GDP में आई 23.9% की गिरावट पर बोले शत्रुघ्न सिन्हा- दुआ करता हूं कि इसे Act Of God न कहा जाए...

जीडीपी (GDP) में आई गिरावट को लेकर शत्रुघ्न सिन्हा (Shatrughan Sinha) ने ट्वीट किया है, जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है.

GDP में आई 23.9% की गिरावट पर बोले शत्रुघ्न सिन्हा- दुआ करता हूं कि इसे Act Of God न कहा जाए...

शत्रुघ्न सिन्हा (Shatrughan Sinha) ने जीडीपी में आई गिरावट पर किया ट्वीट

खास बातें

  • जीडीपी में आई गिरावट पर शत्रुघ्न सिन्हा ने किया ट्वीट
  • एक्टर ने कहा कि इसे भी भगवान का किया न कहा जाए...
  • शत्रुघ्न सिन्हा का ट्वीट हुआ वायरल

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में भारत की जीडीपी (GDP) यानी सकल घरेलू उत्पाद में 23.9 प्रतिशत की भारी गिरावट दर्ज की गई है. कोरोना वायरस (Coronavirus) और लॉकडाउन का असर देश के सकल घरेलू उत्पाद पर देखने को मिला है. इस बात को लेकर बॉलीवुड के मशहूर एक्टर और नेता शत्रुघ्न सिन्हा (Shatrughan Sinha) ने ट्वीट किया है, जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. अपने ट्वीट में शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि उम्मीद करता हूं कि इसे भी एक्ट ऑफ गॉड न कहा जाए. शत्रुघ्न सिन्हा के इस ट्वीट को लेकर फैंस भी खूब कमेंट कर रहे हैं, साथ ही अपनी राय पेश कर रहे हैं. 

Newsbeep

शत्रुघ्न सिन्हा (Shatrughan Sinha) ने अपने ट्वीट में जीडीपी में आई 23 फीसदी की गिरावट को लेकर ट्वीट किया, "जिस तरह हमने सकल घरेलू उत्पाद के 23 फीसदी गिरने की दिल तोड़ने वाली खबर सुनी. दुरभाग्य से यह 40 सालों में सबसे खराब गिरावट रही है. उम्मीद है और दुआ भी करता हूं कि इसे भी 'ईश्वर के कदम' का जिम्मेदार न ठहराया जाए. बता दें कि जीडीपी में आई 23 प्रतिशत की गिरावट को लेकर मशहूर लेखक चेतन भगत ने भी ट्वीट किया और कहा कि यह सबको प्रभावित करेगा. इससे इतर सोशल मीडिया यूजर भी जीडीपी को लेकर जमकर ट्वीट कर रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि सोमवार को सरकार की ओर से जीडीपी के आंकड़े जारी किए गए. 21 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय सहायता के बावजूद कोरोना वायरस महामारी की वजह से कारोबार और आम इंसान पर भारी असर पड़ा.  कोरोना संकट (Coronavirus) के दौरान अप्रैल-मई महीनों में कई हफ्तों तक बंद रही इन फैक्टरियों की वजह से करोड़ों मजदूर बेरोजगार हुए. अब सांख्यिकी मंत्रालय ने अपने ताजा आंकलन रिपोर्ट में कहा है की लॉकडाऊन की वजह से आर्थिक गतिविधियां ठप्प पड़ गयीं जिस वजह से इस साल अप्रैल से जून की पहली तिमाही में अर्थव्यवस्था अप्रत्याशित 23.9% सिकुड़ गयी.