NDTV Khabar

चले गए केदारनाथ सिंह, फीका पड़ा हिंदी कविता का आसमान

 Share

केदारनाथ सिंह की एक कविता है बनारस. कई बार लगता है कि बनारस बनारस से ज़्यादा उनकी कविता में है. हमने कोशिश की है कि कवि की विदाई में कोई कमी न रह जाए, फिर भी रह गई हो तो माफ कर दीजिएगा, अब ज़रा तस्वीरों के पीछे से आती आवाज़ के ज़रिए उनकी कविता को महसूस कीजिए, क्या पता केदानराथ सिंह बनारस में मिल जाएं.



Advertisement