NDTV Khabar

रवीश की रिपोर्ट: चिटफंड के सताए लोगों की कौन सुनेगा?

 Share

न्यूज़ चैनलों पर अब हर तरह एक ही तरह के कार्यक्रम हैं और एक ही तरह की पब्लिक है. वो पब्लिक नहीं है जो आज के दिन भी मुझे लिख रही है कि बीपीएससी की परीक्षा की उत्तर पुस्तिका में गड़बड़ी के कारण हमारा करियर बर्बाद हो गया. वो पब्लिक नहीं है जो आज ही के दिन अपनी परेशानी की बात कर रही है कि रेलवे की परीक्षा में आईटीआई वालों को बाहर कर दिया गया है. एक पब्लिक ऐसी है जो है तो करीब छह करोड़ मगर किसी चैनल में नहीं है. हमने प्राइम टाइम में पर्ल्स एग्रो कंपनी लिमिटेड PACL का मामला उठाया था.



Advertisement