NDTV Khabar

Triple talaq bill in rajya sabha


'Triple talaq bill in rajya sabha' - 22 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • रविशंकर प्रसाद ने क्यों कहा- मैं मोदी सरकार का कानून मंत्री हूं, राजीव गांधी सरकार का नहीं

    रविशंकर प्रसाद ने क्यों कहा- मैं मोदी सरकार का कानून मंत्री हूं, राजीव गांधी सरकार का नहीं

    तीन तलाक बिल मंगलवार को राज्यसभा में पारित हो गया. इस तरह आखिरकार इस चर्चित विधेयक को संसद की अंतिम मंजूरी भी मिल गई. अब राष्ट्रपति की स्वीकृति के साथ यह कानून का रूप ले लेगा. तीन तलाक बिल पर राज्यसभा में चर्चा के दौरान विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने न सिर्फ इसके पक्ष में तर्क दिए बल्कि कांग्रेस को निशाना भी बनाया. उन्होंने शाहबानो मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सरकार द्वारा लाए गए विधेयक का जिक्र करते हुए कांग्रेस पर कड़ा प्रहार किया. प्रसाद ने कहा कि ‘मैं नरेंद्र मोदी सरकार का कानून मंत्री हूं, राजीव गांधी सरकार का कानून मंत्री नहीं हूं.’

  • लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी तीन तलाक बिल पास, सरकार ने 'ऐतिहासिक दिन' बताया

    लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी तीन तलाक बिल पास, सरकार ने 'ऐतिहासिक दिन' बताया

    Triple Talaq Bill: विपक्ष के कड़े ऐतराज और बिल को सेलेक्ट कमेटी में भेजने की मांग के बीच तीन तलाक बिल (Triple Talaq Bill) राज्यसभा से पास हो गया. राज्यसभा में बिल के समर्थन में 99, जबकि विरोध में 84 वोट पड़े.

  • Triple Talaq Bill 2019: पढ़िए, तीन तलाक बिल में क्या हैं प्रावधान

    Triple Talaq Bill 2019: पढ़िए, तीन तलाक बिल में क्या हैं प्रावधान

    मंगलवार को राज्यसभा में तीन तलाक बिल (Triple Talaq Bill) पेश किया गया. इस बिल को पास कराने के लिए बीजेपी ने अपने सभी सांसदों को व्हिप जारी किया है. बता दें कि तीन तलाक बिल को राज्यसभा में संशोधित कार्यसूची में डाला गया है. राज्यसभा में एनडीए (NDA) को बहुमत नहीं  है. जनता दल यूनाईटेड (JDU) बिल के के खिलाफ है. सरकार को बीजेडी (BJD) के समर्थन की उम्मीद है. तीन तलाक बिल 25 जुलाई को लोकसभा में विपक्ष के भारी विरोध के बीच पारित हो चुका है. कांग्रेस (Congress) ने तीन तलाक को निषेध करने वाले विधेयक को स्थायी समिति को भेजने की मांग करते हुए कहा है कि तीन तलाक को फौजदारी का मामला बनाना उचित नहीं है. अब मोदी सरकार के सामने तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पारित कराने की चुनौती है. लोकसभा में पारित तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पारित कराना आसान नहीं है. राज्यसभा में एनडीए को बहुमत हासिल नहीं है और इसके अलावा उसका सहयोगी दल जेडीयू भी इस बिल पर उसके साथ नहीं है. आइये पढ़ते हैं इसके प्रावधान और बिल से जुड़ी 10 बातें...

  • राज्यसभा में बहुमत के लिए BJP कर रही 'पीछे के दरवाजे' का इस्तेमाल, कई महत्वपूर्ण बिल पास करवाने पर नजर...

    राज्यसभा में बहुमत के लिए BJP कर रही 'पीछे के दरवाजे' का इस्तेमाल, कई महत्वपूर्ण बिल पास करवाने पर नजर...

    भारतीय जनता पार्टी (BJP) राज्यसभा में बहुमत हासिल करने के लिए 'पीछे के दरवाजे' का इस्तेमाल धड़ल्ले से कर रही है. पहले टीडीपी (TDP) और अब इंडियन नेशनल लोक दल (INLD) के सांसद को बीजेपी में शामिल करवा लिया गया है. इस तरह बीजेपी की संख्या सदन में सबसे ज़्यादा 75 और एनडीए की 110 पहुंच गई है, हालांकि बहुमत से एनडीए अब भी दूर है.

