दिल्ली की झुग्गियों में रहने वाली लड़की ने CBSE 12वीं में हासिल किए 96%, घर चलाने के लिए करती है सिलाई का काम

सीलमपुर के जेजे क्लस्टर में अपनी मां, तीन बहनों और भाई के साथ एक छोटे से  60/70 स्केयर फुट के कमरे में रहने वाली फाजिया (Fazia) ने वह कर दिखाया है, जो बड़े-बड़े आलीशान घरों में रहने वाले भी नहीं कर पाते हैं.

दिल्ली की झुग्गियों में रहने वाली लड़की ने CBSE 12वीं में हासिल किए 96%, घर चलाने के लिए करती है सिलाई का काम

सीलमपुर के जेजे क्लस्टर में अपनी मां, तीन बहनों और भाई के साथ एक छोटे से  60/70 स्केयर फुट के कमरे में रहने वाली फाजिया (Fazia) ने वह कर दिखाया है, जो बड़े-बड़े आलीशान घरों में रहने वाले भी नहीं कर पाते हैं. तमाम मुश्किलों और कठिनाइयों के बावजूद 18-वर्षीय फाजिया ने सीबीएसई 12वीं बोर्ड परीक्षा (CBSE 12th Board Exams 2020) में 96 फीसदी नंबर हासिल कर अपने परिवार का नाम रोशन किया है. बता दें कि फाजिया के दिन की शुरुआत रोज़ाना घर के काम करने से होती है. घर के काम करने के बाद वह अपने परिवार की सहायता के लिए सिलाई का काम भी करती है. फाजिया का सपना टीचर बनना है.

फाजिया ने ANI से बात करते हुए कहा, "जब मैं 12वीं क्लास में पहुंची थी, तो मैं बहुत ज्यादा घबराई हुई थी. मुझे सपोर्ट करने के लिए मेरे पास न कोई शिक्षक था और ना कोई ट्यूशन. वे दिन बहुत मुश्किल भरे थे, क्योंकि मुझे मेरे परिवार और मेरी पढ़ाई दोनों को मैनेज करना होता था.  मैं एक झुग्गी में रहती हूं, जहां पढ़ाई का वातावरण नहीं मिल पाता है. यहां हमेशा शोर रहता है. इसलिए मैं सिर्फ रात में ही पढ़ाई  कर पाती थी."

पिता फुटपाथ पर बेचते हैं जूते-चप्पल, बेटी ने 12वीं में 97% के साथ किया टॉप, बनना चाहती हैं Doctor

फाजिया की मां सकीना को कैंसर है. उन्होंने अपनी बेटी की इस कामयाबी पर कहा- "मैं उसके लिए बहुत खुश हूं. उसने मेरा नाम रोशन किया है. हम जिन स्थितियों में रहते हैं, ऐसे में उसका रिजल्ट हमारे लिए रोशनी का जरिया है. उसके 
स्वर्गीय पिता और मैं हमेशा अपने बच्चों को पढ़ाना चाहते थे. उसका भाई परिवार की मदद के लिए एक दैनिक मजदूर के तौर पर काम करता है. फाजिया भी बहुत काम करती है.  मैं इश्वर से प्रार्थना करती हूं कि उसके तमाम सपने पूरे हों. "

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि फाजिया सलवार सूट सिलने के लिए 120 रुपये लेती हैं और इस तरह वह 2,000 रुपये से लेकर 2,500 रुपये तक कमाती हैं. फाजिया को ज्योग्राफी (Geography) में काफी दिलचस्पी है और वह ज्योग्राफी की टीचर बनना चाहती हैं. उन्होंने कहा- "ज्योग्राफी की वजह से नई-नई जगहों के बारे में जानकारी मिली. ये हमें उन जगहों के बारे में ज्ञान देती है, जहां हम कभी गए ही नहीं हैं." 

फाज़िया जो कभी भी उत्तर पश्चिमी दिल्ली के बाहर किसी भी स्थान पर नहीं गई हैं वह भारत और सिक्किम के स्थानों को देखना चाहती हैं.