NDTV Khabar

आयकर विभाग ने ई-फाइलिंग (E-filing) के लिए सभी 7 आईटीआर फॉर्म (ITR form) जारी किए

आयकर विभाग की साइट (https://www.incometaxindiaefiling.gov.in) पर इनके उपलब्ध होने के साथ ही करदाताओं के लिए इलेक्ट्रॉनिक तरीके से आयकर रिटर्न भरना आसान हो गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आयकर विभाग ने ई-फाइलिंग (E-filing) के लिए सभी 7 आईटीआर फॉर्म (ITR form) जारी किए

आयकर विभाग ने आईटीआर फॉर्म साइट पर एक्टिव कर दिए हैं.

खास बातें

  1. 31 जुलाई तक सभी को आयकर दाखिल करना है
  2. विभाग ने साइट पर सभी फॉर्म एक्टिव कर दिए हैं.
  3. अपने अपने आईटीआर फॉर्म लोग भर सकते हैं.
नई दिल्ली:

आयकर विभाग ने ई-फाइलिंग के लिए सभी सात इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) फॉर्म जारी कर दिए हैं.  सभी को साईट पर एक्टिवेट कर दिया गया है. आयकर विभाग की साइट (https://www.incometaxindiaefiling.gov.in) पर इनके उपलब्ध होने के साथ ही करदाताओं के लिए इलेक्ट्रॉनिक तरीके से आयकर रिटर्न भरना आसान हो गया है. सीबीडीटी के एक बयान के मुताबिक, ‘अब ये सभी आईटीआर फॉर्म ई-फाइलिंग के लिए उपलब्ध हैं. उम्मीद है कि सभी करदाता 31 जुलाई की अंतिम तारीख से पहले अपने आयकर रिटर्न दाखिल कर देंगे.' सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (CBDT) ने असेसमेंट ईयर 2018-19 के लिए पिछले महीने (5 अप्रैल) को आयकर रिटर्न के नए फॉर्म नोटिफाई किए थे.

पढ़ें- वेतन लेने वाले ध्यान दें, अगर गलत रिटर्न भरा तो आयकर विभाग उठाएगा यह बड़ा कदम

आयकर विभाग ने 5 अप्रैल के बाद से एक एक कर आईटीआर फॉर्म (ITR form) जारी किए हैं. कहा जा रहा है कि आयकरदाताओं के लिए 31 जुलाई की डेडलाइन से पहले रिटर्न जमा करना आसान होगा. 


पढ़ें- रिटर्न भरने वालों पर सख्ती के बाद अपने कर्मचारियों को आयकर विभाग ने दी यह सलाह

विभाग ने कहा है कि कर दाता अपने-अपने हिसाब से जरूरी आईटीआर फॉर्म विभाग की आधिकारिक साईट https://www.incometaxindiaefiling.gov.in पर इलेक्ट्रॉनिक तरीके से भर सकते हैं. नए आईटीआर फार्म (new ITR form) में वेतनभोगी श्रेणी के करदाताओं को अपना सैलरी ब्रेक-अप और कारोबारियों की श्रेणी के करदाताओं को अपना जीएसटी नंबर व टर्नओवर की जानकारी देना जरूरी है. 

पढ़े- नए आईटीआर-1 सहज फॉर्म के बारे में 10 बातें जो आपको पता होनी चाहिए

आयकर विभाग ने निर्धारण वर्ष 2017-18 के लिये कुछ आयकर रिटर्न फॉर्म (ITR) की ई-फाइलिंग सुविधा की 1 अप्रैल से शुरुआत कर दी है. आयकर विभाग के अनुसार दो आईटीआर फॉर्म आईटीआर-1 (सहज) और आईटीआर-4 (सुगम) अब उसके ई-पोर्टल --एचटीटीपीएस (इनकमटैक्सइंडियाईफाइलिंग डॉट जीओवी डॉट इ) पर उपलब्ध हैं.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बाकी पांच आईटीआर फॉर्म भी उसके ई-पोर्टल पर फाइलिंग के लिये उपलब्ध हैं. केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने निर्धारण वर्ष 2017-18 में आयकर रिटर्न भरने के लिये सभी सात आईटीआर फॉर्म जारी कर दिये थे.

पढें- आयकर विभाग के ई-फाइलिंग पोर्टल पर तीन-ITR उपलब्ध

इनकम टैक्स रिटर्न फाइलिंग सीजन शुरू हो चुका है. इनकम टैक्स विभाग ने ई फाइलिंग फैसिलिटी आकलन वर्ष 2017-18 के लिए शुरू कर दी है. इस संबंध में टैक्स विभाग ने एक नया बेहद सिंपल पेज आईटीआर-1 जिसे सहज कहा जाता है, पेश कर दिया है. दरअसल, पहले से मौजूद सात पेजों के फॉर्म से कई बिंदुओं को हटा दिया है जिससे यह छोटा और अधिक सरल बन गया है. इससे दो करोड़ से अधिक करदाताओं को लाभ होगा.

पढ़ें- आयकर विभाग ने टीडीएस काटने वालों को दी चेतावनी

टिप्पणियां

आईटीआर फॉर्म-1 (सहज) से 2 करोड़ करदाताओं को होगा लाभ 
यह फार्म वेतनभोगी तबके के लिये और ऐसे लोगों के लिये है जिनकी 50 लाख रुपये तक की आय है और एक मकान तथा ब्याज से आय होती है. वित्त वर्ष 2016-17 की आय के लिये इस वर्ष 31 जुलाई तक रिटर्न भरना होगा. रिटर्न दाखिल करने के लिए ई-फाइलिंग की सुविधा एक अप्रैल से उपलब्ध हो चुकी है और इसे 31 जुलाई तक भरा जा सकता है. रिटर्न फॉर्म भरते समय करदाता को अपना पैन, आधार नंबर, व्यक्तिगत सूचना और जानकारी देनी होगी.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement