NDTV Khabar

जीवन बीमा पॉलिसी खरीदने से पहले जान लें ये 15 खास बारीकियां

अपने पैसे का बेहतर इस्तेमाल कर अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जीवन बीमा पॉलिसी खरीदने से पहले जान लें ये 15 खास बारीकियां

जीमा बीमा कराते समय रखें कुछ बातों का ध्यान.

खास बातें

  1. समय के हिसाब से जरूरी हो गई जीवन बीमा पॉलिसी
  2. पॉलिसी लेते समय अपनी जरूरतों को पहचाने
  3. अपना और अपने परिवार का रखें ख्याल.
नई दिल्ली: कई बार आप देखते हैं कि आपके करीबी सहयोगी, जो आपके जितनी ही तनख्वाह पाते हैं, लेकिन जिंदगी आपसे बेहतर तरीके से जीते नज़र आते हैं. वे अपनी हर जरूरत समय पर पूरी कर लेते हैं और परिवार के साथ खुशी से रहते हैं. आप सोचते रहते हैं कि आखिर वे ऐसा कैसे कर लेते हैं, क्योंकि उनकी सैलरी भी उतनी ही है. कई बार आप सोच लेते है कि उसका कोई और जुगाड़ होगा. लेकिन अमूमन देखा गया है कि कम ही आदमी होते हैं जिनका कोई जुगाड़ होता है. सबसे बड़ी बात यह है कि वह अपनी फाइनेंशियल प्लानिंग बेहतर तरीके से करता है. वह अपना कुछ समय इसके लिए निकालता है और अपने पैसे का बेहतर इस्तेमाल कर अपने भविष्य को सुरक्षित करता है. 

कहा जाता है कि कोई भी प्लानिंग बिना जीवन बीमा के पूरी नहीं होती. कई लोग सोचते हैं कि इसकी कोई जरूरत नहीं होती. या बहुत लोग सोचते हैं कि इसमें निवेश बेकार है. कुछ तो यह भी मानते हैं कि जीवन बीमा टैक्स बचाने के लिए किया जाता है. लेकिन ऐसा नहीं है. 

टिप्पणियां
आज बाज़ार में कई बीमा कंपनियां अपनी पॉलिसी लेकर मौजूद हैं. इनकी संख्या 15-20 के बीच होगी. यानी एक आम आदमी के पास जीवन बीमा लेने के लिए इतने विकल्प हैं कि वह सभी से एक्जीक्युटिव से बात कर ले तो एक किताब लिख सकता है. 

