NDTV Khabar

प्राइम टाइम : कुछ नेताओं के लिए ऐसा जुनून कैसे आता है?

 Share

चेन्नई से आने वाली हर तस्वीर यही बता रही है कि कोई उनके दिलों पर राज करता है. यह महज़ कोरी भावुकता नहीं है. हम सब को भावुकता लग सकती है लेकिन भावुकता क्षणिक होती है. राजनीति में थोड़ी लंबी हो जाती है मगर जब भावुकता इतनी लंबी हो जाए कि चालीस पैंतालीस साल से भी ज़्यादा का लम्हा गुज़र जाए तो उसे सिर्फ भावुकता के चश्मे से नहीं देखना चाहिए. अपोलो अस्पताल के बाहर रोते चेहरे सिर्फ भावुकता के प्रमाण नहीं हैं. फिल्मी पर्दे की नायिका को राजनीति में अम्मा का ख़िताब सिर्फ भावुकता से नहीं मिल जाता होगा.



संबंधित

ख़बरें

Advertisement