NDTV Khabar

आदिवासी व पिछड़ी जाति के लिए राह आसान नहीं

 Share

समाज में आदिवासियों और पिछड़ी जाति की स्थित पर बात करते हुए रवीश कुमार के प्राइम टाइम में ब्लू डॉन की दिव्या कंदुकुरी ने कहा कि हमें हमेशा से ही नीचा दिखाने की कोशिश की गई है. मेन स्ट्रीम मीडिया हमारे लिए ऐसे शब्दों को प्रयोग करता है जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि हमारी जाति के लोगों ने समाज के लिए कभी कुछ गिया ही नहीं है, जोकि पूरी तरह से गलत है. आज अगर पिछड़ा वर्ग व आदिवासी समूदाय की महिलाएं पढ़ रही हैं तो इसके पीछे सावित्रीबाई फूले का सबसे बड़ा योगदान है. जबकि बाबा साहेब अंबेडकर ने संविधान में कई बड़ी चिजों को शामिल किया ताकि सभी वर्ग व समूदाय के लोगों को न्याय मिल सके.



Advertisement