NDTV Khabar

अयोध्या: मर्म कोई नहीं जाना

 Share

गोस्वामी तुलसीदास लिखते हैं कि '.. राम राज बैठे त्रैलोका, हरषित भए गए सब सोका. बयरु न कर काहू सन कोई, राम प्रताप विषमता खोई.' राम अयोध्या के राजा बने तो तीनों लोक खुश हो गया. दुश्मनी दोस्ती में बदल गए. भेदभाव मीट गये. अयोध्या का मतलब है जिसके साथ युद्ध ना किया जा सके, लेकिन अयोध्या हमेशा युद्ध में नजर आती है. अयोध्या का नाम आते ही जहन में एक फिल्म सी चलती है. उन्माद के गुंबदों पर सवार कारसेवक. लहराते भगवे झंडे और सड़कों पर जय श्रीराम के युद्धघोष करता हुजूम. देखिए अयोध्या पर कमाल खान की स्पेशल स्टोरी.



Advertisement