NDTV Khabar

दक्षिण अफ्रीका दौरे को लेकर रवींद्र जडेजा बोले, 'मैं इस बात को लेकर जरा भी चिंतित नहीं हूं..'

टीम इंडिया के लेग स्पिनर रवींद्र जडेजा इस बात को लेकर परेशान नहीं होना चाहते कि दक्षिण अफ्रीका दौरे में टीम इंडिया की प्‍लेइंग इलेवन में हिस्‍सा बनाने वाला एक स्पिन गेंदबाज कौन होगा.

33 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
दक्षिण अफ्रीका दौरे को लेकर रवींद्र जडेजा बोले, 'मैं इस बात को लेकर जरा भी चिंतित नहीं हूं..'

नागपुर टेस्‍ट में श्रीलंका की पहली पारी के दौरान रवींद्र जडेजा ने तीन विकेट लिए (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. वहां जडेजा, अश्विन में से कोई एक ही होगा प्‍लेइंग 11 का हिस्‍सा
  2. जडेजा बोले, उन बातों पर नहीं सोचता जो मेरे नियंत्रण में नहीं हैं
  3. मेरा ध्‍यान हमेशा टीम के लिए अच्‍छा प्रदर्शन करने पर होता है
नागपुर: टीम इंडिया के लेग स्पिनर रवींद्र जडेजा इस बात को लेकर परेशान नहीं होना चाहते कि दक्षिण अफ्रीका दौरे में टीम इंडिया की प्‍लेइंग इलेवन में हिस्‍सा बनाने वाला एक स्पिन गेंदबाज कौन होगा. दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट मैचों में पूरी उम्मीद है कि भारत एक ही स्पिनर को मैदान पर उतारेगा. इसके बावजूद, जडेजा इस बात से चिंतित नहीं हैं कि वह रविचंद्रन अश्विन को पीछे छोड़कर यह स्थान हासिल कर पायेंगे या नहीं. जब जडेजा से पूछा गया कि अगर वह कप्तान हों तो वह दक्षिण अफ्रीका टेस्ट के लिए अंतिम एकादश में खुद और अश्विन में से किसे चुनते तो जडेजा ने उत्तर दिया, ‘ये भी कोई पूछने कि बात है, उनके इस जवाब से सभी हंसने लगे. अगर मैं कप्तान रहूंगा तो मैं गेंद किसी को भी नहीं दूंगा (हंसते हुए). मैं एक छोर से गेंदबाजी करता रहूंगा. ’ उन्होंने हालांकि कहा, ‘यह सब टीम के संतुलन पर निर्भर करता है और इसमें किसकी जरूरत है. विदेशी दौरों में कभी-कभी, हम देखते हैं कि प्रतिद्वंद्वी टीम में ज्यादा बाएं या दाएं हाथ के बल्लेबाज हैं तथा इसी के अनुसार टीम संयोजन बनाया जाता है. ’वह इस बात से वाकिफ हैं कि अश्विन और कुलदीप यादव में से किसी एक को अंतिम एकादश में रखा जाएगा तो जडेजा ने कहा कि वह सिर्फ एक ही चीज पर नियंत्रण रख सकते हैं और प्रदर्शन करना ही उनके हाथ में है. उन्होंने कहा, ‘मैं सिर्फ नियंत्रण रखने वाली चीज पर ही नियंत्रण रख सकता हूं. जब मुझे मौका मिलता है तो मैं अच्छा करने की कोशिश करता हूं. जो चीज मेरे हाथ में नहीं है, उसके बारे में सोचने का कोई मतलब नहीं है. अगर मुझे दक्षिण अफ्रीका में खेलने का मौका मिलता है तो मैं अच्छा करने का प्रयास करूंगा. ’

वीडियो: हाल ही में संन्‍यास लेने वाले आशीष नेहरा से खास बातचीत जडेजा ने कहा, ‘जब मुझे पिछली बार मौका मिला था तो मैंने दूसरा टेस्ट खेला था जबकि अश्विन ने पहला टेस्ट खेला था. तभी मैंने कहा कि टीम का संयोजन प्रतिद्वंद्वी टीम के संयोजन पर निर्भर करेगा.’जडेजा इस बात से संतुष्ट थे कि वह उस पिच पर अनुशासित गेंदबाजी कर सके जिस पर गेंदबाजों को ज्यादा मदद नहीं मिल रही थी. उन्होंने कहा, ‘कोलकाता में वहां के विकेट से काफी मदद मिल रही थी इसलिए आप लोगों ने सोचा होगा कि हर गेंद पर एक विकेट मिल जाएगा लेकिन यहां ऐसा नहीं था क्योंकि इस विकेट पर घास तो है लेकिन ऐसा उछाल और स्विंग नहीं था जैसा कोलकाता में बादलों से भरे मौसम में था. इसलिये हमें ज्यादा मदद नहीं मिली लेकिन दोनों (इशांत और यादव) ने पहले सत्र में काफी अच्छी गेंदबाजी की. ’ अश्विन राउंड द विकेट गेंदबाजी करते हुए दिखे, तभी उन्होंने दिनेश चांदीमल को एलबीडब्‍ल्‍यू आउट किया जो रिवर्स स्विप खेलते हुए आउट हुए और फिर उन्होंने कोण लेती गेंद से दासुन शनाका को आउट किया. जडेजा ने कहा, ‘अगर स्पिनरों के लिये विकेट में कुछ नहीं है तो कुछ अलग आजमाना अच्छा है. ओवर द विकेट से या फिर राउंड द विकेट गेंद फेंको, बस मौके बनाने की कोशिश करो. वह बस यही कर रहा था. ’


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement