NDTV Khabar

खबरों की खबर: कानून की पकड़ से बाहर क्यों चिन्मयानंद?

 Share

वाजपेयी सरकार में रहे मंत्री मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के करीबी और बीजेपी के वरिष्ठ नेता चिन्मयानंद को कानून ने कुछ ऐसी ढील दी है जैसे विदेशी राजदूतों को गैर मुल्क में मिलती है. इसे कहा जाता है 'डिप्लोमैटिक इम्युनिटी'. उनकी गिरफ्तारी नहीं हो सकती, उन पर इस देश के कानून लागू नहीं हैं. यहां तक कि हिन्दुस्तान की सरजमीं पर जो राज दूतावास हैं वो भी उस मुल्क की धरती मानी जाती है. शाहजहांपुर में चिन्मयानंद का आश्रम एक राज दूतावास जैसा ही हो गया है. वो किसी एम्बैसेडर से कम नहीं. आखिर रेप जैसे गंभीर आरोप लग जाने के बाद भी उन पर कोई कानूनी कार्रवाई नहीं हुई है. गिरफ्तारी तो छोड़िए FIR तक दर्ज नहीं हुई है. आरोप तो ये तक लग रहे हैं कि सबूत को नष्ट ना कर दे यूपी पुलिस.



Advertisement