NDTV Khabar

अब कोच रमेश पोवार ने किया मिताली राज पर पलटवार, लगाई 'आरोपों की झड़ी'

पोवार ने बीसीसीआई को भेजी रिपोर्ट मे कहा कि ग्रुप में प्वाइंट्स टेबल में शीर्ष पर रहने के बाद टीम मीटिंग में बतौर सीनियर मिताली ने बमुश्किल ही कोई सुझाव दिया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब कोच रमेश पोवार ने किया मिताली राज पर पलटवार, लगाई 'आरोपों की झड़ी'

रमेश पोवार के साथ मिताली राज

खास बातें

  1. मिताली ने विश्व कप के दौरान ब्लैक मेल किया, धमकी दी-पोवार
  2. मिताली का रवैया टीम भावना के अनुरूप नहीं रहा
  3. पोवार ने उठाए मिताली की स्किल और फिटनेस पर सवाल
मुंबई:

हाल ही में विंडीज में खत्म हुए छठे महिला टी-20 विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल जैसे मुकाबले में दिग्गज मिताली राज को टीम से बाहर बैठाने पर पूर्व क्रिकेटरों और प्रशंसकों के निशाने पर आए कोच रमेश पोवार (Coach Ramesh Powar hits back at Mithali raj) ने अब मिताली राज पर पलटवार किया है. रमेश पवार (Ramesh Powar put allegations against Mithali Raj) ने मामले पर पहली बार मुंह खोलते हुए मिताली राज पर कई आरोप लगाए हैं. उन्होंने मिताली राज के बारे में टीम में फूट डालने के अलावा कोचों पर दबाव डालने और ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया है. रमेश पोवार ने ये तमाम बातें बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी और जनरल मैनेजर सबा करीम को भेजी दस पेज की अपनी रिपोर्ट में कही हैं. रमेश पोवार ने टीम की हर सदस्य के बारे में अपनी रिपोर्ट दी है. लेकिन उनकी आधी से ज्यादा रिपोर्ट मिताली राज पर ही केंद्रित रही है. इससे पहले मिताली राज ने सीओए को ई-मेल लिख खुद को कोच रमेश पोवार द्वारा अपमानित किए जाने का आरोप लगाया था

पोवार ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि मिताली को टीम से पहले अपने हितों के बारे में सोचना बंद करना चाहिए. उम्मीद करता हूं कि वह बड़े नजरिए के साथ सोचेंगी और भारतीय महिला क्रिकेट की बेहतरी के लिए काम करेंगी. पोवार ने कहा कि मिताली ने अपनी भूमिका की अनदेखी करते हुए निजी उपलब्धियों के लिए बल्लेबाजी की. इस कारण बैटिंग में एक फ्लो या लय नहीं बन सकी. और इससे बाकी दूसरे बल्लेबाजों पर अतिरिक्त दबाव बढ़ गया. पोवार ने कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए मैच में भी केवल चयनकर्ताओं के दबाव के कारण उनसे पारी की शुरुआत कराई गई. यह भी पढ़ें: डायना एडुलजी की दो-टूक, मिताली राज से जुड़े विवाद में खुद को शामिल नहीं करेगी COA

पोवार ने खुलासा करते हुए कि टीम में सकारात्मक माहौल बनाए रखने के लिए टूर सेलेक्टर के दबाव के कारण हमने पाकिस्तान के खिलाफ मिताली राज से पारी की शुरुआत कराई. मिताली राज धमकी देती रहीं कि अगर उनसे पारी की शुरुआत नहीं कराई गई, तो वह वापस घर लौट जाएंगी. पोवार ने रिपोर्ट में लिखा कि पाकिस्तान के खिलाफ मैच के बाद उनका एक अलग ही रवैया था. उन्होंने कुछ चुनिंदा खिलाड़ियों के साथ अपना ग्रुप बना लिया और टीम से दूर बैठने लगीं. बतौर कोच मैं इस बात से बहुत ही निराश और दुखी था कि मिताली जैसी लीजेंड खिलाड़ी टीम को दो ग्रुप में बांट रही थीं. 


यह भी पढ़ें:  'कुछ ऐसे' मिताली राज की मैनेजर हरमनप्रीत पर जमकर बरसीं

पोवार ने बीसीसीआई को भेजी रिपोर्ट मे कहा कि ग्रुप में प्वाइंट्स टेबल में शीर्ष पर रहने के बाद टीम मीटिंग में बतौर सीनियर मिताली ने बमुश्किल ही कोई सुझाव दिया. वह टीम की योजना के अनुसार खुद को नहीं ढाल सकीं और उन्होंने अपने हितों के लिए उन्हें दी गई भूमिका की अनदेखी की. अभ्यास मैचों के दौरान मिताली तेजी से रन बनाने के लिए संघर्ष कर रही थीं क्योंकि विंडीज की पिच धीमी और नीची थीं. अपनी सीमित योग्यता के कारण उन्होंने झुक पाने और स्ट्रोकों को खेलने में  समस्या आ रही थी.   मिताली के प्रैक्टिस मैचों में तेज रन गति से बल्लेबाजी न कर पाने के इरादे को देखते हुए ही हमने तानिया भाटिया से पारी की शुरुआत कराने का फैसला लिया. हमने न्यूजीलैंड के खिलाफ तानिया और हेमलता का पावर-प्ले में इस्तेमाल किया. वहीं मिताली ने पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले पारी शुरू न कराने पर वापस भारत लौटने की धमकी दी. लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ भी मिताली ने छठे से लेकर 15वें ओवर के बीच 24 गेंदों पर सिर्फ 25 रन बनाए. इससे टीम की बैटिंग ईकाई भ्रमित और नाराज थी. आयरलैंड जैसी कमजोर टीम के खिलाफ भी मिताली ने 56 खेलकर 51 रन बनाए.  

VIDEO: जानिए कि टीृ20 टीम से धोनी के ड्रॉप होने पर क्रिकेट पंडितों की राय क्या है. 

कुल मिलाकर रमेश पोवार ने अपने दस पेज की रिपोर्ट में मिताली राज के रवैये सहित कई बातों पर सवाल उठाए हैं. अब देखने की बात यह होगी कि दोनों पक्षों को सुनने के बाद बीसीसीआई आगे क्या फैसला लेता है. 

टिप्पणियां

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement