Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

जनधन खाता खुलवा कर फंस गए 'गरीब' लोग? इस कारण देना पड़ रहा है जुर्माना

रिपोर्ट में कहा गया है कि कई बैंक ऐसे खातों में पांचवी निकासी होते ही इस नो-फ्रिल खाते को नियमित खाते में बदल दे रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जनधन खाता खुलवा कर फंस गए 'गरीब' लोग? इस कारण देना पड़ रहा है जुर्माना

बैंक में करोड़ों जनधन खाते खोले गए.

खास बातें

  1. सरकार ने गरीब लोगों के लिए जनधन खाता खुलवाए
  2. इस खाते में जीरो बैंलेस की सुविधा दी जाती है
  3. लेकिन निकासी की सीमा 4 बार तक सीमित है.
नई दिल्ली:

वित्तीय समावेश योजना के तहत खोले गये ‘नो-फ्रिल’ बैंक खाता धारकों को महीने में चार बार निकासी की सीमा पार करते ही जुर्माने का सामना करना पड़ रहा है. एक रिपोर्ट में यह बात सामने आयी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कई बैंक ऐसे खातों में पांचवी निकासी होते ही इस नो-फ्रिल खाते को नियमित खाते में बदल दे रहे हैं.

‘नो-फ्रिल’ यानी बुनियादी बचत बैंक जमा खाता के लिए खाताधारकों को किसी तरह का शुल्क नहीं देना होता है लेकिन नियमित बचत खाता पर कई तरह की फीस और शुल्क देय हैं. सामान्य बचत बैंक जमा खाता में एक महीने के भीतर अधिकतम चार नि:शुल्क निकासी की सीमा होती है. हालांकि जमा के ऊपर सीमा नहीं है.

पढ़ें - क्या है बीएसबीडीए (BSBDA) बैंक खाता, यहां नहीं लगते हैं कई चार्ज | 15 बातें


आईआईटी बंबई के प्रोफेसर आशीष दास द्वारा तैयार इस रिपोर्ट के अनुसार, नियमों में गड़बड़ी के कारण बैंक सामान्य बचत बैंक जमा खाताधारकों पर अधिक शुल्क लगा रहे हैं.

रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘पांचवीं निकासी करते ही बैंक उपभोक्ताओं की सहमति के बिना ही एकपक्षीय तरीके से सामान्य बचत बैंक जमा खाता को नियमित खाता में बदल दे रहे हैं.’’

पढ़ें- अगर बैंक में है आपका खाता, यह खबर बड़ी राहत की : GST के दायरे से बाहर होंगी ये सेवाएं

रिपोर्ट में कहा गया कि इस योजना की शुरुआत वित्तीय समावेश को बढ़ावा देने के लिए की गयी थी अत: रिजर्व बैंक को इसपर रोक लगाना चाहिए. रिजर्व बैंक ने इस बुनियादी बचत बैंक जमा खाता के तहत ग्राहकों को असीमित कर्ज, हर माह चार निकासी, न्यूनतम शून्य शेष और किसी तरह का कोई शुल्क नहीं लगाने की सुविधा दी हुई है.

टिप्पणियां

पढ़ें- जन धन योजना के बाद भी भारत में 19 करोड़ वयस्कों के पास नहीं है कोई बैंक अकाउंट

वित्तीय समावेश पहल के तहत रिजर्व बैंक ने अगस्त 2012 में इस योजना की शुरुआत की थी. वित्तीय समावेश के इस कार्यक्रम को अगस्त 2014 में प्रधानमंत्री जनधन योजना (पीएमजेडीवाई) के शुरू होने से और बढ़ावा मिला. (भाषा)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... अक्षय कुमार ने कोरोनावायरस से जंग के लिए दान की सबसे बड़ी रकम, ट्वीट कर दी जानकारी

Advertisement