NDTV Khabar

पक्ष-विपक्ष: क्या हिंदी को होना चाहिए राष्ट्रभाषा?

 Share

हिंदी दिवस पर अमित शाह के हिंदी को देश की भाषा बनाने के बाद से सियासत शुरु हो गई. दक्षिण के कई नेता हिंदी का विरोध करते नजर आए. हिंदी भले ही देश में सबसे ज्यादा और दुनिया में दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा लोगों की जबान है फिर भी इसे लेकर आए दिन विरोध देखने के मिलता है. अब ऐसे में सवाल उठता है कि किया वाकई हिंदी के जरिए देश को एक सूत्र में पिरोया जा सकता है? कहीं ये भाषा थोपने की कोशिश तो नहीं? हिंदी को राष्ट्रभाषा होना चाहिए या नहीं?



Advertisement