NDTV Khabar

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : पुलिस थाने में महिलाओं की पिटाई क्यों?

 Share

इस महिला के पांव और हाथ पर ज़ख्मों के निशान देखिए. कितने गहरे हैं. कितना ज़ोर से मारा गया है इन्हें. असम के दारंग ज़िले की यह घटना है. इंडियन एक्सप्रेस के अभिषेक साहा की रिपोर्ट पढ़िए, सिहर उठेंगे. तीन बहनों में एक गर्भवती थी, उसे भी मारा गया. एक बहन ने कहा कि यह गर्भवती है तो पुलिस अधिकारी ने कहा कि एक्टिंग मत करो और मारने लगा. इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि गर्भवती महिला को इतनी चोट आई है कि उसका बच्चा मर गया. गर्भपात हो गया. एक बहन के पांव में दर्द था फिर भी लाठियों से मारा गया. उनके निजी अंगो को छुआ गया. जिस्म पर चारों तरफ ज़ख़्म के गहरे निशान हैं. रिपोर्ट के अनुसार इनके भाई रोफ़ूल अली के खिलाफ मामला दर्ज हुआ कि उसने कथित रूप से एक हिन्दू महिला को अगवा कर लिया है. पुलिस इन तीनों बहनों को उठा ले गई जहां इन्हें मारा गया. इस मामले में पुलिस चौकी के इंचार्ज सब इंस्पेक्टर महेंद शर्मा और एक महिला सिपाही बिनिता बोरो को सस्पेंड कर दिया गया है.



Advertisement