NDTV Khabar

श्रीदेवी के शव को भारत लाने में क्यों लग रहा है इतना समय, जानिये क्या है विदेश से शव वापसी की प्रकिया 

अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि श्रीदेवी के शव को भारत में लाने में कितनी देर लगेगी. ऐसे में लोगों में यह जानने में रुचि है कि विदेश से शव लाने की क्या प्रक्रिया है और इसमें आमतौर पर कितना समय लगता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
श्रीदेवी के शव को भारत लाने में क्यों लग रहा है इतना समय, जानिये क्या है विदेश से शव वापसी की प्रकिया 

बॉलीवुड की दिग्गज अभिनेत्री श्रीदेवी का शनिवार रात तकरीबन 11 बजे निधन हो गया.

नई दिल्ली: बॉलीवुड की दिग्गज अभिनेत्री श्रीदेवी का शनिवार रात तकरीबन 11 बजे निधन हो गया. वह 54 साल की थीं. उनका निधन दुबई में दिल का दौरा पड़ने से हो गया. पिछले दिनों भतीजे और अभिनेता मोहित मारवाह की शादी में शामिल होने के लिए श्रीदेवी अपने परिवार के साथ दुबई में थीं. भारतीय दूतावास के अधिकारी दुबई के स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर श्रीदेवी के शव को जल्द भारत लाने की कोशिश में जुटे हैं. हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि इसमें कितनी देर लगेगी. ऐसे में लोगों में यह जानने में रुचि है कि विदेश से शव लाने की क्या प्रक्रिया है और इसमें कितना समय लगता है.

यह भी पढ़ें :  Sridevi: ‘चांदनी’ जो हंसाना ही नहीं रुलाना भी जानती थी...
 
क्या है विदेश से शव लाने की प्रक्रिया ?
विदेश में हुई किसी भी मृत्यु के मामले में शव को भारत वापस लाने के लिए कई दस्तावेजों की जरूरत होती है. विदेश मंत्रालय ने इससे जुड़ी विस्तृत जानकारी अपनी वेबसाइट पर दे रखी है. इसके मुताबिक़ शव वापसी के लिए मेडिकल रिपोर्ट और डेथ सर्टिफिकेट ज़रूरी है, जो कि स्थानीय अस्पताल से जारी किया गया हो. 

यह भी पढ़ें :  चार दिन पहले इस अंदाज में दिखी थीं श्रीदेवी, आंखें नम कर देंगी ये आखिरी तस्वीरें

पुलिस रिपोर्ट की कॉपी अगर एक्सीडेंटल या अननेचुरल डेथ का मामला हो (इसके इंग्लिश ट्रांसलेशन की कॉपी अगर रिपोर्ट किसी अन्य भाषा में लिखी हो तो) मृतक के किसी नजदीकी परिजन से कंसेंट लेटर जो की नोटरी से अटेस्टेड हो, पासपोर्ट और वीजा के पन्नों की कॉपी (निरस्तीकरण के लिए) इन दस्तावेजों के अलावा शव पर लेपन का क्लीयरेंस और उसकी व्यवस्था भी ज़रूरी है. स्थानीय इमीग्रेशन और कस्टम से क्लीयरेंस भी जरूरी होता है. मृतक किसी संक्रामक रोग से पीड़ित नहीं था, इसका सर्टिफ़िकेट भी जरूरी होता है.  ये तमाम नियम देश के हिसाब से कुछ बदल सकते हैं पर मूलत: इसी तरह के रहते हैं. 

यह भी पढ़ें :  Sridevi: जिस गम से गुजरे थे अर्जुन कपूर, अब जाह्नवी को भी सहना पड़ेगा वही दर्द

नेचुरल डेथ के मामले में सबको वापस लाने में बहुत देर नहीं लगता, लेकिन अननेचुरल डेथ के मामले में यह प्रक्रिया लंबी चलती है, क्योंकि स्थानीय स्तर पर पुलिस उसकी जांच पड़ताल करती है और उससे जुड़े सबूत जुटाती है. शव को वापस लाने की प्रक्रिया के दौरान भारतीय दूतावास कांसुलेट लगातार मृतक के परिजनों के संपर्क में रहते हैं. 

यह भी पढ़ें : Sridevi ने इस वजह से कर दिया था अनिल कपूर के साथ काम करने से इनकार

अगर कोई उसी देश में शव का अंतिम संस्कार चाहता है तो उसकी प्रक्रिया भी कमोबेश समान है. हालांकि दुनिया के ज़्यादातर देश मुस्लिम मृतक के मामले में ही अंतिम संस्कार की इजाजत देते हैं. ग़ैर मुस्लिम मृतकों को उनके नागरिकता वाले देश को भेजा जाना अनिवार्य होता है. वहीं, लावारिस शव के मामले में स्थानीय प्रशासन अपने हिसाब से फैसला लेता है. दुबई में भारत के कॉन्सुल जनरल विपुल ने NDTV को बताया कि हम लगातार वहां के अधिकारियों के संपर्क में हैं और यह प्रक्रिया जल्द ही पूरी कर ली जाएगी.

टिप्पणियां
VIDEO: एनडीटीवी को दिया श्रीदेवी का आखिरी इंटरव्यू


खाड़ी देशों से शव को वापस लाने में अमूमन 2 से 4 हफ्ते तक लग जाते हैं, क्योंकि इन सब प्रक्रियाओं को पूरा करने में इतना वक्त लगता है. किसी बड़ी हस्ती की मृत्यु के मामले में यह प्रक्रिया कुछ घंटों में भी पूरी की जा सकती है. अननेचुरल डेथ के मामले में तो जांच को लेकर संतोषप्रद स्थिति तक पहुंचने के बाद ही यह प्रक्रिया पूरी होती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement