NDTV Khabar

फेसबुक पर दीवाली शॉपिंग की फोटो डालने जा रहे हैं तो हो जाएं सावधान

दीवाली शॉपिंग की और सोशल मीडिया पर फोटो पोस्ट नहीं की ऐसा तो हो ही नहीं सकता... लेकिन यही फोटो आपको फंसा सकती है. जी हां, आपने सही पढ़ा आइए जानते हैं कैसे?

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फेसबुक पर दीवाली शॉपिंग की फोटो डालने जा रहे हैं तो हो जाएं सावधान

आपकी फेसबुक प्रोफाइल पर आईटी की नजर.

खास बातें

  1. आपकी हर एक शॉपिंग फोटो पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नजर है.
  2. लग्जरी आइटम की फोटो पोस्ट कर आप फंस सकते हैं.
  3. सरकार इस महीने 'प्रोजेक्ट इनसाइट' लॉन्च करने वाली है.
नई दिल्ली: दीवाली शॉपिंग की और सोशल मीडिया पर फोटो पोस्ट नहीं की ऐसा तो हो ही नहीं सकता... लेकिन यही फोटो आपको फंसा सकती है. जी हां, शॉपिंग करते वक्त अगर आप फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड कर रहे हैं तो सावधान हो जाइए. क्योंकि आपकी हर एक शॉपिंग फोटो पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नजर है. महंगी कार, महंगी घड़ी या इस तरह के दूसरे लग्जरी आइटम की फोटो पोस्ट कर आप फंस सकते हैं.

पढ़ें- दिवाली पर शॉपिंग करते वक्त आपके साथ हो सकती है ठगी, ऐसे बचें​

कैसे फंस सकते हैं आप
असल में ब्लैकमनी पर नजर रखने के क्रम में सरकार इस महीने 'प्रोजेक्ट इनसाइट' लॉन्च करने वाली है. इसके तहत ऐसे लोगों के सोशल मीडिया अकाउंट पर नजर रखी जाएगी, जो महंगी चीजें खरीदते हैं, लेकिन उनकी जानकारी विभाग को देने से बचते हैं.

पढ़ें- 'स्पेशल शॉपिंग लिस्ट' में इन चीजों को भी करें शामिल

प्रोजेक्ट के तहत एक ऐसा वर्चुअल हाउस बनायी जाएगी, जिसके जरिए लोगों की खर्च करने की सीमा को बैंक अकाउंट के साथ-साथ सोशल मीडिया जैसे कि फेसबुक, इंस्टाग्राम से मैच किया जाएगा. अगर किसी भी तरह का मिसमैच इन डिटेल्स में दिखेगा तो फिर आपसे पूछताछ हो सकती है.

टिप्पणियां
पढ़ें- ऑनलाइन शॉपिंग सेल का सीज़न अभी नहीं हुआ खत्म, स्नैपडील का एक और ऑफर कल से शुरू​
 
shopping

दिवाली के मौके पर अगर आपने लग्जरी प्रोडक्ट खरीदे हैं और इसके साथ अपनी फोटो शेयर की तो प्रोजेक्ट इनसाइट के जरिए आप सरकार की नजरों में आ जाएंगे. आप चाहे इनकम टैक्स के दायरे में आते हों या नहीं. इसके बाद इनकम टैकस डिपार्टमेंट आपको पूछताछ के लिए तलब कर सकता है. आपसे पूछा जा सकता है कि इसे खरीदने के लिए आपने किस तरह से पैसे जुटाए.
 
shopping mall

पिछले साल ही टैक्‍स डिपार्टमेंट ने एलएंडटी इंफोटेक के साथ प्रोजेक्‍ट इनसाइट के क्रियान्‍वयन के लिए एक करार किया था. इसका मकसद कर चोरी पर लगाम लगाकर लोगों की आदतें सुधारना है. पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इनकम टैक्‍स विभाग को टेक्‍नोलॉजी का अधिक उपयोग करके कर चोरी पर लगाम लगाने की सलाह दी थी. सरकार का मकसद इस प्रोजेक्ट के जरिए विश्व का सबसे बड़ा बॉयोमेट्रिक डाटाबेस तैयार कर रही है.

इस डाटाबेस से इनकम टैक्स, ईडी, बैंक, एनआईए को भी टैक्स चोरी रोकने में मदद मिलेगी. सरकार का मानना है कि काफी लोग अभी भी अपनी कमाई की सही तरह से जानकारी नहीं दे रहे हैं. वहीं लोग अपने घूमने-फिरने, घर-बाइक, कार खरीदने पर सबसे पहले सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं, जिससे अन्य लोगों को पता चल सके.

VIDEO: दिवाली की खरीदारी के लिए उमड़ी भीड़




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement