Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

कर्नाटक: फ्लोर टेस्ट से पहले वापस बंगलुरु पहुंचे कांग्रेस विधायक

कर्नाटक में आज फ्लोर टेस्ट से पहले कांग्रेस एमएलए वापस बंगलुरु पहुंच गए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कर्नाटक: फ्लोर टेस्ट से पहले वापस बंगलुरु पहुंचे कांग्रेस विधायक

कांग्रेस एमएलए बस से बंगलुरु पहुंचे.

खास बातें

  1. हैदराबाद से वापस बंगलुरु पहुंचे कांग्रेस विधायक
  2. कल ही पहुंचे थे हैदराबाद
  3. आज शाम को 4 बजे तक होना है फ्लोर टेस्ट
बंगलुरु:

कर्नाटक में आज फ्लोर टेस्ट से पहले कांग्रेस एमएलए वापस बंगलुरु पहुंच गए हैं. देर रात हैदराबाद से बस के जरिये एमएलए बंगलुरु के लिए रवाना हुए और थोड़ी देर पहले बंगलुरु पहुंचे हैं. इससे पहले नव-निर्वाचित विधायक शुक्रवार को ही हैदराबाद पहुंचे थे, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को फ्लोर टेस्ट कराने का निर्देश दिया. इसके बाद विधायकों को फ़ौरन उल्टे पांव लौटना पड़ा. इसके पहले राज्यपाल ने येदियुरप्पा सरकार को 15 दिन का समय दे रखा था, लेकिन SC ने अवधि घटा दी. हालांकि बीजेपी ने सोमवार तक का समय मांगा लेकिन कोर्ट ने मांग खारिज कर दी थी. अदालत ने कहा फ्लोर टेस्ट से पहले सभी विधायक शपथ लेंगे और डीजीपी सुरक्षा के पूरे प्रबंध करेंगे. कोर्ट ने गुप्त मतदान या वीडियोग्राफी की मांग नामंज़ूर कर दी.

यह भी पढ़ें : कर्नाटक विधानसभा में शक्ति परीक्षण कल शाम को 4 बजे हो : सुप्रीम कोर्ट


टिप्पणियां

आपको बता दें कि आज 10.30 बजे फ्लोर टेस्ट से पहले प्रोटेम स्पीकर को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी. कांग्रेस और जेडीएस ने कर्नाटक में वरिष्ठतम विधायक के बजाय जूनियर विधायक को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किए जाने के खिलाफ याचिका दाखिल की है. कांग्रेस और जेडीएस ने याचिका में कहा है कि जूनियर विधायक को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करना संसदीय परम्परा के खिलाफ है. अब तक की परंपरा के मुताबिक पार्टीलाइन से ऊपर उठकर वरिष्ठतम विधायक को प्रोटेम स्पीकर बनाया जाता है. प्रोटेम स्पीकर सभी विधायकों को शपथ दिलाता है और स्पीकर का चुनाव करवाता है. इनकी नियुक्ति फ्लोर टेस्ट को सीज करने और प्रभावित करने के लिए की गई है, जिस फ्लोर टेस्ट का निर्देश खुद सुप्रीम कोर्ट ने दिए है.

यह भी पढ़ें : कर्नाटक : जूनियर विधायक को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने के खिलाफ याचिका दाखिल, सुनवाई आज



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... 15 दस्तावेज देकर भी खुद को भारतीय साबित नहीं कर पाई असम की जाबेदा, कानूनी लड़ाई में खो बैठी सब कुछ

Advertisement