NDTV Khabar

राहुल द्रविड़ के भारतीय अंडर-23 टीम को कोचिंग देने की संभावना नहीं, इस टीम से जुड़ेंगे...

69 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
राहुल द्रविड़ के भारतीय अंडर-23 टीम को कोचिंग देने की संभावना नहीं, इस टीम से जुड़ेंगे...

राहुल द्रविड़ आईपीएल टीम के भी कोच हैं (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. 25 मार्च से ढाका में खेली जाएगी एमर्जिंग ट्रॉफी
  2. दिल्ली डेयरडेविल्स से भी जुड़े हुए हैं राहुल द्रविड़
  3. द्रविड़ की कोचिंग में जूनियर टीमों ने अच्छा प्रदर्शन किया है
नई दिल्ली: टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और 'द वॉल' के नाम से मशहूर रहे राहुल द्रविड़ ने जब से भारत की जूनियर क्रिकेट टीमों की कोचिंग की कमान संभाली है, तब से उनके प्रदर्शन में खासा सुधार देखने को मिला है. वैसे अनिल कुंबले से पहले द्रविड़ से टीम इंडिया का कोच बनने की बात भी कही गई थी, लेकिन उन्होंने उससे इंकार कर दिया था. इस बीच खबर है कि उन्हें कोई नई भूमिका भी दी जा सकती है, लेकिन अभी कुछ भी पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता है. फिलहाल हम बात वर्तमान परिदृश्य की करते हैं. भारत-ए और अंडर-19 कोच राहुल द्रविड़ उस अंडर-23 टीम का भार नहीं संभालेंगे जो बांग्लादेश में 25 मार्च से पांच अप्रैल तक होने वाली एशियाई क्रिकेट परिषद की एमर्जिंग ट्रॉफी में भाग लेगी. इस बीच वह अलग रोल में होंगे...

आमतौर पर राहुल द्रविड़ सभी जूनियर राष्ट्रीय टीमों को कोचिंग देते रहे हैं, लेकिन बीसीसीआई ने उनको कुछ समय तक के लिए इन जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया है. बोर्ड पांच अप्रैल से शुरू होने जा रहे आईपीएल को देखते हुए द्रविड़ को उनकी फ्रेंचाइजी दिल्ली डेयरडेविल्स से जुड़ने की अनुमति देगा, जो 28 मार्च से राजधानी में अपना आईपीएल शिविर शुरू करेगी.

तकनीकी रूप से द्रविड़ अपनी आईपीएल फ्रेंचाइजी से जुड़ने के लिए अधिकार क्षेत्र के अंदर है क्योंकि सभी भारतीय सहयोगी स्टाफ का अनुबंध 31 मार्च को खत्म हो जाएगा, जबकि एमर्जिंग ट्रॉफी पांच अप्रैल को समाप्त होगी. अप्रैल और मई दो महीने हैं जब कोई भी सहयोगी स्टाफ - भले ही कोच, फिजियो या ट्रेनर हो - सभी अपनी पेशेवर विशेषज्ञता अन्य खेल संस्थाओं या आईपीएल फ्रेंचाइजी को दे सकते हैं.

आईपीएल पांच अप्रैल से शुरू होगा और बीसीसीआई ने सभी आईपीएल खिलाड़ियों को अपने एमर्जिंग कप से छूट दे दी है. एसीसी टूर्नामेंट में टेस्ट खेलने वाले देश के लिये चार सीनियर अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को शामिल करने का प्रावधान है लेकिन आईपीएल के करीब होने से बीसीसीआई अपने आईपीएल अनुबंध रखने वाले अपने शीर्ष खिलाड़ियों को इसमें भाग लेने की अनुमति नहीं देगा.

बीसीसीआई में विश्वस्त सूत्रों के अनुसार पूरी संभावना है कि राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी के कोच डब्ल्यू वी रमन और नरेंद्र हिरवानी 10 दिवसीय सीमित ओवरों के टूर्नामेंट में जिम्मेदारी संभालेंगे.

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘एमर्जिंग टीम एनसीए के अधिकार क्षेत्र के अंदर आती है. द्रविड़ के इस ढाका प्रतियोगिता में जाने की संभावना बहुत कम है. हमारे पास एनसीए के चार कोच हैं और इनमें से ही हम भारत अंडर-23 टीम के लिए कोच का चयन करेंगे.’ टूर्नामेंट के लिए केवल उन्हीं घरेलू खिलाड़ियों को चुना गया है जिनके पास आईपीएल अनुबंध नहीं हैं. पृथ्वी शॉ, अभिमन्यु ईश्वरन, मयंक डागर भारतीय क्रिकेट की अगली पीढ़ी हैं.

बाबा अपराजित घरेलू सत्र में इतना बढ़िया नहीं कर सके लेकिन फिर भी टीम की अगुवाई करेंगे जबकि उनके भाई इंद्रजीत लंबे प्रारूप में 600 से ज्यादा रन जुटाने के बावजूद टीम में जगह नहीं बना सके. टूर्नामेंट में ज्यादातर उन खिलाड़ियों को रखा जाता है जिन्होंने विजय हजारे ट्राफी के ग्रुप लीग चरण के दौरान अच्छा प्रदर्शन किया हो. ऋषभ पंत और ईशान किशन को टूर्नामेंट के लिये इसलिये नहीं चुना गया क्योंकि वे अपनी संबंधित आईपीएल टीमों में टूर्नामेंट से पहले लगने वाले शिविर में रहेंगे. पिछली बार हुई एमर्जिंग ट्राफी में भारत ने सूर्य कुमार यादव की कप्तानी में टूर्नामेंट जीता था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement