NDTV Khabar

Happy Teachers' Day: डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन नोबेल पुरस्कार के लिए 27 बार हुए थे नॉमिनेट, गूगल ने बनाया डूडल

शिक्षक दिवस 2018 (Teachers' Day 2018) के मौके पर गूगल ने इंडिया में डूडल बनाया है. आज के ही दिन डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (Dr. Sarvepalli Radhakrishnan) का जन्म हुआ था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Happy Teachers' Day: डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन नोबेल पुरस्कार के लिए 27 बार हुए थे नॉमिनेट, गूगल ने बनाया डूडल

Teachers' Day 2018 पर Google ने यूं बनाया Doodle

खास बातें

  1. गूगल ने टीचर्स डे पर बना डूडल
  2. भारत में डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को है समर्पित
  3. नोबेल पुरस्कार के लिए 27 बार हो चुके हैं नॉमिनेट
नई दिल्ली: शिक्षक दिवस 2018 (Teachers' Day 2018) के मौके पर गूगल ने इंडिया में डूडल बनाया है. भारत में गुरु और शिष्य के रिश्ते को दिखलाने के लिए बेहद ही खास दिन माना गया है. पूरे देशभर में शिष्य अपने गुरु को न सिर्फ बधाई देते हैं बल्कि उनसे आशीर्वाद लेते हैं. इंडिया में 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाने के पीछे एक रोचक तथ्य है. आज के ही दिन डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (Dr. Sarvepalli Radhakrishnan) का जन्म हुआ था, जिस वजह से इसी दिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाना लगा. 1962 में जन्मे डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक जाने माने विद्वान, शिक्षक, दार्शनिक और नेता थे. 

Happy Teachers Day 2018: 'प्यार न हुआ तुम्हारा, UPSC का एग्जाम हो गया है...', पढ़ें ऐसे ही 10 फनी फिल्मी डायलॉग

डॉ. सर्वपल्ली शिक्षा के क्षेत्र में कई उल्लेखनीय कार्य किये, जिसकी वजह से उन्हें यह उपाधि दी गई. डॉ. राधाकृष्णन की याद में ही टीचर्स डे (Teacher's Day) का आयोजन होता है. डॉ. राधाकृष्णन भारत के पहले उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति थे. उन्हें 1954 में भारत रत्न से नवाजा गया था. डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को 27 बार नोबेल पुरस्कार के लिए नामित किया था. 

डांसिंग अंकल डब्बू ने 'कमरिया' पर खूब मटकाई कमर, गोविंदा स्टाइल में दिखाया गरबा- Video हुआ वायरल

टिप्पणियां
डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती पर मनाए जाने वाले शिक्षक दिवस का जहां-स्कूल कॉलेजों में काफी महत्व रहता है, वहीं बॉलीवुड फिल्मों में भी टीचर्स के कई अंदाज देखने को मिले हैं. सुष्मिता सेन, रानी मुखर्जी और चित्रांगदा सिंह जैसी टीचर्स तो दर्शकों के जेहन में हमेशा ताजा रहती हैं. डॉ. सर्वपल्ली कहना था कि जहां कहीं से भी कुछ सीखने को मिले उसे अपने जीवन में उतार लेना चाहिए. वह पढ़ाने से ज्यादा छात्रों के बौद्धिक विकास पर जोर देने की बात करते थे. वह पढ़ाई के दौरान काफी खुशनुमा माहौल बनाकर रखते थे.

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement