NDTV Khabar

CBSE ने स्कूलों को अगले 3 साल में जल सक्षम बनने को कहा

CBSE ने स्कूलों से अगले तीन वर्ष में अनिवार्य रूप से जल सक्षम बनने को कहा है और इस संबंध में जल प्रबंधन नीति लागू करने तथा नियमित रूप से जल आडिट कराने को कहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CBSE ने स्कूलों को अगले 3 साल में जल सक्षम बनने को कहा

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE)

नई दिल्ली:

देश में अनेक क्षेत्रों में जल संकट गहराने के बीच केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने स्कूलों से अगले तीन वर्ष में अनिवार्य रूप से जल सक्षम बनने को कहा है और इस संबंध में जल प्रबंधन नीति लागू करने तथा नियमित रूप से जल आडिट कराने को कहा है. बोर्ड की ओर से तैयार जल संरक्षण दिशानिर्देश में कहा गया है कि स्कूलों को जल से जुड़ी पुरानी सुविधाओं, उपकरणों को दुरूस्त बनाना चाहिए तथा सेंसर युक्त आटोमेटिक नल, व्यवस्थित टैंक स्थापित करना चाहिए. इसके साथ ही नियमित रूप से लीकेज की जांच करानी चाहिए एवं उनके रखरखाव की ठोस व्यवस्था करनी चाहिए.

सीबीएसई का यह दिशानिर्देश ऐसे समय में सामने आया है जब नीति आयोग की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली, बेगलूरू, चेन्नई, हैदराबाद सहित 21 शहरों में 2020 तक भूजल की स्थिति काफी गंभीर हो जायेगी. बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘स्कूलों के लिये जल सक्षम बनने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है. इसलिये स्कूलों के लिये जरूरी है कि वे अगले तीन वर्षो में जल सक्षम बने.'' उन्होंने कहा कि स्कूलों में प्रतिदिन काफी मात्रा में पानी की खपत होती है जो पीने के उद्देश्य के साथ कैंटीन, प्रयोगशाला, खेलों, मैदान, आदि में उपयोग में लाई जाती है.

ऐसे में स्कूलो को जल संरक्षण के महत्व को समझने की जरूरत है. बोर्ड ने स्कूलों से कहा है कि जल सक्षम स्कूल ‘संस्थागत जवाबदेही है, ऐसे में उन्हें स्कूल जल प्रबंधन समिति का भी गठन करना चाहिए जिसमें प्रशासक, शिक्षक, छात्र, कर्मचारी, अभिभावक और समुदाय के लोगों को भी जोड़ना चाहिए. समिति को जल के उपयोग पर नजर रखनी चाहिए और समय समय पर इसकी समीक्षा करनी चाहिए.


अन्य खबरें
CBSE ने विभिन्न पदों पर निकाली सीधी भर्ती, यहां जानिए हर डिटेल
CBSE Board Exam 2020: ये है सीबीएसई 10वीं साइंस पेपर का पैटर्न, यहां से डाउनलोड करें सैंपल पेपर

टिप्पणियां



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement