संघर्ष और सफलता के प्रतीक हैं प्रदीप द्विवेदी, कुछ ऐसी है UPSC में कामयाबी का परचम लहराने की कहानी

प्रदीप ने हर मुकाम पर कामयाबी हासिल की है जिसके पीछे उनकी लगन और लक्ष्य भेदने की स्पष्ट रणनीति रही है.

संघर्ष और सफलता के प्रतीक हैं प्रदीप द्विवेदी, कुछ ऐसी है UPSC में कामयाबी का परचम लहराने की कहानी

प्रदीप कुमार द्विवेदी

नई दिल्ली:

इस बार सिविल सर्विसेज परीक्षा के आए नतीजों में 74वें रैंक पर आए प्रदीप कुमार द्विवेदी कई मायनों में ख़ास है. पेशे से इलेक्ट्रिकिल इंजीनियर हैं, परीक्षा का माध्यम अंग्रेजी और वैकल्पिक विषय  के तौर पर इन्होंने हिंदी साहित्य को चुना. प्रदीप ने पिछली बार 491वां स्थान हासिल किया था. बुंदेलखंड के सबसे पिछड़े इलाकों में शुमार बारीगढ़ से शुरु इस सफर में प्रदीप ने हर मुकाम पर कामयाबी हासिल की है जिसके पीछे उनकी लगन और लक्ष्य भेदने की स्पष्ट रणनीति रही है. उनका मानना है कि तैयारी का पहला कदम सिलेबस और परीक्षा के पैटर्न देखने का होना चाहिए.

एनडीटीवी से अपनी बातचीत में प्रदीप द्विवेदी ने बताया कि वे एनसीईआरटी किताबें बुनियाद की तरह हैं, प्रदीप का मानना है कि मेंस और पीटी एक दूसरे से जुड़े हैं लिहाजा तैयारी की शुरुआत मेंस यानी मुख्य परीक्षा को ध्यान मे रखकर की जानी चाहिए. वे परीक्षा की तैयारी के लिए वैकल्पिक विषय के चुनाव को बेहद अहम मानते हैं, जिसका फैसला एनसीआरईटी की किताबें पढ़ने के बाद अपनी दिलचस्पी को देखते हुए करें.

3toq9b3oप्रदीप कुमार द्विवेदी अपने दोस्तों के साथ

प्रदीप कहते हैं कि नंबर आने का कोई तय पैटर्न नहीं है लेकिन जवाब लिखने के पहले सवाल के हर पहलू को अच्छे से जांच परख लें और उसके मुताबिक ही अपने उत्तर लिखने चाहिए, यही बेहतर रणनीति है. प्रदीप द्विवेदी की इस कामयाबी से उनके पूरे परिवार और आसपास के इलाकों में बेहद खुशी है, खुद प्रदीप भी अपनी इस शानदार सफलता से खुश हैं, वे फिलहाल भारतीय रक्षा संपदा सेवा में ट्रेनिंग ले रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अन्य खबरें
Exclusive: UPSC में देश भर में 5वीं रैंक और लड़कियों में अव्वल रहने वाली सृष्टि ने बताया अपनी सफलता का मंत्र
Exclusive: UPSC टॉपर Kanishak Kataria ने अपनी सफलता पर NDTV से की खुलकर बात

वीडियो-