NDTV Khabar

विशेषज्ञों ने कहा, अगले साल 40,000 के स्तर पर पहुंच जाएगा सेंसेक्स

विशेषज्ञों के अनुसार इस साल सेंसेक्स 25 प्रतिशत चढ़ा है और नरेंद्र मोदी सरकार के सुधारों को आगे बढ़ाने के प्रयासों को देखते हुए ऐसा अनुमान है कि अगले साल भी सेंसेक्स 25 प्रतिशत तक रिटर्न देगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
विशेषज्ञों ने कहा, अगले साल 40,000 के स्तर पर पहुंच जाएगा सेंसेक्स

फाइल फोटो

नई दिल्ली: शेयर बाजार के निवेशकों के लिए साल 2017 जोरदार रहा. शेयरों ने निवेशकों को इस साल 25 प्रतिशत से अधिक का रिटर्न दिया. दूसरी ओर निवेश का सुरक्षित विकल्प माना जाने वाला सोना निवेशकों को डेढ़-दो प्रतिशत रिटर्न ही दे पाया. विशेषज्ञों के अनुसार इस साल सेंसेक्स 25 प्रतिशत चढ़ा है और नरेंद्र मोदी सरकार के सुधारों को आगे बढ़ाने के प्रयासों को देखते हुए ऐसा अनुमान है कि अगले साल भी सेंसेक्स 25 प्रतिशत तक रिटर्न देगा और यह 40,000 अंक के आसपास पहुंच जाएगा. वर्ष 2016 में अंतिम कारोबारी सत्र में बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 26,626.66 अंक पर बंद हुआ था, जबकि इन दिनों यह 33,400 अंक के स्तर पर है. इस प्रकार वर्ष के दौरान शेयर सूचकांक में 25 प्रतिशत की वृद्धि हुई. इसका मतलब है कि यदि किसी ने 1 जनवरी को शेयरों में एक लाख रुपये लगाए थे, तो आज की तारीख में उनके निवेश का मूल्य बढ़कर 1,25,000 रुपये हो गया. वहीं दूसरी ओर 31 दिसंबर, 2016 को सोना 28,984 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था जो कि इस समय 29,500 रुपये के आसपास चल रहा है. यानी वर्ष के दौरान सोने में निवेश पर रिटर्न डेढ़ से दो प्रतिशत तक ही मिला.

यह भी पढ़ें : गुजरात-हिमाचल प्रदेश चुनाव के नतीजों का दिखेगा असर, तय होगी बाजार की दिशा

विशेषज्ञों का कहना है कि शेयरों में निवेश पर हमेशा अधिक रिटर्न मिलने की गुंजाइश रहती है, लेकिन इसमें जोखिम भी अधिक होता है. वहीं सोने में निवेश एक सुरक्षित विकल्प है, लेकिन इसमें औसत रिटर्न शेयरों की तुलना में कम रहता है, लेकिन यह तय है कि इसमें घाटे की संभावना काफी सीमित होती है. ऐतिहासिक रूप से सोने को निवेश का सुरक्षित विकल्प माना जाता है, लेकिन यह भी सच है कि इसमें रिटर्न बहुत अधिक नहीं मिल पाता. हालांकि, पिछले साल सोने ने करीब 10 प्रतिशत रिटर्न दिया था. सोने की कीमतों पर गौर किया जाए, तो 2017 के दिसंबर महीने में यह 29,000 रुपये के दायरे में है. वहीं वर्ष, 2011 दिसंबर में भी यह 29,000 रुपये से ऊपर था.

यह भी पढ़ें : एसोचैम ने कहा, राजनीतिक कारकों का असर आगामी बजट पर भी होगा

टिप्पणियां
दिसंबर, 2012 में यह 31,000 रुपये से अधिक था. इस तरह देखा जाए, तो आज पांच साल बाद सोने का दाम नीचे चल रहा है. दिल्ली बुलियन एंड ज्वेलर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष विमल गोयल ने कहा कि सोने में निवेश पर कभी घाटा नहीं होता. हालांकि, सोने में उतार-चढ़ाव की गुंजाइश अधिक रहती है, इसलिए निवेशकों को स्थिति देखकर खरीद-बिक्री करनी चाहिए.

VIDEO : जानिए निवेश के बेहतरीन विकल्प के बारे में
गोयल ने कहा कि आज भी सोना ही निवेश का सुरक्षित विकल्प है. इसे पूरे साल के हिसाब से नहीं देखा जाना चाहिए, क्योंकि यह ऊपर-नीचे होता रहता है. आज बेशक सोना 29,500 रुपये है, लेकिन दो महीने पहले यह 31,500 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया था. ऐसे में स्मार्ट निवेशकों ने उस समय बिकवाली कर अच्छा रिटर्न कमाया था.
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement