NDTV Khabar

Bihar Board 10th Result 2019: BSEB 10वीं के रिजल्‍ट के दौरान माता-पाता करें ये काम

बिहार बोर्ड के 10वीं का रिज़ल्ट (Bihar School Examination Board) का इंतज़ार सिर्फ छात्रों को ही नहीं बल्कि उनके परिवार वालों को भी है. ऐसे में इन छात्रों के घरों में काफी गर्मा-गर्मी का माहौल है. इस दौरान माता-पाति को चाहिए कि वो कुछ बातों का जरूर ध्यान रखें,

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Bihar Board 10th Result 2019: BSEB 10वीं के रिजल्‍ट के दौरान माता-पाता करें ये काम

Bihar Board 10th Result 2019: रिजल्‍ट के दौरान माता-पाता करें ये काम

खास बातें

  1. बिहार बोर्ड 10वीं का रिज़ल्ट आज
  2. 16,60,609 स्टूडेंट्स ने भरा फॉर्म
  3. रिजल्‍ट के दौरान माता-पाता करें ये काम
नई दिल्ली:

बिहार बोर्ड के 10वीं का रिज़ल्ट (Bihar School Examination Board) आज चुका है. इस साल मैट्रिक परीक्षा (Bihar Board Matric Result) में 16,60,609 स्टूडेंट्स ने फार्म भरा. इनमें 8,37,075 छात्राएं व 8,23,534 छात्र हैं. सभी को 10वीं के नतीजों (BSEB 10th) का बेसब्री से इंतज़ार है. ये इंतज़ार सिर्फ छात्रों को ही नहीं बल्कि उनके परिवार वालों को भी है. ऐसे में इन छात्रों के घरों में काफी गर्मा-गर्मी का माहौल है. इस दौरान माता-पाति को चाहिए कि वो कुछ बातों का जरूर ध्यान रखें, ताकी 10वीं के रिज़ल्ट (Bihar Board 10th Result 2019) के दौरान बच्चे निराश ना हों. 

Bihar Board 10th Result 2019 LIVE: BSEB Matric Result, ऐसे चेक करें 10वीं का रिजल्ट

1. बच्चों के साथ रहें
बच्चे इस समय काफी घबरा रहे होंगे, चाहे वो इस बात को बताएं या नहीं. रिज़ल्ट (10th result) की घबराहट सबको होती है. इसलिए माता-पिता का फर्ज है कि वो बच्चे की इस घबराहट को कम करें, उनके साथ कूल बर्ताव करें. उनके साथ या आस-पास रहें. इससे बच्चे को आपका साथ मिलेगा और वो कुछ भी गलत कदम उठाने के बारे में सोचेगा नहीं. 


2. रोल नंबर और कोड साथ रखें
रिज़ल्ट आने से पहले ही बच्चे का रोल नंबर (10th Roll Number) और कोड (10th Code) साथ रखें, ताकी बच्चे को आपकी हेल्प मिल सके. नतीजे (Matric Result) आने वाले पर एकदम से हड़बड़ाहट ना हो, इसलिए पहले से तैयार रहें.

BSEB Matric Result 2019: ऐसे देख पाएंगे बिहार बोर्ड 10वीं रिजल्ट

3. दूसरे बच्चों से कम्पेयर ना करें
बच्चों का स्ट्रेस तब और बड़ जाता है जब उनके माता-पिता दूसरे बच्चों से उन्हें कम्पेयर करने लग जाते हैं. आप अपने बच्चे की काबिलियत पर भरोसा करें और उनका साथ दें. रिज़ल्ट (10th result) के समय और हताश ना करें बल्कि बूस्ट करें. 

4. निराश ना हों
बच्चे का रिज़ल्ट (10th result) जैसा भी आए, आप निराश ना हों (खासकर बच्चों के सामने). इससे बच्चा और मायूस होता है. इसके बजाय बच्चे को रिज़ल्ट के बाद घुमाएं या उन्हें ट्रीट दें.

5. बच्चे का हौसला बढ़ाएं
अगर मां-बाप बच्चे का हौसला नहीं बढ़ाएंगे तो और कौन करेगा! रिज़ल्ट का वक्त ही बच्चों का हौसला बढ़ाने का सबसे सही वक्त होता है. उनसे बात करें और समझाएं कि आगे और भी इम्तिहान हैं, अभी से निराश होने की ज़रूरत नहीं. 

टिप्पणियां

VIDEO: NDTV पर सीबीएसई 10वीं के टॉपर प्रखर मित्तल



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement