NDTV Khabar

हम लोग: सोनू सूद जैसे लोग बने प्रवासी मजदूरों का सहारा

 Share

कोरोनावायरस के चलते पूरे देश में लॉकडाउन लागू है. इसके कारण लाखों प्रवासी देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे हुए हैं. हमने वो तस्वीरें भी देखी हैं जिनमें अपने गांव, कस्बों से दूर रह रहे हजारों मजदूरों का सफर बस चलता ही जा रहा है. कई बार हजारों किमी. पैदल, कभी छुपकर किसी ट्रक के पीछे, कभी साईकल पर तो कभी खुद के ही रिक्शे और ठेले पर. बेबसी की यह कहानी क्या सरकारों की सबसे बड़ी नाकामी को साबित करती है. इनके सामने दो तरह का संकट था. एक आशियाने का और दूसरा रोजगार का. दोनों ही छिन गए. जहां वह रह रहे थे उन शहरों ने उन्हें अपनाया नहीं. वे अपने गांव लौटने लगे तो गांव लौटने का कोई जरिया नहीं.



Advertisement

 
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com