Hindi news home page

प्राइम टाइम : स्कूलों पर जनसुनवाई - स्कूल क्यों तय करेगा जूते का ब्रांड?

क्या सादगी से अनुशासन नहीं आता है, क्या महंगे ब्रांड से ही अनुशासन आता है, काला जूता ही पहनना है तो छात्र अपनी क्षमता से क्यों न खरीदे? स्कूल कौन होता है तय करने वाला कि आप महंगे ब्रांड का जूता 2000 में ख़रीदें. क्या स्कूल में पढ़ने वाले सभी मां बाप की क्षमता एक ही होती है.



संबंधित

ख़बरें

Advertisement

 

Advertisement