NDTV Khabar

पॉक्सो के तहत 1.2 लाख केस लंबित

 Share

उन्नाव से लेकर कठुआ तक नाबालिगों से गैंगरेप की ख़बरों के बाद नाबालिगों से रेप पर फांसी की मांग तेज़ हो गई. सरकार ने भी बाकायदा पॉक्सो में बदलाव कर दिया और कहा कि छह महीने के भीतर न्याय की प्रक्रिया पूरी हो जाए. लेकिन क्या ये व्यावहारिक तौर पर मुमकिन है? पॉक्सो के तहत जितने मामले लंबित हैं और उनमें जितना समय लग रहा है, उसे देखकर लगता है कि कानून के बावजूद इस पर अमल संभव नहीं होगा. हमारी सहयोगी सोनल मेहरोत्रा ने पॉक्सो पर अपने शोध के दौरान पाया कि वहां बरसों से ऐसे केस लटके पड़े हैं.



Advertisement