NDTV Khabar

प्राइम टाइम : देश की बड़ी आबादी के समय की चिंता क्यों नहीं?

 Share

भारतीय रेल की देर से चलने की बीमारी किस हद तक पहुंच गई इसका एक किस्सा बताता हूं. देरी से चलने की आदत ऐसी हो गई है कि एक सांसद जी अपने क्षेत्र में रेलगाड़ी के स्टॉपेज का स्वागत करने पहुंच गए. अपने समय से पहुंचे लेकिन ट्रेन उनके चले जाने के कई घंटे बाद तक नहीं आई. आम तौर पर अपने इलाके के स्टेशन पर गाड़ी रुकवाने के लिए सांसद लोग महीनों चिट्ठी पत्री करते हैं. रेल मंत्री से मिलते हैं. जब यह मौका आता है तो उनके लिए भी सबको दिखाने का मौका मिलता है.



Advertisement