  • राफेल डील : राज्यसभा में पेश हुई CAG रिपोर्ट, पिछली डील से बताया बेहतर, कहा- 17.08 फीसदी रकम बचाई

    राफेल डील : राज्यसभा में पेश हुई CAG रिपोर्ट, पिछली डील से बताया बेहतर, कहा- 17.08 फीसदी रकम बचाई

    रिपोर्ट में कहा गया है, '126 विमानों के लिए किए गए सौदे की तुलना में भारत ने भारतीय आवश्यकतानुसार करवाए गए परिवर्तनों के साथ 36 राफेल विमानों के सौदे में 17.08 फीसदी रकम बचाई है.' इसके साथ ही इसमें कहा गया है, 'पहले 18 राफेल विमानों का डिलीवरी शेड्यूल उस शेड्यूल से पांच महीने बेहतर है, जो 126 विमानों के लिए किए गए सौदे में प्रस्तावित था.' राज्यसभा में पेश की गई भारतीय वायुसेना में कैपिटल एक्विज़िशन्स पर CAG रिपोर्ट में 16 पन्नों में राफेल सौदे के बारे में जानकारी दी गई है.

  • संसद Live: राज्यसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, पेश नहीं हो सके तीन तलाक और नागरिकता संशोधन बिल

    संसद Live: राज्यसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, पेश नहीं हो सके तीन तलाक और नागरिकता संशोधन बिल

    राज्यसभा में मानव तस्करी (रोकथाम, संरक्षण और पुनर्वास) विधेयक, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फूड टेक्नोलॉजी, एंटरप्रेन्योरशिप एंड मैनेजमेंट बिल, पर्सनल लॉ (संशोधन) विधेयक, उपभोक्ता संरक्षण विधेयक, कंपनी (संशोधन) विधेयक, मध्यस्थता एवं सुलह (संशोधन) विधेयक, नई दिल्ली अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र विधेयक, आधार और अन्य कानून (संशोधन) विधेयक, और संविधान (अनुसूचित जनजाति) आदेश (तीसरा संशोधन) विधेयक पेश किए जाएंगे.

  • राहुल पर रक्षा मंत्री का पलटवार- हम 2019 में ही ले आएंगे पहला राफेल विमान, कांग्रेस बताए 10 साल में क्यों नहीं लाई?

    राहुल पर रक्षा मंत्री का पलटवार- हम 2019 में ही ले आएंगे पहला राफेल विमान, कांग्रेस बताए 10 साल में क्यों नहीं लाई?

    संसद का शीतकालीन सत्र लगातार हंगामे की वजह से बाधित हो रहा है. लोकसभा में जहां राफेल पर बहस जारी है, वहीं राज्यसभा में तीन तलाक विधेयक पेश होना है.

  • लोकसभा में हंगामा करने पर 19 सासंद सस्पेंड

    लोकसभा में हंगामा करने पर 19 सासंद सस्पेंड

    संसद के शीतकालीन सत्र में आज यानी बुधवार का दिन भी घमासान भरा होने की उम्मीद है. लोकसभा में आज भी राफेल सौदे पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप के दौर चलने और हंगामे के आसार हैं. दरअसल, बुधवार को राफेल मुद्दे पर बहस के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला और राफेल में घोटाले की बात दोहराई.

  • राहुल गांधी ने पीएम मोदी से पूछे 4 सवाल लेकिन तीसरा गायब. यूजर ने पूछा- मोदी और अंबानी ने किडनैप कर लिया क्या?

    राहुल गांधी ने पीएम मोदी से पूछे 4 सवाल लेकिन तीसरा गायब. यूजर ने पूछा- मोदी और अंबानी ने किडनैप कर लिया क्या?

    राफेल मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सवालों के घेरे में लिया तो सियासी घमासान तेज हो गया. संसद ने शुरू हुआ आरोप-प्रत्यारोप का दौर सोशल मीडिया पर भी देखने को मिला. राहुल गांधी ने ट्वीट कर पीएम मोदी से चार सवाल पूछे तो रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने चुटकी ले ली.

  • जब राहुल ने लोकसभा स्पीकर से कहा- मैम, मैं अनिल अंबानी नहीं तो क्या, डबल A कह सकता हूं...

    जब राहुल ने लोकसभा स्पीकर से कहा- मैम, मैं अनिल अंबानी नहीं तो क्या, डबल A कह सकता हूं...

    संसद के शीतकालीन सत्र में राफेल सौदे पर बहस को लेकर बुधवार का दिन काफी गहमा-गहमी भरा रहा. लोकसभा में बुधवार को राफेल पर बहस के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी नीत मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला और कई आरोप भी लगाए. राफेल पर बहस के दौरान राहुल ने आरोप लगाया कि पीएम के कहने पर अनिल अंबानी को कॉन्ट्रैक्ट दिया गया. उन्होंने राफेल के मुद्दे पर अनिल अंबानी का नाम लिया, जिस पर स्पीकर सुमित्रा महाजन ने उन्हें टोकते हुए कहा कि आप उनका नाम नहीं ले सकते. ऐसा करना नियम के खिलाफ होगा. 

  • राफेल पर सरकार का JPC से इनकार, स्पीकर ने AIADMK के 26 सांसदों को किया सस्पेंड, कार्यवाही स्थगित

    राफेल पर सरकार का JPC से इनकार, स्पीकर ने AIADMK के 26 सांसदों को किया सस्पेंड, कार्यवाही स्थगित

    राहुल गांधी ने सदन में बहस करते हुए पीएम मोदी से पूछा कि किसने और क्यों भारतीय वायुसेना की जरूरतों की लिस्ट बदली. 126 विमानों की संख्या घटाकर 36 कर दी गई.

  • Triple Talaq Bill: आसान नहीं राज्यसभा की राह, यह है विपक्षी एकता का गणित...

    Triple Talaq Bill: आसान नहीं राज्यसभा की राह, यह है विपक्षी एकता का गणित...

    राज्यसभा में सोमवार को तीन तलाक संबंधी विधेयक (Triple Talaq Bill) पर चर्चा नहीं हो सकी. कांग्रेस के नेतृत्व में लगभग समूचे विपक्ष ने इसे प्रवर समिति में भेजने की मांग की, वहीं सरकार ने आरोप लगाया कि विपक्ष मुस्लिम महिलाओं के अधिकार से जुड़े इस विधेयक को जानबूझकर लटकाना चाहता है. दोनों पक्षों के अपने-अपने रुख पर कायम रहने के कारण इस पर चर्चा नहीं हो सकी और हंगामे के कारण कार्यवाही दो बार के स्थगन के बाद पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई. अब इस विधेयक पर 2 जनवरी को चर्चा होगी. हालांकि लोकसभा में जिस आसानी से यह बिल पास हो गया, राज्यसभा में इसकी राह इतनी आसान नहीं दिख रही. 

  • ट्रिपल तलाक बिल से बहुत लोगों का जीवन प्रभावित होगा, पहले सेलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए : कांग्रेस

    ट्रिपल तलाक बिल से बहुत लोगों का जीवन प्रभावित होगा, पहले सेलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए : कांग्रेस

    राज्यसभा में सोमवार को तीन तलाक संबंधी विधेयक  को कांग्रेस ने संयुक्त प्रवर समिति में भेजने की मांग करते हुए कहा कि इससे बहुत सारे लोगों का जीवन प्रभावित होगा. हालांकि सरकार की ओर से कहा गया कि मुस्लिम महिलाओं के अधिकार से जुड़े इस विधेयक को विपक्ष जानबूझ कर लटकाना चाहता है.

  • राज्यसभा में तीन तलाक बिल: मोदी सरकार और विपक्षी एकता के कड़े इम्तिहान में 39 सांसद तय करेंगे नतीजे, जानें- सदन का समीकरण

    राज्यसभा में तीन तलाक बिल: मोदी सरकार और विपक्षी एकता के कड़े इम्तिहान में 39 सांसद तय करेंगे नतीजे, जानें- सदन का समीकरण

    कांग्रेस तथा अन्य विपक्षी दल तीन तलाक बिल को प्रवर समिति के पास भेजने की मांग कर रहे हैं. वहीं सत्तारूढ़ भाजपा और कांग्रेस ने व्हिप जारी करके अपने-अपने सदस्यों से सोमवार को ऊपरी सदन में उपस्थित रहने को कहा है. अन्य दलों ने भी अपने सांसदों से यह विधेयक सदन में पेश करने के दौरान उपस्थित रहने को कहा है.

  • राज्यसभा में पेश किया जाएगा तीन तलाक बिल, विपक्षी एकता का इम्तिहान, जानें 10 बड़ी बातें

    राज्यसभा में पेश किया जाएगा तीन तलाक बिल, विपक्षी एकता का इम्तिहान, जानें 10 बड़ी बातें

    मुस्लिमों में एक बार में तीन तलाक की प्रथा को अपराध की श्रेणी में लाने वाला तीन तलाक विधेयक आज राज्यसभा में पेश होगा. उधर, कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल इसे प्रवर समिति के पास भेजने की कोशिश में हैं. सत्तारूढ़ बीजेपी और कांग्रेस ने व्हिप जारी करके अपने-अपने सदस्यों से सोमवार को ऊपरी सदन में उपस्थित रहने को कहा है. अन्य दलों ने भी अपने सांसदों से यह विधेयक सदन में पेश करने के दौरान उपस्थित रहने को कहा है.कांग्रेस ने अपने सांसदों की बैठक बुलाई है. कई विपक्षी दल भी सोमवार की सुबह विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद के चैंबर में मुलाकात करके इस मुद्दे पर सदन की अपनी रणनीति बनाएंगे.लोकसभा में विपक्ष ने इस विधेयक पर और गौर करने के लिए इसे संसद की ज्वाइंट सेलेक्ट कमेटी के पास भेजने की मांग की थी.

  • तीन तलाक बिल पर अब दबाव में मोदी सरकार, राज्यसभा में विपक्षी एकता का यह है गणित

    तीन तलाक बिल पर अब दबाव में मोदी सरकार, राज्यसभा में विपक्षी एकता का यह है गणित

    लोकसभा में तीन तलाक बिल को पास कराने के बाद मोदी सरकार के इरादे बुलंद हैं, मगर राज्यसभा की राह इतनी आसान नहीं दिख रही है. राज्यसभा में यह बिल पास नहीं हो सके, इसके लिए विपक्ष एकजुट हो रहा है और इसे सेलेक्ट कमेटी के पास भेजने की मांग कर रहा है. तीन तलाक बिल पर कांग्रेस के साथ-साथ समाजवादी पार्टी के सुर भी एक हैं. दोनों पार्टियों का कहना है कि बिल को राज्यसभा में पारित कराने से पहले बिल को ज्वांइट सेलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाना चाहिए. बता दें कि किसी मसले पर जब भी राजनीतिक सहमति बनानी होती है तो ऐसे में उसे ज्वांइट सेलेक्ट कमेटी को भेजा जाता है.

  • मोदी सरकार के प्रयासों के बाद भी अगले सत्र तक टला ट्रिपल तलाक बिल, अब सरकार लाएगी अध्यादेश

    मोदी सरकार के प्रयासों के बाद भी अगले सत्र तक टला ट्रिपल तलाक बिल, अब सरकार लाएगी अध्यादेश

    मोदी कैबिनेट की मंज़ूरी के बाद तीन तलाक बिल को तीन संशोधनों के साथ आज राज्यसभा में पेश किया जाना था. मगर अब सूत्रों के हवाले से खबर है कि तीन तलाक बिल अब टल गया है. यानी अब शरद सत्र में ही तीन तलाक बिल लाया जाएगा. बताया जा रहा है कि सरकार तीन तलाक पर अध्यादेश लाएगी. दरअसल, मोदी कैबिनेट ने जो तीन तलाक संशोधन बिल को मंजूरी दी है, उसके मुताबिक ये तय किया गया है कि संशोधित बिल में दोषी को ज़मानत देने का अधिकार मेजिस्ट्रेट के पास होगा और कोर्ट की इजाज़त से समझौते का प्रावधान भी होगा. बता दें कि संसद का मॉनसून सत्र आज यानी शुक्रवार को ख़त्म हो रहा है.

  • आज राज्यसभा में पेश होगा ट्रिपल तलाक बिल, पास न होने पर यह है BJP का प्लान-B, 10 बातें

    आज राज्यसभा में पेश होगा ट्रिपल तलाक बिल, पास न होने पर यह है BJP का प्लान-B, 10 बातें

    मोदी कैबिनेट ने ट्रिपल तलाक बिल (triple talaq bill) में संशोधन को मंजूरी दे दी है और आज मोदी सरकार ट्रिपल तलाक संशोधन बिल संसद के मॉनसून सत्र के आखिरी दिन राज्यसभा में पेश करेगी. अगर विधेयक ऊपरी सदन में पारित हो जाता है तो इसे संशोधन पर मंजूरी के लिए वापस लोकसभा में पेश करना होगा. सूत्रों की मानें तो ट्रिपल तलाक संशोधन बिल को आज राज्यसभा की कार्यवाही में टॉप एजेंडे के तौर पर शामिल कर लिया गया है. मोदी कैबिनेट की इस ट्रिपल तलाक संशोधन बिल में जमानत जैसे कुछ संरक्षणात्मक प्रावधानों को मंजूरी दी गई है. यानी अब ये तय किया गया है कि संशोधित बिल में दोषी को ज़मानत देने का अधिकार मेजिस्ट्रेट के पास होगा.