NDTV Khabar

जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ जवानों की चुनौतियों से भरी जिंदगी

 Share

श्रीनगर से 20 किलोमीटर दूर पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ के ढाई हजार जवानों को ले जा रहे काफिले को निशाना बनाया गया. विस्फोटक से भरी कार बस से टकराई और देखते-देखते 40 जवान शहीद हो गए. इसे पिछले कुछ दशकों में घाटी में सबसे भयानक आतंकी हमला बताया जा रहा है. हमला कश्मीर के ही रहने वाले आदिल अहमद दर ने किया. इतने बड़े नुकसान के बाद भी सीआरपीएफ के जवान बेहतर काम कर रहे हैं. रोज हजारों लोगों की सुरक्षा. शून्य से 30 डिग्री नीचे तक में ड्यूटी पर डटे रहते हैं.



Advertisement