NDTV Khabar

प्राइम टाइम: लोकतंत्र का साथी गुरुद्वारा बंगला साहिब

409 Shares

टीवी की बहस और सोशल मीडिया की अफवाहों के बीच धर्म की एक ऐसी छवि बना दी गई है, जिससे लगता ही नहीं कि यहां इंसानियत का कोई तत्व बचा होगा. और उस छवि में भी तमाम तरह की जो जानकारियों की विविधता है उसे खत्म किया जा रहा है. एक ही तरह की बात, एक ही तरह के प्रतीक धर्म का चेहरा बनते जा रहे हैं. एक हिंसक तस्वीर के अलावा अगर आप दूसरी तस्वीर भी देखना चाहें, दूसरे धर्मों की विविधता देखना चाहें तो आपकों बहुत कुछ हिंदुस्तान के बारे में जानने को मिलेगा. ऐसा ही एक उदाहरण गुरुद्वारा बंगाला साहिब में देखा जा सकता है.



संबंधित

ख़बरें

Advertisement