Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

मोदी-शाह की जोड़ी का सामना करने के लिए कितनी तैयार है कांग्रेस?

कांग्रेस पीढ़ीगत बदलाव को मैनेज करने में विफल रही है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मोदी-शाह की जोड़ी का सामना करने के लिए कितनी तैयार है कांग्रेस?

पीएम मोदी और अमित शाह की नई सोच और रणनीतियों के आगे कांग्रेस पस्त नजर आ रही है...

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल ने अपनी प्रतिष्ठा बचा ली है. दिनभर चले सियासी ड्रामे के बाद कल देर रात ढाई बजे चुनाव जीतने के बाद उन्होंने राहत की सांस ली. लेकिन इस दौरान कांग्रेस को भारी मशक्क्त करनी पड़ी. पी. चिदंबरम जैसे कांग्रेस के बड़े नेताओं को मोर्चा संभालना पड़ा था. यह ऐसा चुनाव था जिसमें गुजरात कांग्रेस का बिखराव खुलकर नजर आया. इससे अहमद पटेल मुश्किल में पड़ गए. राज्यसभा में बीजेपी अब सबसे बड़ी पार्टी हो गई है. हालांकि वह कांग्रेस से महज एक सीट आगे है.  

कांग्रेस पीढ़ीगत बदलाव को मैनेज करने में विफल रही है और यही बात हर बार निकलकर सामने आई है. कांग्रेस की कमान अध्यक्ष सोनिया गांधी के हाथ में है. वह इसकी जिम्मेदारी अपने बेटे राहुल गांधी को देने के उत्सुक हैं. हालांकि राहुल जिम्मेदारी संभालने के इच्छुक दिखाई नहीं दे रहे हैं. इसी वजह से पार्टी में ज्योतिरादित्य सिंधिया, मिलिंद देवड़ा, जितिन प्रसाद जैसे युवा और प्रतिभाशाली नेताओं भी संगठन में पीछे बने हुए हैं. हालांकि ये सभी पार्टी में नई जान फूंक सकते हैं.

यह भी पढ़ें
* क्या सच में नया वोटर कांग्रेस से जुड़ना नहीं चाहता...?


पुरानी पंक्ति के नेताओं की बात करें तो अहमद पटेल, पी. चिदंबरम, कमलनाथ और कैप्टन अमरिंदर सिंह अभी भी पार्टी को नई दिशा देने के लिए प्रयासरत हैं और राहुल के नेतृत्व को स्वीकार करते हैं. अहमद पटेल ने राज्यसभा चुनाव जीत लिया है. अब राज्यसभा में उनका सामना अमित शाह से होगा. अमित शाह भी राज्यसभा पहुंच चुके हैं. दिसंबर में गुजरात में चुनाव है, लेकिन कांग्रेस बहुत अच्छी स्थिति में नहीं है. नाराज शंकर सिंह वाघेला पार्टी का कितना नुकसान कर सकते हैं, कांग्रेस ने इसको अनदेखा किया है. इसका खामियाजा पार्टी को उठाना पड़ सकता है.    
 
मध्यप्रदेश और अन्य राज्यों के हालात जुदा नहीं हैं. इन राज्यों में भी अगले दो साल में चुनाव होने हैं, लेकिन कांग्रेस मजबूत नेतृत्व के अभाव से जूझ रही है. वाघेला जैसा ही गेम गुजरात के अलावा अन्य राज्यों में भी हो सकता है क्योंकि इन राज्यों में चेहरे का अभाव है.      
 
यह भी पढ़ें
* हां, यह निजी लड़ाई है - बीजेपी प्रमुख अमित शाह के मामले में बोले अहमद पटेल

नेतृत्व की कमी को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह प्रत्येक चुनाव में अपनी मजबूती बना लेते हैं. गुजरात में, अहमद पटेल को हराने के लिए बीजेपी ने हर दांव आजमाया था. शाह अपनी चमत्कारिक रणनीतियों से कांग्रेस को राज्यों की सत्ता से भी बाहर कर रहे हैं.    
 
उधर, पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने पार्टी की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं, लेकिन उन्होंने जो सवाल उठाया वह सौ फीसदी सच है. कांग्रेस निश्चित रूप से 'अस्तित्व के संकट' से गुजर रही है. वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा भाजपा प्रमुख अमित शाह की ओर से मिल रही चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए तैयार नहीं है. पार्टी में मजबूत नेतृव का अभाव है. परिवारवाद अब जीत की गारंटी नहीं रहा.

टिप्पणियां

स्वाति चतुर्वेदी लेखिका तथा पत्रकार हैं, जो 'इंडियन एक्सप्रेस', 'द स्टेट्समैन' तथा 'द हिन्दुस्तान टाइम्स' के साथ काम कर चुकी हैं...

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... Zomato का डिलीवरी बॉय 'सोनू' बना इंटरनेट सेंसेशन, कंपनी ने ट्विटर पर लगाई DP, लोग बोले- इसकी सैलरी बढ़ा दो प्लीज

Advertisement