NDTV Khabar

चार करोड़ से अधिक कर्मचारियों को होगा फायदा, कैबिनेट ने यह बिल पास किया...

नया न्यूनतम वेतन नियम सभी कर्मचारियों पर लागू होगा, चाहे उनका वेतन कुछ भी क्यों नहीं हो.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चार करोड़ से अधिक कर्मचारियों को होगा फायदा, कैबिनेट ने यह बिल पास किया...

कैबिनेट ने न्यूनतम वेतन संहिता विधेयक पास किया- प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा पारित किए गए एक विधेयक से देश के चार करेाड़ से अधिक कर्मचारियों को लाभ मिलने की उम्मीद है. केंद्रीय कैबिनेट ने नई वेतन संहिता विधेयक (Minimum Wage Code Bill) को बुधवार को मंजूरी दे दी. इससे श्रम क्षेत्र से जुड़े चार कानूनों को एकीकृत कर सभी क्षेत्रों के लिये न्यूनतम वेतन सुनिश्चित हो सकेगा.

प्रस्तावित विधेयक के पारित होने से देश के चार करेाड़ से अधिक कर्मचारियों को लाभ मिलने की उम्मीद है. सूत्रों के अनुसार वेतन श्रम संहिता विधेयक में न्यूनतम वेतन कानून, 1948, वेतन भुगतान कानून, 1936, बोनस भुगतान कानून, 1965, तथा समान पारितोषिक कानून, 1976, को एकजुट किया जायेगा.

यह भी पढ़ें- पहली बार थम सकते हैं दिल्ली मेट्रो के पहिए, इन 5 मांगों पर अड़े हैं कर्मचारी


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस सबंध में तैयार मसौदा विधेयक को मंजूरी दी गई. विधेयक में केंद्र को देश में सभी क्षेत्रों के लिये न्यूनतम वेतन निर्धारित करने का अधिकार देने की बात कही गयी है और राज्यों को उसे बनाये रखना होगा.

यह भी पढ़ें- CPSE के कर्मियों का न्यूनतम वेतन 30,000, सीएमडी की सैलरी 3.7 लाख रु की सिफारिश

सूत्रों के अनुसार हालांकि, राज्य अपने क्षेत्र में केंद्र सरकार के मुकाबले अधिक न्यूनतम वेतन उपलब्ध करा सकेंगे. यह विधेयक संसद के मौजूदा मानसून सत्र में पेश किये जाने की संभावना है. सत्र 11 अगस्त को संपन्न होगा.

नया न्यूनतम वेतन नियम सभी कर्मचारियों पर लागू होगा, चाहे उनका वेतन कुछ भी क्यों नहीं हो. फिलहाल केंद्र तथा राज्य द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन उन कर्मचारियों पर लागू होता है जिन्हें मासिक 18,000 रुपये तक वेतन मिलता हैं.

वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार इससे सभी उद्योग और कर्मचारियों के लिये न्यूनतम वेतन सुनिश्चित हो सकेगा. इसमें वे भी शामिल हो जायेंगे जिन्हें 18,000 रुपये से अधिक मासिक वेतन मिलता है.

टिप्पणियां

इनपुट : भाषा 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement