NDTV Khabar

प्राइम टाइम इंट्रो : चंपारण सत्‍याग्रह के 100 साल बाद भी क्‍या हम गांधी को जानते हैं?

 Share

15 अप्रैल 1917 के दिन गांधी मोतिहारी पहुंचे थे. मोतिहारी आने से पहले न तो ज़िले का नाम ठीक से जानते थे न वहां पहुंचने का रास्ता मालूम था. न उन्होंने कभी नील का पौधा देखा था. 18 अप्रैल को जब गांधी मोतिहारी कोर्ट की तरफ जा रहे थे, ये बताने कि वे ज़िला छोड़ने की आज्ञा का पालन नहीं करेंगे, किसानों की व्यथा सुनेंगे तो उस वक्त उनके साथ दो हज़ार किसान चल रहे थे. दो दिन के भीतर दो हज़ार लोगों की भीड़ बिना व्हाट्सऐप के, ईमेल के और न्यूज़ चैनल की मदद के, आप उस वक्त की कल्पना करेंगे तो यकीन नहीं होगा.



Advertisement