा करेंगे.
  • Career | गुरुवार जनवरी 17, 2019 01:35 PM IST
    टाइम्स हायर एजुकेशन इमर्जिंग इकोनॉमीज यूनिवर्सिटी की 2019 की रैंकिंग में जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने एक बड़ी छलांग लगाई है. पिछले साल की रैंकिंग में 201-250 के बीच जगह बनाने वाली जेएमआई इस साल 187 वें स्थान पर आ पंहुची है. इस बार टाइम्स हायर एजुकेशन इमर्जिंग इकोनॉमीज यूनिवर्सिटी की रैंकिंग में सिर्फ उन्हीं शैक्षिक संस्थानों को शामिल किया गया है जिन्हें एफटीसएसई ने ''एडवांस्ड इमरजिंग'', ''सैकण्डरी इमरजिंग'' या ''फ्रंटिअर'' के रूप मान्यता मिली हुई है. भारत सेकंडरी इमरजिंग श्रेणी में आता है.
  • Blogs | सोमवार मार्च 19, 2018 10:45 PM IST
    यूनिवर्सिटी सीरीज़ धीरे-धीरे लौटती रहेगी. 27 अंक पर हमने छोड़ा था, अब 28वें से शुरू कर रहा हूं जो यहां से नए तरीके से चलेगी. एक नेता ने कहा है कि हिन्दुओं को मंदिर के लिए शहादत देनी पड़ेगी. उस नेता ने कब कहा कि हिन्दुओं के पढ़ाई लिखाई अस्पताल के लिए हम प्रतिनिधि शहादत देंगे. ये जिस शहादत की बात कर रहे हैं क्या आपको लगता है कि इसमें अच्छे घरों के लोग जाएंगे.
  • Blogs | गुरुवार अक्टूबर 12, 2017 10:01 PM IST
    पिछले बीस सालों में यूनिवर्सिटी और कॉलेज सिस्टम को बर्बाद नहीं किया गया होता तो आज भारत के लोकतंत्र में व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी का इतना रोल नहीं होता. दंगा कराने से लेकर फेक न्यूज़ फैलाने वाली व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी से जुड़ नौजवान से लेकर नागरिक तक ख़ुद को शिक्षित समझने लगे हैं.
  • Blogs | बुधवार अक्टूबर 11, 2017 11:16 PM IST
    उच्च शिक्षा की हालत ख़राब नहीं है, उनकी ख़राब है जो उच्च शिक्षा के लिए कॉलेज गए, एडमिशन फीस दी, 3-4 साल वहां बिताया फिर भी इस बात से फर्क नहीं पड़ा कि क्लास रूम में पढ़ाने के लिए कोई प्रोफेसर नहीं आया. वे डिग्री का इंतज़ार करते रहे, प्रोफेसर का किया ही नहीं.
  • Career | गुरुवार सितम्बर 7, 2017 07:33 AM IST
    चीन ही एकमात्र ब्रिक्स राष्ट्र है, जो नाटकीय रूप से उन्नत हुआ है, यह अब तालिका में चौथा सबसे अधिक प्रतिनिधित्व वाला राष्ट्र है, टॉप 200 में इसके 60 विश्वविद्यालय शामिल हैं.यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड ने लगातर दूसरे साल में अपना पहला स्थान बनाए रखा है, जबकि कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय चौथे स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंच गया है.
  • Blogs | बुधवार अप्रैल 5, 2017 09:36 PM IST
    दावे के साथ तो नहीं कह सकता मगर इंडिया टुडे, आउटलुक और वीक जैसी अंग्रेजी की साप्ताहिक पत्रिकाओं ने सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों की रेटिंग शुरू की. पहली बार इंडिया टुडे ने कॉलेजों की रैंकिंग कब की थी इसका तो ध्यान नहीं मगर दस बारह साल से यह पत्रिका रेटिंग तो कर ही रही है. हर साल बेस्ट कॉलेज का विशेषांक आता था. नंबर वन कॉलेज की तस्वीर होती थी. खुशहाल छात्रों की तस्वीर होती थी, जिन्हें देखकर लगता था कि भारत में भी नंबर वन कॉलेज हैं. हम सबने इन विशेषांकों को देखा ही होगा. इसके बाद कई एजेंसियां और न्यूज़ चैनल नंबर वन, नंबर टू बनाने लगे जिनमें प्राइवेट कॉलेजों का बोलबाला होने लगा. फिर भी कुछ कॉलेज तमाम तरह की सूचियों में स्थायी भाव से बने रहे. ऐसा नहीं है कि उस वक्त सरकार कॉलेजों की ग्रेडिंग नहीं कर रही थी.
  • Blogs | मंगलवार जनवरी 19, 2016 12:44 AM IST
    हमारी संस्थाओं की सजाएं सामंतवादी और जातिवादी सोच से क्यों मिलती-जुलती हैं। गांव से निकाल देना, कुएं से पानी नहीं पीने देना और होस्टल से निकाल देना। यह सजा है या सजा के नाम पर उसी मानसिकता की निरंतरता। हम हैदराबाद यूनिवर्सिटी के एक दलित छात्र की आत्महत्या की बात कर रहे हैं।
और पढ़ें »

Time higher education ख़बरें

Time higher education से जुड़े अन्य समाचार »

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com