NDTV Khabar

MoJo: बहुमत से लिया गया तीन तलाक के खिलाफ फैसला

 Share

अब कोई भी मुस्लिम शख्स एक साथ तीन बार तलाक़ बोलकर अपनी बीवी को तलाक़ नहीं दे पाएगा. पांच जजों की संवैधानिक पीठ के तीन जजों ने मुस्लिमों में तलाक़ की इस प्रथा को अमान्य, अवैध और असंवैधानिक करार दिया.



Advertisement