NDTV Khabar

इंदौर के थोक सब्जी व्यापारियों को टमाटर की सुरक्षा के लिए चाहिए गार्ड!

सब्जी व्यापारी महंगे होते जा रहे टमाटर की सुरक्षा को लेकर चिंतित, मंडी प्रशासन से की सुरक्षा गार्डों की तैनाती की मांग

52 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
इंदौर के थोक सब्जी व्यापारियों को टमाटर की सुरक्षा के लिए चाहिए गार्ड!

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में सब्जी व्यापारियों ने टमाटर की सुरक्षा के लिए सुरक्षा कर्मियों की मांग की है.

खास बातें

  1. इंदौर के बाजार में 100 रुपये किलोग्राम तक की दर पर बिक रहा टमाटर
  2. मुंबई में एक सब्जी कारोबारी की टमाटर की बड़ी खेप चोरी हो गई
  3. मंडी प्रशासन ने कहा- सुरक्षा गार्ड पहले से तैनात, इसलिए जरूरत नहीं
इंदौर: टमाटर की कीमतों में भारी वृद्धि का असर लोगों की 'जेब' पर पड़ रहा है. अब सब्जी व्यापारी महंगे होते जा रहे टमाटर की सुरक्षा को लेकर  चिंतित हैं. इंदौर के बाजार में 100 रुपये प्रति किलोग्राम तक की ऊंची दर पर बिक रहे टमाटरों की चोरी के भय के कारण थोक कारोबारियों ने एक प्रमुख फल-सब्जी मंडी के प्रशासन से सुरक्षा गार्डों की मांग की है.

मध्यप्रदेश में कई बार ऐसा हुआ है कि टमाटर के भाव काफी नीचे गिर जाने से किसानों को अपनी की फसलें फेंककर नष्ट करनी पड़ी हैं. लेकिन इस वर्ष समूचे देश के साथ-साथ राज्य में भी बाजारों में टमाटर की  आवक कम होने से इसके भाव आसमान पर चढ़ते जा रहे हैं.

वीडियो- सौ रुपये किलोग्राम पर पहुंचा टमाटर का भाव

इंदौर की देवी अहिल्याबाई फल और सब्जी मंडी के थोक कारोबारी सुभाष नारंग ने सोमवार को संवाददाताओं को बताया, ‘‘मुंबई में एक सब्जी कारोबारी की टमाटर की बड़ी खेप हाल ही में चोरी हो चुकी है. इसके बाद हमें भी डर बना रहता है कि कहीं यहां भी हमारे टमाटर चोरी न हो जाएं. इसलिए हमने मंडी प्रशासन से मांग की है कि टमाटरों की रखवाली के लिए सुरक्षा गार्डों की तैनाती की जाए."

टिप्पणियां
देवी अहिल्याबाई फल और सब्जी मंडी के निरीक्षक रमेश सावदिया का कहना है कि मंडी परिसर में पहले से सुरक्षा कर्मियों की तैनाती है और टमाटर व्यापारी बिना किसी भय के कारोबार कर सकते हैं.

कारोबारी सूत्रों के मुताबिक स्थानीय थोक बाजार में टमाटर फिलहाल 50 से 60 रुपये प्रति किलोग्राम के स्तर पर बिक रहा है, जबकि इसका खेरची यानी कि रिटेल भाव 100 रुपये प्रति किलोग्राम के आस-पास है. टमाटर की सीमित उपलब्धता को इसके ऊंचे भावों का अहम कारण माना जा रहा है.
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement