NDTV Khabar

अटल होने के मायने

 Share

एक उदार और अच्छी समझ वाले नेता के तौर पर अटल बिहारी वाजपेयी की छवि कुछ ऐसी हो चुकी है कि लोग भूल जाते हैं कि उनकी राजनीतिक दीक्षा दरअसल आरएसएस में ही हुई थी. बीजेरी सांसद तरुण विजय ने कहा कि शुरुआत में वो आरएसएस प्रचारक थे. उन्होंने कानपुर से परास्नातक की डिग्री ली और उसी दौर में आरएसएस के भाऊराव देवरस के वो क़रीब आए. तब देवरस जी सह कार्यवाह और पूज्य गुरुजी सरसंघ चालक थे. अटल जी ने आरएसएस प्रचारक के तौर पर काम करने का निर्णय लिया.



Advertisement