Mann Ki Baat: पीएम मोदी ने विद्यार्थियों को कहा- ''आजादी के 75 सालों पर अपने क्षेत्र के 75 नायकों के नाम खोजें''

Mann Ki Baat: पीएम मोदी ने कहा, ''तेजी से बदलते हुए समय और कोरोना के संकट काल में हमारे शिक्षकों के सामने भी समय के साथ बदलाव की एक चुनौती नजर आ रही है. मुझे खुशी है कि हमारे शिक्षकों ने इस चुनौती को न केवल स्वीकार किया, बल्कि उसे अवस में भी बदल दिया है.''

Mann Ki Baat: पीएम मोदी ने विद्यार्थियों को कहा- ''आजादी के 75 सालों पर अपने क्षेत्र के 75 नायकों के नाम खोजें''

PM Modi on Mann Ki Baat पीएम मोदी ने शिक्षक दिवस पर भी बात की.

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मन की बात (Mann Ki Baat) कार्यक्रम के दौरान देश की जनता को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने 5 सिंतबर को मनाए जाने वाले शिक्षक दिवस के बारे में भी बात की और सभी छात्रों को एक रिसर्च असाइमेंट भी दिया. अपने इस संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा, ''मेरे प्यारे देशवासियों, कुछ दिन बाद, 5 सितंबर को हम शिक्षक दिवस मनाएंगे. हम सब जब अपने जीवन की सफलताओं को देखते हैं तो हमें अपने किसी न किसी शिक्षक की याद भी जरूर आती है.''

उन्होंने कहा, ''तेजी से बदलते हुए समय और कोरोना के संकट काल में हमारे शिक्षकों के सामने भी समय के साथ बदलाव की एक चुनौती नजर आ रही है. मुझे खुशी है कि हमारे शिक्षकों ने इस चुनौती को न केवल स्वीकार किया, बल्कि उसे अवस में भी बदल दिया है.'' इसके साथ ही पीएम मोदी ने छात्र-छात्राओं को शिक्षक दिवस के मौके पर एक असाइमेंट दिया है. 

Newsbeep

उन्होंने कहा, ''आप जिस जिले में रहते हैं क्या वहां शताब्दियों तक आजादी की जंग चली है? आजादी इन जंगों में वहां किसी तरह की घटनाएं घटी हैं? इसे लेकर आप विद्यार्थियों से रीसर्च करवा सकते हैं. इसे आप स्कूल के हस्तलिखित अंक के रूप में तैयार कर सकते हैं. '' इसके साथ ही उन्होंने शिक्षकों को सुझाव देते हुए कहा, ''आप के शहर में स्वतंत्रता आन्दोलन से जुड़ा कोई स्थान हो तो छात्र छात्राओं को वहाँ ले जा सकते हैं.  किसी स्कूल के विद्यार्थी ठान सकते हैं कि वो आजादी के 75 वर्ष में अपने क्षेत्र के आज़ादी के 75 नायकों पर कवितायें लिखेंगे, नाट्य कथाएं लिखेंगे."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पीएम मोदी ने कहा, ''आपके प्रयास हमारे देश के लाखों Unsung Heroes को सामने लाएंगे, जो देश के लिए जिये और देश के लिए खप गए, जिनके नाम समय के साथ भुला दिए गए, ऐसे महान व्यक्तित्वों को अगर हम सामने लाएंगे और आजादी के 75 वर्ष में उन्हें याद करेंगे तो उनको ये हमारी सच्ची श्रद्धांजली होगी. ''