बीमा पॉलिसी से जुड़ी 15 खास बातें -
  1. बीमा कंपनियां भी कई तरह के उत्पाद लेकर आई हैं. कोई बच्चों के प्लान बेच रहा है, तो कोई पेंशन प्लान बेच रहा है. ऐसे में कई बार आम आदमी यह नहीं समझ पाता कि उसे कौन सा प्लान लेना चाहिए. यह साफ होना चाहिए कि हर आदमी की जरूरत उसके परिवार और उसकी आय के हिसाब से तय होती है. इतना ही नहीं उसकी उम्र भी जीवन बीमा से जुड़ी हर पॉलिसी में अहम किरदार निभाती है. इसलिए कहा जाता है कि सही समय पर सही पॉलिसी का चयन होना चाहिए. यानी किस आदमी के लिए कौन सा प्लान सही है ये कई बातों पर निर्भर करता है. (एलआईसी (LIC) की 'जीवन उमंग' पॉलिसी लॉन्च : शानदार 8% सालाना रिटर्न - जानें 10 जरूरी बातें)
  2. एक सवाल जो सबसे अहम है वह है कि आप क्या सोचते हैं कि आपके जाने के बाद आपके परिवार को कितने रुपयों की जरूरत होगी कि वे अपना जीवन आराम से जी लें और जरूरतें पूरी कर लें. बीमा पॉलिसी के लहजे में बात करें तो यह हुआ सम एश्युर्ड (Sum Assured). 
  3. बीमा कंपनियों में कहा जाता है कि एक सामान्य आदमी के पास अपनी सालाना कमाई का 10–12 गुणा जीवन बीमा होना ही चाहिए. इसका कारण समझिए. यदि आपकी सालाना कमाई 3 लाख है तो आपके पास 30–40 लाख की जीवन बीमा पॉलिसी होनी चाहिए. इसके पीछे का तर्क यह है कि यदि व्यक्ति की मृत्यु होती है तो उसके परिवार को एक मुश्त इतनी रकम मिल जाए कि यदि उसे कहीं सुरक्षित जमा करा दिया जाये तो उसके ब्याज से परिवार अपना भरण पोषण कर सके यानी उस पर किसी प्रकार का आर्थिक संकट न आए. (पढ़ें - 20 लाख रुपये तक की ग्रेच्युटी पर कोई कर नहीं, सरकार ने जारी की अधिसूचना)
  4. बीमा पॉलिसी में ज्यादा सम एश्योर्ड पाने के लिए सबसे अच्छा तरीका है टर्म प्लान. बाजार में कई कंपनियों के टर्म प्लान है. यानी करीब 50 लाख की बीमा पॉलिसी के लिए करीब 6500 से 7000 रुपये तक खर्च करने होंगे. यहां यह साफ कर दें कि हर आदमी अपने विचार और विवेक से पॉलिसी का निर्धारण कर सकता है. 
  5. जानकारी के लिए बता दें कम उम्र में बीमा लेना हमेशा फायदेमंद होता है. कारण साफ है कि बीमा की राशि या कहें प्रीमियम की राशि काफी कम होती है. 20 साल वाले व्यक्ति की प्रीमियम राशि 40 साल के व्यक्ति से काफी कम होती है. लाभ बराबर होता है. ऐसा भी होता है कि आपकी उम्र कम है तब आपके पास आमदनी भी कम होती है, ऐसे में आप यह भी कर सकते हैं कि बढ़ती उम्र के साथ आप नई बीमा पॉलिसी भी ले सकते हैं. 
  6. बीमा पॉलिसी को लेते समय इस बात को भी ध्यान में रखा जाता है कि आपको रिटायरमेंट के समय कितने पैसे की जरूरत होगी. यानी बीमा पॉलिसी केवल आपके बाद के लिए ही नहीं है. अर्थ साफ है कि आप बीमा पॉलिसी अपने निटायरमेंट बेनेफिट के हिसाब से भी चुन सकते हैं. बीमा कंपनियां आपको इस बारे में प्लान समझा देंगी. (पढ़ें - ग्रेच्युटी क्या है, कैसे कर सकते हैं कैलकुलेट – ग्रेच्युटी से जुड़े सभी सवालों के जवाब)
  7. बीमा पॉलिसी आप बच्चों के हिसाब से भी ले सकते हैं. बीमा कंपनियां कई ऐसी पॉलिसी भी बाजार में लेकर आई हैं जो आपके समय की जरूरतों के हिसाब से बीच-बीच में मनीबैक उपलब्ध कराती हैं. यानी बच्चों की बढ़ती उम्र और उच्च शिक्षा की जरूरतों के लिए आप समयबद्ध तरीके से मनीबैक पा सकते हैं. 
  8. बीमा पॉलिसी के लेने के सबसे अहम कारण जो कई बार लोगों को मजबूर करता है कि कोई न कोई पॉलिसी ली जाए वह होता है टैक्स में छूट. लगभग सभी बीमा पॉलिसी आयकर विभाग के किसी न किसी नियम के तहत छूट उपलब्ध कराती हैं. यानी बीमा टैक्स सेविंग प्लान होता ही है. 
  9. Unit Linked Insurance Plans (ULIP) एक अच्छा विकल्प - यदि आप अपने पैसों को ज्यादा दिनों के लिए ( कम से कम 5 सालों के लिए) निवेश करना चाहते हैं और उस पर टैक्स छूट चाहते हैं, बीमा कवर चाहते हैं और साथ ही साथ एक अच्छा रिटर्न भी चाहते हैं तो यूलिप (ULIP) एक बहुत ही अच्छा विकल्प है.
  10. जब यह साफ है कि यूलिप बाजार से जुड़ी हुई पॉलिसी होती हैं तब यह अच्छा होता है कि आप ऐसी पॉलिसी का प्रीमियम एक साथ न जमा करें. हर महीने की किश्त तय करें. ऐसा न हो सके तो कंपनी से ऐसी व्यवस्था करने की कोशिश करें. न किया हो तो कंपनी से कहकर यह करवा लें. इससे आप बाजार के उतार-चढ़ाव से आसानी से पार पा सकते हैं. यानी आप घाटे की शंका से पार पा सकते हैं. यह लगभग म्युचुअल फंड की तरह ही जाता है. 
  11. अब यह जरूरी नहीं है कि आप किसी एजेंट के माध्यम से ही बीमा पॉलिसी खरीदें. जमाना बदल चुका है. इंटरनेट की सुविधा है और हर कंपनी यहां पर उत्पाद के साथ मौजूद है. इतना ही नहीं कई ऐसी वेबसाइटें हैं जो आपको अलग कंपनियों के बीमा उत्पादों के बारे में जानकारी देती हैं. आप यहां पर यह चेक कर सकते हैं और फिर निर्णय ले सकते हैं कि कौन सी पॉलिसी खरीदनी है.
  12. यदि संभव हो तो बीमा कंपनी की साइट से जाकर ही बीमा पॉलिसी खरीदनी चाहिए इसका फायदा व्यक्ति को कम प्रीमियम के साथ मिलता है. 
  13. किसी भी बीमा पॉलिसी के साथ आप कुछ  अतिरिक्त कवर भी मिलता है. इसके लिए आपको मामूली सा चार्ज देना होता है. इसे राइडर कहते हैं. 
  14. बीमा पॉलिसी खरीदने के तुरंत बाद यदि आपको कभी ऐसा लगता है आपको यह नहीं दूसरी पॉलिसी लेनी चाहिए थी तब आप यह कर सकते हैं कि लुकिंग पीरड में पॉलिसी वापस करते हैं. कुछ मामूली से चार्ज काटने के बाद कंपनी आपका पैसा वापस कर देती है. 
  15. ऐसा करने के बाद आप अपनी पसंद की दूसरी पॉलिसी खरीद सकते हैं. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement